Sunday, November 12, 2017

Published 5:33 PM by with 0 comment

सब मिलकर मुझे रंडी बना डाला

दोस्तो नमस्कार.. मैं नेहा फिर से आप लोगों के सामने एक सच्ची उत्तेजक घटना लेकर आ रही हूँ.. और मेरे पहले की कामुक कहानियाँ पसन्द करने के लिए मेरे प्रिय पाठकों को धन्यवाद।

मैं आज जो कहानी आपके सामने ला रही हूँ.. वो पॉश कालोनी की सच्चाई पर आधारित है।
यह कहानी मेरी सहेली साक्षी की है जो हॉस्टल में रह कर एमबीए की स्टडी कर रही थी.. वो मूलतः पूर्वी उ.प्र. के एक गाँव की रहने वाली है। उसका परिवार आर्थिक रूप से बहुत कमजोर है.. पर उसमें पढ़ाई के लिए बहुत अधिक जज़्बा है.. तो उसके लिए उसने नोएडा में एमबीए के लिए एक कॉलेज में एड्मिशन ले लिया है।

हालांकि उसे स्कॉलरशिप मिलती है पर वो पूरी नहीं आती है.. बीच में सरकारी लोग उसे खा जाते हैं.. जिसके कारण कुछ ही भाग उसके पास पहुँच पाता है.. जो उसकी जरूरत को पूरा नहीं कर पाता.. पर वो अपने घर से भी पैसे नहीं माँग सकती.. क्योंकि उसके घर वाले तो बहुत निर्धन हैं।

अपनी इसी आर्थिक तंगी को दूर करने के लिए साक्षी ने एक रास्ता अपनाया.. जिसके बारे में सेक्स स्टोरी के रूप मैं आपको बता रही हूँ।

उसकी मुलाकात ऐसी लड़कियों से हुई जो वहाँ पर लोगों का मन बहलाकर पैसा कमाती थी.. पैसे की कमी ने उससे भी यही करा डाला। दोस्तो, वो एक पॉश कालोनी थी.. जिसमें एक औरत गर्म गोश्त यानि बदन बेचने का चलाती थी.. वहाँ पर पैसा कमाने कॉलेज गर्ल्स आती थी.. जिनके साथ हर उम्र के लोग शारीरिक सम्बन्ध बना कर अपनी सेक्स की जरूरत को पूरा करते थे।

साथियो.. वहाँ पर अधिकतर उम्रदराज लोग ही आते थे.. उनकी उम्र 45 से 65 साल तक की होती थी.. ये ऐसे लोग होते थे.. हिनको जवान लड़कियों के साथ सेक्स का चस्का था या जिनकी पत्नियों की मौत हो गई होती थी.. या उनकी वाइफ उनको खुश नहीं कर पाती थीं.. या उनकी वाइफ उनसे साथ सेक्स नहीं कर पाती थीं।

मेरी सहेली साक्षी को एक लड़की.. जिसका नाम आकांक्षा था.. उस जगह पर ले गई.. जो पहले से खुद भी वहाँ पर ये सब करती है। साक्षी को उस चकला घर की औरत के पास ले जाया गया.. जो इस ग्रुप की हेड थी।

उसने साक्षी से कहा- आज शाम को 7 बजे तक मेकअप वगैरह करके तैयार हो कर आ जाना। मैं तुम्हें कस्टमर को दिखा दूँगी.. वहीं रेट भी डिसाइड हो जायगा।

साक्षी शाम को तैयार हो वहाँ पहुँची.. वहाँ पर उस औरत ने साक्षी को एक 54-55 साल के एक आदमी के सामने पेश किया।

दोस्तो, मेरी सहेली साक्षी की उम्र 21 साल है.. साक्षी को देखकर उसने ‘हाँ’ कर दी और पूरी रात का वो आदमी 3000 रूपए देने तो तैयार हो गया।

यह सुन कर साक्षी ने मना कर दिया वो औरत समझाने लग गई कि इतने भी बहुत है.. यहाँ पर तुम जैसी लड़कियों के 2000 रूपए ही मिलते हैं.. ये तो 3000 दे रहे हैं।

पर बाद में उस आदमी ने साक्षी की जवानी के दाम 5000 रूपए लगाए.. साक्षी वहाँ से जाने लगी, उसे इतने पैसे सही नहीं लगे।
फिर उस आदमी ने सीधा 10000 रूपए बोला.. तो साक्षी ने ‘हाँ’ कर दी।
पर उस अधेड़ उम्र के आदमी ने कहा- मैं 10000 रूपए पूरे वसूल करूँगा.. और सुबह 6 बजे जाने दूँगा।

सौदा डन हो गया.. जिसमें से 4000 रूपए उसे एड्वान्स दिए और बाकी 6000 काम होने के बाद मिलना थे।
      edit

0 comments:

Post a Comment