Wednesday, January 31, 2018

Published 10:07 PM by with 0 comment

सास की चुदाई और अंकित की अन्तर्वासना

हेल्लो दोस्तों क्या हाल चाल हैं आपके सब बढ़िया तो है न | मुझे बहुत अच्छा लगा जैसा प्यार आप लोगों ने दिया मुझे और मेरी कहानियों को | अगर ऐसा ही प्यार मुझपे बरसता रहे तो मैं कभी गरीब नहीं होऊंगा और मुझे उम्मीद है की आप मुझसे हमेशा ऐसे ही जुड़े रहेंगे और मुझे वो रहमत बरसाते रहेंगे और मेरी कहानियों का लुफ्त उठाते रहेंगे | चलिए तो अब समय हो गया है शुरू करने का उस महँ चुदाई की गाथा को जो मुझे हमेशा अपने पास बुलाती रहती है और मुझे इसी में मज़ा आता है | आप लोग हसो मत यार आप लोगों के लिए ही तो करता ये सब | मुझे चुदाई का शौक नहीं है पर शौक है तो बस इस चीज़ का कि आप सब को नए नए किस्से सुनने को मिले जिससे की आप को मुठ मारने की प्रेरणा मिले और मुझे इसी चीज़ से मतलब है | हाँ तो आ गया हूँ मैं आपका दोस्त रघु और आपके सामने हाज़िर है मेरे दोस्त अंकित की कहानी जिसनेअपनी सास को चोदा और उससे अपने सारे काम निकलवाये और अपनी बीवी को भी वश में किया | तो आइये अब शुरू करता हूँ मैं अपनी कहानी और बताता हु आपको की हुआ कैसे ये सब |

दोस्तों आपको तो पता ही है जब शादी हो जाती है तो इंसान कुत्ता बन जाता बेचारे अंकित को भी मैंने यही समझाया था और उससे कहा भी था भाई तेरी बीवी तेज़ है संभाल के रहना| पर बेचारे बकरे को बलि से कौन बचा सकता है कट गया गांडू | अब आप ही बताओ मैं अभी तीस साल का हूँ और मैंने शादी नहीं की क्यूंकि मुझे पता है क्या होता शादी के बाद | पर हाँ अगर कोई अच्छी लड़की मिल जाएगी तो शादी कर भी लूँगा ऐसा कुछ नहीं है | अब सुनो !! जब मैंने अंकित को ये सब बताया तब उसने मेरी बातों को अनसुना कर दिया और अपनी धुन में रहने लगा | फिर मुझे लगा इसको कहना बेकार है क्यूंकि इसके मन में लड्डू फूट चूका है और इसको अब बस चूत दिख रही है | मैंने उसकी बीवी जिसका नाम निशा है उससे बात की अंकित के सामने और उसे बताया मैडम जी मेरा दोस्त एक दम सीधा इंसान है इसका खयाल्क रखना | उसने हस्ते हुए कहा जी बस इसलिए तो शादी कर रही हूँ इनसे | थोड़ी थोड़ी देर में मैं देख रहा था कि उसको उसकी मुम्मी यानि की अंकित की सास के फ़ोन आ रहे थे |

मैंने अंकित से भाई जब ये चली जाए तब मुझे बुलाना कुछ ज़रूरी बात करनी है तुझसे | उसने कहा ठीक है अभी तू कही और चला जा या बाहर घूम के आजा| मैंने कहा ठीक है पर तू भूलना मत जो मैंने तुझसे कहा है | अब वो लोग दो घंटे तक साथ में थे और उसके बाद मैंने अंकित को फोन लगाने का सोचा और उतने में उसी का कॉल आ गया | मैं वहाँ पहुँच गया और उसके बाद मैं उससे कहा भाई तेरा घर बसने से पहले बर्बाद होने वाला है | उसने मुझसे पुछा कैसे तब मैंने उसे बताया जिस घर में लड़की के घरवालों का ज्यादा हस्थ्छेप हो उस घर में सब बर्बाद हो जाता है | उसने कहा नहीं भाई वो बस अपनी मम्मी से बात कर रही थी | मैंने कहा भाई मैं तो थक गया हु तुझे समझा के अब जो होगा उसके लिए तू तैयार रहना और फिर मुझसे मत कहना कि मैंने तुझे बताया नहीं | अच्छा उसकी सास का पति मर चूका था पर थी वो माल | ये तो मैं भी मानने लगा था उसको देखने के बाद |

loading...
अब वो दिन आ गया जिस दिन उसकी शादी होने वाली थी और हम लोग उसके घर में ही थे | साड़ी तैयारी के बाद मैंने अंकित से कहा भाई दारु का इंतज़ाम कर लिया है न | तब उसने कहा नहीं तू पेसे लेले और सब कुछ कर लेना | मैंने कहा ठीक है और उससे पैसे लेके दारू लेने चला गया | जब बारात लेकर हम वहाँ पहुंचे तो उसकी सास खड़ी थी और सच में दुल्हन को टक्कर दे रही थी | मेरा मन फिसल रहा था पर मुझे काफी काम देखना था इसलिए मैं व्यस्त हो गया और शादी निपट गयी और हम लड़की को विदा करके ले आए | अब उनकी जिंदगी शुरू हुयी और एक हफ्ते बाद अंकित मेरे घर आया और कहा भिऊ तूने सही कहा था| मैंने कहा क्या कहा था भाई मैंने | तो वो बोला भाई उसकी मम्मी ने जिंदगी हराम कर रखी है | साला उसको चोदने जाता हूँ तो आज ये व्रत कही वो व्रत और तो और मुझे धमकाती है कि अगर कुछ भी गलत किया मेरी बेटी के साथ तो पुलिस में बंद करवा दूंगी |

मैंने कहा अब आई न मेरी बात समझ में | फिर उसने कहा भाई वो तो मेरे घर में ही बस गयी है और मुझसे खर्च भी लेती है | मैंनेकहा अंकित तेरी सास को सेट करने का एक ही रास्ता है | उसने मुझसे पुछा कैसे ? मैंने कहा अपना लंड खोल मेरे सामने मुझे देखना है | वो कहने लगा भाई तू भी मीठा निकला मैंने कहा मादरचोद खोल | तो उसने खोल दिया और मैंने कहा बस यही अपनी सास के सामने करना | उसने कहा क्यूँ तो मैंने कहा तुझे उसे चोदना है फिर सब तेरा होगा और तू राजा बन जाएगा | उसनेकहा भाई बस लंड खोल के दिखाने से मैं राजा बन जाऊँगा क्या | मैंने कहा बस यही समझ ले पर ऐसे ही मत खोल देना पहले उसे सेक्स की गोली खिला देना ताकि वो गरम हो जाए | फिर मैंने कहा मैं भी रहूँगा तेरे साथ तेरी फिल्म बनाऊंगा ताकि उसे तू काबू में कर सके | अब शुरू होने वाला था असली खेल | मैंने उसे सब कुछ बता दिया और साड़ी चीज़ें लाके दे दी | अब उसने मुझे कहा भाई ये सब करना कैसे है |

मैंने उसे समझाया कि कैसे भी करके अपनी सास को ये दवाई पिला देना और उसके बीस मिनट बाद देखना मज़ा पर अपनी बीवी को कही बाहर भेज देना | उसने मेरी बात मान ली और कहा ठीक है भाई बस तू टाइम पे आ जाना | मैंने भी कहा ठीक है मैं आ जाऊंगा और तुझे सब कुछ अकेले ही करना है क्यूंकि मैं तो बाहर से ही रिकॉर्ड करूँगा सब कुछ | वो तैयार हो गया और मुझसे कहने लगा भाई अब मैं सब कुछ कर लूँगा | फिर मैंने उसे भेज दिया और वो भी अगले दिन का इंतज़ार करने लगा | अगली सुबह जब मैं उसके घर के पीछे पहुंचा तो देखा भाभी को वो बाहर भेज रहा था और उतने में ही उसने कहा सासू माँ आपका जूस मैंने टेबल पे रख दिया है |अब मुझे समझ आ गया था की मुझे करना क्या है | मैंने उसे तुरंत कहा अन्दर जा अपनी सास के पार और मैं खिड़की के पास खड़ा हो गया | थोड़ी देर हुयी होगी और उसने अपना लंड अपनी सास के सामने खोल दिया और हिलाने लगा | उसकी सास बचने की कोशिश कर रही थी पर हर कोशिश नाकाम थी मैंने दवाई ही ऐसी खिलाई थी |

अब उसका लंड उसकी सास के हाथ में था और वो उसे हिला रही थी और अंकित बस ऐसे ही खड़ा हुआ था | फिर एक दम से मैंने रिकॉर्ड किया कि उसकी सास उसका लंड पी रही है | वोआआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रहा था | मुझे लगा गया कि अबयेभी गरम होने लगा है और उसने धीरे से अपनी सास के दूध दबाना शुरू कर दिए | उसकी सास उसका लंड पी रही थी और ये उसके दूध मसल रहा था | ये सिलसिला कुछ देर चला फिर इसने अपनी सास को नंगा किया | उसका बदन देख के टी मेरा लंड भी खड़ा हो गया क्यूंकि इतनी चिकनी गोरी और सुन्दर थी | उसने अपनी सास के दूध न पीते हुए सीधा चूत में अपना मुह घुसा दिया | उसकी सास आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः कर रही थी और खूब उचक उचक के अपनी चूत को उसके मुह में भर रही थी |

मैंने देखा उसने अंकित के मुह पे ही अपना माल गिराया और कहा चोद आज मुझे तेरे ससुस्र ने तो कुछ नहीं किया तू ही कर | घुलाम हु मैं तेरी फाड़ दे आज मेरी चूत | आआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः की आवाज़ आ ही रही थी | फिर उसने अपना लंड डाल दिया उसकी चूत में और कुत्ते की तरह चोदने लगा | वोआआहाआह ऊउन्न् आहाहाह ऊउम्म्म ऊनंह अआहा आअह्ह्हाअ अहहहः अहहाआअ ऊउन्न ऊउम्म्ह आआनाहा ऊउन्न्ह ऊम्म्ह आहाहाहा ऊनंह ऊउम्ह आहाहहा ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह अहहहः करते हुए दोनों झड़ गए | उसने फिर अपनी सास को चोदा और उसकी सास इस बार बड़े प्यार से चुदवा रही थी |

तो अब उसकी सास घुलाम बन गयी थी और वो अपनी बीवी को भी काबू में कर पाया था| अब उसे दोद दो चूत मिलती थी और मुझे भी उसकी सास को चोदने मिला |
      edit

0 comments:

Post a Comment