Thursday, November 9, 2017

Published 6:10 AM by with 0 comment

दो जवान हसीनो के प्यासा चूत

हैल्लो दोस्तों, कैसे है आप सब? बस दुआ करता हूँ कि इस साईट पर आने वाले सब लोग खुश रहे, कहानी पढ़कर क़िसी को नये अनुभव मिले, तो कोई अपने अनुभव शेयर करे और हम सबको नई स्टोरी सुनने को मिले. इस स्टोरी में सेक्स है, लेकिन एक प्यार की दस्तक भी है.

मेरा नाम ध्रुव है, में बोम्बे का रहने वाला हूँ, में एक 22 साल का लड़का हूँ. मेरा ब्रेकअप यही मुंबई में हुआ है और हमेशा उस रात के बारे में सोचता हूँ, जो कि लोगों के दिमाग़ में बसा है, लेकिन शायद कभी जी नहीं पाया, मुंबई रात को बहुत खूबसूरत हो जाती है और इस रात में कई कहानी बसती है और उनमे से मेरी भी है.

मेरी लाईफ में वैसे तो बहुत लड़कियाँ थी और काफ़ी गर्लफ्रेंड्स भी रही और सेक्स लाईफ भी अच्छा था, लेकिन मेरा हमेशा एक सपना रहता था, लेकिन वो कभी हो ही नहीं पाया. यह बात अगस्त 2012 की थी, मेरी गर्लफ्रेंड ने एक फार्म जॉइन किया और मुझसे अक्सर उसके बारे में बात करती थी और अक्सर उसकी दोस्त श्रुति के बारे में बात करती थी. में बॉलीवुड मूवी पसंद करता हूँ और श्रुति भी वैसी ही थी. में अपनी गर्लफ्रेंड से खुश नहीं था, इसलिये हमने ब्रेकअप ले रखा था और वो अक्सर कहती थी कि तुम श्रुति से मिलो, हम कहीं पार्टी करेंगे, लेकिन मुझे कभी मौका नहीं मिला.

फिर मौका आ ही गया. श्रुति भोपाल की रहने वाली लड़की थी और मेरी गर्लफ्रेंड के दादा जी भी वहीं के थे और दोनों ने साथ में घर जाने का प्लान बनाया और मुझे फोर्स किया कि मुझे ड्रॉप करने आना ही पड़ेगा. उसी बहाने से में श्रुति से मिल लूँगा और उन्हे दादर से ट्रेन में भेज दूँगा और ट्रेन का टाईम शाम के 8 बजे का था. अक्सर में फास्ट ट्रेन से जब घर जाता हूँ, तो पंजाब मैल ट्रेन मेरे सामने से गुजरती है, तो उस दिन ठीक 7 बजे हम दोनों वहां पहुँच गये और में भी वही समय पर पहुंचा और श्रुति को पहली बार देखा.

श्रुति एक मीडियम हाईट और क्यूट लड़की है, उसकी हाईट 5 फुट 4 इंच, गोरा रंग, बूब्स 32 या 34 इंच के है, लेकिन सबसे प्यारी उसकी स्माईल और नशीली आँखें थी, जैसे वो कुछ कहती हो. फिर मैंने उससे हाथ मिलाया और ध्रुव अपना नाम बताया, में आपको अपने बारे में बता दूँ कि दूसरो की कहानी की तरह में कोई भारी शरीर वाला नहीं हूँ. में एक गोरा सामान्य दिखने वाला लड़का हूँ और और लोगों को हंसाकर उनके चेहरे पर हंसी लाने की कोशिश करता हूँ और मेरे लंड का साईज़ 7 इंच है, जो कि नॉर्मल है.

मुझे अपनी गर्लफ्रेंड से पता चला कि ट्रेन लेट है और रात को 1 बजे आयेगी, तो में निराश नहीं हुआ और हम सब ने मिलकर कहीं टाईम पास करने का सोचा, तो हम वी.टी. स्टेशन चले गये. जब प्लेटफॉर्म पर हम टाईम पास कर रहे थे, तो मैंने श्रुति के बारे में जानने की कोशिश की और पता लगा कि उसका एक बॉयफ्रेंड है, जो कि पिछले 6 सालो से उसके साथ है और अब वो रूम एक कपल के साथ शेयर करते है.

में जब बात कर रहा था, तो बार बार मेरे पैर श्रुति के पैर से टकरा रहे थे और यह वो खुद भी महसूस कर रही थी और शायद उसकी आँखें मुझसे कुछ कहने की कोशिश कर रही थी, लेकिन में समझ नहीं पाया.

ट्रेन आ गई और हमने नंबर एक्सचेंज किये और बातों ही बातों में मैंने बॉलीवुड फ़िल्मो का ज्ञान दिया और कहा कि तुम मुझे फिल्म लाकर देना और कभी हम साथ में मूवी देखने जायेंगे. में और बातें करना चाहता था, लेकिन मेरी गर्लफ्रेंड वहीं थी और में ज़्यादा कुछ ना कह सका और गाड़ी चलने से पहले मैंने उसे बॉय कहा और मुझे अपनी गर्लफ्रेंड से हग मिला और श्रुति ने भी मुझे हग किया और एक अच्छी सी स्माईल दी और हग बड़ा ही प्यारा था. उसके बूब्स मेरी छाती से दबे और उसकी एक अलग ही खुशबू मुझे आई और बॉय कहकर में चल दिया.

कुछ दिन बीते और मुझे मेरे वाट्सअप पर एक मैसेज आया कि बोलो सर हम मूवी देखने कब जा रहे है और मुझे कुछ अच्छी मूवी कब मिल रही है. में समझ गया था कि वो श्रुति थी, मेरी गर्लफ्रेंड ट्रिप से वापस नहीं आई थी और वो लौट रही थी और उसने कहा कि हम मेरे ऑफिस के बाद मूवी देखने चलेगे. फिर मैंने हाँ कर दी, लेकिन मैंने पूछा कि हम रहेंगे कहा और तुम्हारे बॉयफ्रेंड और मेरी गर्लफ्रेंड को कोई ऐतराज़ नहीं होगा ना, तो उसने कहा कि हम नहीं बतायेंगे

तो उन्हें पता कैसे चलेगा और मैंने एक स्माईल दी, लेकिन मूवी के बाद का प्लान नहीं बन रहा था. उसने कहा कि तुम क़िसी दोस्त के घर रुक जाना में देखता हूँ, कहाँ जाना है और सोचने लगा.

फिर उसने कहा कि में देखती हूँ, कुछ देर बाद मैसेज किया कि मेरी रूम पार्टनर का बॉयफ्रेंड भी नहीं है और मेरा भी अपने घर गया हुआ है, तो तुम मेरे साथ रुक सकते हो, लेकिन वो भी रहेगी. फिर मैंने कहा कि ठीक है और तारीख 14 अगस्त का तय हुआ और उसने कहा कि आते वक़्त हेडफोन ले आना और ढेर सारी मूवी भी लेकर आना.

फिर वो दिन आ गया, जो मैंने सोचा भी नहीं था कि कुछ ऐसा हो जायेगा कि में बस सोचता ही रह जाऊंगा. में मूवी देखने के लिये वहां पहुंचा, तो वो पहले ही वहां पहुँच चुकी थी और काली ड्रेस में वो बहुत ही मस्त दिख रही थी. फिर मैंने कहा और उसने प्यारी स्माईल दी.

उसकी आँखे और बूब्स बहुत मस्त दिख रहे थे और वो मुझे खींचती हुई मूवी देखने लेकर चली गई, क्योंकि में पहले ही बहुत लेट पहुंचा था और जब मूवी देखने लगे, तो ताली बजती सीटी बजती और डायलॉग पर हम बहुत करीब आ चुके थे. फिर मैंने उसके माथे पर किस किया और बोला थैंक्स, क्योंकि बहुत टाईम बाद कुछ अलग हो रहा था, मस्ती, फन और वो स्पेशल सीन. मूवी ख़त्म होने के बाद खाना खाकर हम घूमने चले गये और मैंने धीरे धीरे से उसका हाथ पकड़कर घूमना शुरू किया.

फिर उसने बताया कि उसकी शादी लगभग तय हो गई है और वो लाईफ को एन्जॉय करना चाहती है और वो कुछ भूलना नहीं चाहती थी कि लाईफ जीने में उससे कुछ मिस हुआ है और एक क्यूट स्माईल दी. फिर में उसके घर गया और उसके रूम पार्टनर से मिला और उसने कहा कि मेरी नाईट शिफ्ट है और थोड़ी ही देर में वो चली गई और हम साथ में बैठकर बातें करने लग गये और फिर उसने मुझे एक मूवी देखने को बोला और वो बहुत रोमेंटिक मूवी थी.

उस फिल्म में एक डॉक्टर होता है, जो कि एक व्यक्ति को क़िसी के दिमाग़ से मिटा सकता है और उसके बारे में उस लड़की को या लड़के को कुछ पता नहीं चलता और एक एक हेडफोन लगाकर हम मूवी देखते रहे.

फिर अचानक जब एक रोमांटिक सीन आया, तो फिर मैंने उसका हाथ पकड़ लिया और उसने भी कुछ नहीं कहा, मूवी ख़त्म हुई और उसने वही स्माईल देकर मुझे गाल पर किस किया और कहा कि तुम बहुत क्यूट हो. मैंने कहा कि थैंक्स और वो सीन मेरे लिए सबसे अलग था, क्योंकि में प्यार करने लगा था. फिर मैंने सेक्स बहुत लड़कियों के साथ किया या कई लड़कियों के साथ टाईम बिताया, लेकिन यह सब कुछ अलग था.

अब मैंने उसका हाथ पकड़ा और प्यार से उसके माथे पर किस किया और एक टाईट हग दिया और थैंक्स कहा और वो मुझे टाईट हग करती रही. फिर धीरे-धीरे पता नहीं कब मेरे होंठ उसके होंठ से मिले और हम किस करने लगे और किस करते समय हम कब गर्म हो गए, पता ही नहीं चला और किस करते टाईम मेरे हाथ उसके बूब्स दबा रहे थे और उसके हाथ मेरी पीठ पर नाख़ून से निशान छोड़ रहे थे.

फिर 15 मिनट तक की गई किसिंग के बाद मैंने उसका टॉप निकाला और वो अब सिर्फ़ ब्रा पहने हुई थी. काली ब्रा में वो बहुत हॉट लग रही थी, में ब्रा के ऊपर से ही उसके बूब्स दबाने लगा और उसे भी बहुत अच्छा लगने लगा. फिर वो मेरे लंड को हाथ लगाने लगी, लेकिन मुझे उसे थोड़ा तड़पाना था और मैंने उसकी ब्रा को निकाल दिया.

अब वो आधी नंगी मेरे सामने खड़ी थी, में उसके निप्पल को चूसने लगा, उसके निप्पल गुलाबी कलर के थे और वो थोड़ा मौन करने लगी. फिर उसने मेरी शर्ट निकालने को कहा और फिर में और वो दोनों टॉपलेस थे और इस दौरान उसने मुझे रोका और एक ख्वाईश की और कहा मुझे 5 मिनट तुम्हें सिर्फ़ टॉपलेस हग करना है और इसके बाद जो तुम बोलोगे, वो में करूँगी.

फिर मैंने ठीक है कहा और वो टॉपलेस और में टॉपलेस हग करने लगे और फ्रेंड्स में बता दूँ कि अगर आप किसी को टच करते है और रेस्पेक्ट करते है, तो कभी यह ट्राई करना, मस्त फीलिंग आती है. फिर 5 मिनट तक हम में से क़िसी ने कुछ भी नहीं कहा. मेरी छाती और उसके बूब्स और निप्पल टाईट प्रेस हो रहे थे, वो फीलिंग बहुत ही अलग और खूबसूरत थी.

फिर अचानक वो मुझे किस करके अचानक नीचे बैठी और पेंट के ऊपर से मेरे लंड को दबाने लगी, जो कि अब तक पूरी तरह खड़ा था. उसने मेरा पेंट और अंडरवियर उतारा और मेरे लंड को हाथ में ले लिया और वो डरी नहीं या कुछ कहा नहीं, बस उसे अपने मुँह में लेकर चूसती रही और मुझे बड़ा ही मजा आ रहा था, वो थोड़ी देर उसे चूसती. फिर रुक जाती फिर उसे थोड़ा हिलाती और फिर रुक जाती. फिर धीरे-धीरे फिर से सक करती, यह बाकी के हुए मेरे सेक्स से बिल्कुल अलग था.

फिर लास्ट में तो उसके मुँह में ही पूरा झड़ गया और उसने पूरा पानी चूस लिया. अब मैंने उसे उठाया और उसकी पेंट उतार दी और वो अब सिर्फ़ काली पेंटी में थी, जो बहुत ही हॉट लग रही थी, वो पूरी तरह गीली हो चुकी थी. में पेंटी के ऊपर से ही उसकी चूत को छू रहा था और वो तरह तरह के एक्सप्रेशन दे रही थी.

फिर मुझसे और नहीं रहा गया और मैंने उसकी पेंटी उतार दी, वो पूरी तरह से नंगी थी और बहुत ही मस्त लग रही थी. उसकी चूत के पास एक भी बाल नहीं था और फिर उसकी गुलाबी चूत को पागलों की तरह चाटने लगा और थोड़ी ही देर में उसने एक सेक्सी सा एक्सप्रेशन दिया और झड़ गई, लेकिन में यहाँ कहाँ रुकने वाला था, में पागलो की तरह चूसता रहा और चूत का पानी पीता रहा.

फिर मैंने दो उंगली उसकी चूत में डाली, तो वो बहुत गर्म हो गई और में उंगली को उसकी चूत में अंदर बाहर करता रहा और उससे और नहीं रहा गया और उसने मेरा लंड पकड़ा और कहा कि प्लीज़ अब मत तड़पाओ, डाल दो मेरी चूत में अपना लंड, वो 15 अगस्त की रात मुझे शायद वो सुनने को मिला, जो कि मेरे साथ कभी नहीं हुआ था और जो मैंने कभी सोचा भी नहीं था.

फिर में अपने लंड को उसकी चूत के पास ले गया और मैंने कहा की कंडोम, तो उसने मना कर दिया और कहा कि नहीं आज कुछ नहीं बस इस रात को एन्जॉय करे और इन पलो में खो जाये.

फिर मैंने पोज़िशन ली और धीरे से अपना लंड उसकी चूत में सरका दिया, वो थोड़ी चीखी, लेकिन मेरा साथ दे रही थी और दूसरे ही धक्के में मेरा लंड उसकी चूत में पूरा अंदर था और उसकी आँख से थोड़े से आँसू निकले, वो वर्जिन नहीं थी, लेकिन वो आँसू क्यों निकले? मुझे अभी भी नहीं पता. में धक्के मारते रहा और वो मेरा पूरा पूरा साथ देती रही.

उसकी चूत क़िसी भट्टी से कम नहीं थी. में झड़ने वाला था. फिर उसने अंदर ही झड़ने का इशारा किया, वो दो बार झड़ चुकी थी और आहें भर रही थी और जैसे ही में झड़ा तो उसने अपने नाख़ून मेरी पीठ पर गड़ा दिये और हम लेट गये. फिर मैंने कहा कि अब मुझे उसकी गांड में लंड डालना है और उसने कुछ नहीं कहा. फिर मैंने उसकी गांड भी मारी.

उसकी गांड का छेद थोड़ा टाईट था और जब मैंने लंड उसकी गांड में डाला, तो वो अंदर घुस गया. उसे बहुत दर्द हो रहा था, लेकिन एक अलग सी खुशी उसके चेहरे पर थी. फिर में उसकी गांड में ही झड़ गया और पूरी रात हमने अलग अलग पोज़िशन में सेक्स किया और उस रात का बहुत अलग ही मजा था और हम एक दूसरे से चिपककर सो गये. सुबह माइक पर देश गीत सुनकर मेरी आँखें खुली और देखा कि श्रुति अभी भी सो रही थी, वो बहुत ही मस्त दिख रही थी. फिर हम उठ गये और में घर जाने लगा, तो जाने से पहले उसने मुझे एक किस दिया.

जब में घर के लिये निकला तो मन किया कि वापस जाऊं और उसे किस करूँ और उसे थैंक्स कहूँ, लेकिन में वहां से चल दिया. फिर वो धीरे धीरे मुझे इग्नोर करने लगी और कहा कि उसका बॉयफ्रेंड वापस आ गया है और वो उसके साथ मूवी देखने जाती है. अब हम ज्यादा सम्पर्क में नहीं है. अब भी कभी कभी जब में घर जा रहा होता हूँ तो पंजाब मैल दिख जाती, जिससे हम मिले थे और मुस्कुराहट आ जाती है और में श्रुति और उस रात को याद कर लेता हूँ और कहता हूँ कि बहुत ही खूबसुरत थी वो यादें और वो पल, जो कि में आज भी याद करता हूँ.
      edit

0 comments:

Post a Comment