Wednesday, October 25, 2017

Published 9:03 PM by with 0 comment

ब्लू फिल्म देखकर मस्त चोदा हरामी ने

आप यकीन करें या न करें ये मेरे जीवन के सच्ची कहानी है!
मेरे पापा बहुत ही स्वार्थी हैं और हम तीन बहिने और एक भाई हैं। रिटायर होने के बाद वो हमारे दो कमरों के मकान के एक कमरे में ख़ुद रहने लगे और अपना सारा पैसा एक बक्से में चार चार ताले लगा के रखते थे यहाँ तक के मम्मी को घर घर जाकर काम करके खर्चा चलाना पड़ता था। मैं बहुत चुस्त थी, मासूम थी खेल कूद में तेज थी.
नागपुर में हुई हाफ़ मेराथन में मैंने भाग लिया और ४२वें स्थान पर रही, लड़कियों में १०वें स्थान पर रही। इसी वजह से मुझे जवाहर नवोदय विद्यालय में शारीरिक शिक्षा की अध्यापिका की नौकरी मिल गई। मेरी पोस्टिंग मणिपुर में हुई। उसके एक-डेढ़ साल के बाद मुझे केंद्रीय विद्यालय से शारीरिक शिक्षा की अध्यापिका की नौकरी का प्रस्ताव मिला और पोस्टिंग मिली उदयपुर, राजस्थान। मेरी खुशी की कोई सीमा नहीं थी। मैंने सोचा था कि अब पहले अपनी छोटो बहिन की शादी करूंगी, फ़िर भाई बहिन को पढ़ाते हुए कोई अच्छा सा लड़का मिल गया तो शादी कर लूंगी।
मेरे ही स्कूल के प्राईमरी विभाग में एक अध्यापिका थी, उसका लड़का अतुल शादी शुदा था और दो बच्चों का बाप भी। लेकिन किसी प्राइवेट स्कूल में पार्ट टाइम नौकरी करता था। मैंने भावुकता में अपनी कहानी उस अध्यापिका को बता दी थी मुझे मालूम नहीं था कि वो उसका फायदा उठाने के लिए अपनी लड़के को मेरे पीछे लगा चुकी थी। धीरे धीरे अतुल ने मुझसे दोस्ती करनी शुरू कर दी। वो मेरे घर आता था और बाज़ार से अच्छी अच्छी चीजें लाता था खाने की।
क्योंकि मैं उदयपुर में अकेली ही मकान किराये पर लेकर रहती थी तो भी वो जब भी आता था बड़े अच्छे से पेश आता था। जिससे मुझे उसमें एक अच्छे दोस्त के गुण दिखने लगे। मुझे सेक्स के बारे में कुछ पता नहीं था।
एक दिन मैं मकान में अन्दर से कुन्डी लगाना भूल गई और स्कूल से आते ही नहाने चली गई, नहा कर तौलिया लपेट कर ही बाहर आ गई, बाहर आते ही अतुल को देख कर चौंक गई। और वापिस बाथरूम में चली गई। वहीं से अतुल से कहा की कमरे में बिस्तर पर रखे मेरे कपड़े मुझे दे दो। वो कपड़े लेकर आया और जैसे ही मैंने कपड़े लेने के लिए बाथरूम से हाथ बाहर निकाला उसने मेरा हाथ पकड़ लिया और कपड़ों के साथ बाथरूम में आ गया। मैं रो पड़ी मेरा रोना देख के वो दोनों हाथों से मेरे आँसू पौंछने लगा और फ़िर मुझे चुप करा के बाहर चला गया।
मैं कपड़े पहन कर बाहर आई। शर्म के मारे मैं अतुल से आँखें नहीं मिला पा रही थी। उसने प्यार से मुझे अपनी बाहों में भर लिया और मेरे गालों पर चूम लिया। मैं शरमा के रसोई में चली गई और दो कप चाय बना के ले आई। अतुल गरम गरम पकौड़े लेकर आया था हमने चाय पकौड़े खाए और फ़िर फ़िल्म देखने गए।
फ़िल्म देखते देखते अतुल के हाथ मेरे मम्मों पे फिसलने लगे मैंने झटके से उसके हाथ हटा दिए। लेकिन वह बार बार जब मेरे मम्मों परहाथ लगाने लगा तो मुझे भी मजा आने लगा। फ़िर उसने मेरी पैन्ट के ऊपर से मेरी जांघें भी सहलाई, मुझे बड़ा मजा आने लगा था मैं समझ नहीं पा रही थी।
रास्ते में वापिस घर जाते हुए मैं उसके स्कूटर पे उससे चिपक के बैठी थी। वो मुझे घर छोड़ के चला गया और बोला कल मैं एक कैसेट लेकर आऊंगा तब तुम सब समझ जोगी। असली मजा क्या होता है।
उसके बाद अगले दिन वह ब्लू फ़िल्म की कैसेट लेकर आया और मुझे बोला- आओ इसका मजा लें।
मैं स्कूल से आकर नहा कर केवल स्कर्ट और स्लीवलेस टॉप पहने हुई थी। मैंने कहा- क्या पियोगे?
उसने कहा- आज तो मैं बियर लाया हूँ और साथ में गर्म गर्म पकौड़े और उबले हुए अंडे भी।
मैंने थोड़ा शरमाते हुए पूछा- ये ब्लू फ़िल्म क्या होती है?
उसने कहा- तुम प्लेयर में लगाओ तो ख़ुद ही समझ जाओगी।
मैंने कहा- तुम इसे लगाओ, मैं अंडे और पकौड़े प्लेट में डाल के लाती हूँ।
हम दोनों सोफे पे बैठ के फ़िल्म देखते हुए बियर के सिप लेने लगे। एक ग्लास ख़त्म हुआ तब तक फ़िल्म में एक लड़का और एक लड़की नंगे होकर एक दूसरे का भरपूर मजा लेने लगे थे मैंने पहली बार किसी लड़के के लण्ड को देखा था वो भी खड़ा और तना हुआ। लड़की उसे मुंह में लेकर चूस रही थी। मैंने शर्म से आँखे बंद करली अचानक अतुल को शरारत सूझी, उसने बियर से भरा एक गिलास मेरे टॉप पे डाल दिया।
मैंने घबरा कर टॉप उतार दिया और बाँहों से मेरे ब्रा में कसे हुए बूब्स को ढकने का प्रयास किया। अतुल ने मेरे दोनों हाथ खोल दिए और मेरे होठों पे अपने होठ रख दिए मेरे होठों पे किसी मर्द का पहला चुम्बन पा कर मैं सिहर गई। लेकिन मुझे अच्छा लगा था।
मैंने अतुल को धक्का दिया तभी देखा सामने टीवी पर लड़का अपना लण्ड लड़की की चूत में डाल कर धीरे धीरे धक्के लगाने लगा था और लड़की ऊ उउ हा अआः या …। या..। फक मी फक मी फास्टर ..ऊऊ ओह्ह ऊ ओह्ह आवाजें निकाल रही थी।
अतुल ने बियर का एक एक गिलास और बनाया और हमने झटपट बियर ख़त्म की और स्नैक्स भी। अब तक मुझमें भी नारी सुलभ उत्तेजना भर चुकी थी। फ़िर भी मैं अतुल को ही पहल करने देना चाहती थी। उसने देर नहीं की, पहले उसने अपने पैंट और शर्ट उतारी और मात्र अंडरवियर में मेरे पास आ कर मुझे सोफे पर लेटा दिया और मेरे पूरे बदन पे चुम्बनों की बौछार कर दी।
मैं मस्ती से भर उठी…टीवी पे भी चुदाई तेज हो गई थी उस लड़की की आवाजें सुन कर मैंने भी अतुल से कहा ऊ ऊऊ ओह्ह डीयर अतुल मुझे जी भर के चोद दो आज।
अतुल तो तैयार था उसने मेरी ब्रा हटाई और कस के दायें हाथ से मेरे बाएं बोबे को मसलने लगा और अपनी होठों से मेरे दायें बोबे को चूसने लगा मेरा मजा बढ़ता ही ज़ा रहा था।
टीवी में चुदाई का एक सीन ख़त्म हो चुका था और लड़की ने लड़के के लण्ड का सारा रस अपने मुहँ में ले लिया था।
मेरे बदन को चूमता हुआ अतुल मेरी जांघों के बीच पहुँच गया था उसने मेरी पैंटी भी हटा दी थी और मेरी चूत को चाटने लगा था, कभी मेरे दाने को मुँह में लेकर जोर से चूस लेता था और मैं चूतड़ उठा उठा के उसके भीतर के मर्द को उकसा रही थी- हाँ हाँ यूँ ही राजा बहुत मजा आ रहा है !हीई ईइ ऊ ओह ऊऊऊ उह्ह् आ आआ आअ.।
तभी उसने मुझा खड़ा किया और मेरे मुँह में अपना लण्ड देकर बोला इसे चूसो मेरे ज़ान! इतनी होट केंडी तुमने आज तक नहीं चूसी होगी।
सच उसके लण्ड का सुपाड़ा बहुत मोटा था। एक बार तो मुझे थोड़ा ख़राब लगा, फ़िर देखा टीवी में लड़की ने फ़िर से लड़के के लण्ड को चूसना शुरू कर दिया था। उसे देखकर मैं भी फ़िर से हिम्मत जुटा कर उसका लण्ड थोड़ा थोड़ा मुँह में लेने लगी। उसने मेरे बाल पकड़ कर एक जोर का धक्का दिया और उसके पूरा लण्ड मेरे मुँह में गले तक चला गया। मैं चीखना चाहती थी पर आवाज मुँह में ही दब गई। थोड़ी देर मुँह में लण्ड आगे पीछे करने के बाद उसने मुझे सीधा लेटाया और अपने लण्ड का सुपाड़ा मेरी गर्मागर्म चूत पे रख के बोला- अब आँखे बंद कर लो रानी अब जो मजा आएगा वो तुम्हे स्वर्ग का आनंद देगा। मैंने सचमुच आँखे बंद कर ली उसने धीरे से मेरे दोनों चूतड़ों को पकड़ा और धीरे धीरे दो तीन धक्के दिए तब तक पूरा लण्ड अन्दर चला गया था, थोड़ा खून भी निकला था। मैं दर्द से छटपटा रही थी उसने
मुझे कस के पकड़ रखा था और मेरे होंठों पे अपने होंठ रख दिए थे।
कुछ देर टीवी में ध्यान लगाया। उन दोनों की दूसरी चुदाई देखकर और लड़की को हँसते हुए मजा लेते देख कर मेरे दर्द भी कम हो गया और फ़िर अतुल ने रफ्तार पकड़नी शुरू कर दी। साथ ही बीच में वह मेरे बोबे दबा रहा था, चूस रहा था और जोर जोर से धक्के लगा रहा था।
मेरे मुँह से आह ..ऊउह् से हम…। ह्ह्हह्ह्ह्ह्ह्ह्हूऊम्म्म्म्म्म्माआआअ./..। नुऊंनंह। य्य्याआआआआ द्द्द्दीईईईर्र्र्र्र्र्र्र्र्र चोदो ! आवाजें निकल रही थी
थोड़ी देर और धक्के लगाने के बाद अतुल ने मुझे घोड़ी बना लिया और फ़िर अपना लण्ड मेरी चूत में पीछे से डाल के धक्के लगाने लगा। मुझे अब ज्यादा मजा आ रहा था मैं जोर जोर से चिल्लाने लगी- ठीक है! हाँ यार! इसी तरह चोदो ! फाड़ डालो मेरी चूत को।
वह बोला तुम तो शरमा रही थी अब बोलो बहन की लौड़ी कितना मजा आ रहा है ! अतुल के धक्के तेज हो गए थे औए वह लगभग हांफ रहा थे और फ़िर उसने अपना लण्ड चूत से निकाल के मेरे मुँह में डाल दिया। उसके साथ ही उसके लण्ड से पिचकारी छूट गई। मैं पहले तो घबराई, फ़िर उसके वीर्य का स्वाद अच्छा लगने लगा था मैं सारा रस पी गई…!
      edit

0 comments:

Post a Comment