Wednesday, January 10, 2018

Published 6:32 PM by with 0 comment

भतीजे ने चोदा मेरी कमसिन बुर

हेल्लो दोस्तों मैं आज एक कहानी को लेकर आई हूँ जिसमे मैंने अपने भतीजे से चुदवाया | मैं बरेली की रहने वाली हूँ और मेरे शादी लखीमपुर से हुई है | मेरा नाम दीपाली है मेरी उम्र 29 साल है | और मेरी हाईट 5 फुट 8 इंच है मेरी फिगर 36 32 38 है मेरे बूब्स कभी बड़े हैं जिससे मैं बहुत सेक्सी लगती हूँ | और दोस्तों मैं आशा करती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आएगी | अब मैं आप लोगो का ज्यदा समय न बारबाद करते हुवे सीधे अपनी कहानी पर आती हूँ |

दोस्तों मैंने किस तरह से अपने पति के भतीजे से चुदवाया था | मेरे पति के भतीजे का नाम दीपक है उसकी उम्र 19 साल है | और वो अभी पढाई करता है उसकी क्लास 12 है | मेरी शादी को अभी तक काफी टाइम हो गया है | पर मुझे कोई बच्चा नहीं हुआ है जिसके लिए मैंने बहुत कोशिश भी की मेरे पति भी चाहते हैं की मैं माँ बनू पर पता नहीं क्या है जो मैं माँ नहीं बन पति हूँ | तब मुझे मेरी सेहली ने बताया की तुम किसी लेडिज डॉक्टर से मिलो और अपनी जाँच कराओ | मैंने फिर यही किया और एक लेडिज डॉक्टर से मिली तो उसने मेरी जाँच की फिर मुझसे बोली की ३ दिन बाद आकार रिपोर्ट ले जाना | मैं अपने घर चली आई उस रात मेरे पति ने मुझे चुदा भी पर मुझे ये डर था की कहीं मेरे मैं माँ बनने मैं कोई कमी हुई तो मैं कभी माँ नहीं बन पाऊँगी ये सोच परेसान थी | फिर 3 दिन बाद मैं उसी डॉक्टर के पास गयी तो उसने बताया की मैं बिकुल ठीक हूँ | शायद मेरे पति में कोई कमी है | उसके बाद मुझे उस डॉक्टर ने बताया की अगर तुम माँ बनना चाहती हो तो किसी और के साथ तुम्हे सेक्स करना होगा और मैं सोचने लगी की शायद ये झूठ बोल रही हो तो मैंने अपने पति से अपनी जाँच करवाने को कहा | वो मान गए तब हम दोनों एक डॉक्टर के पास गए तब उसने मेरे पति की जाँच की और बताया तो 5 दिन के बाद तुम्हरी रिपोर्ट आयेगी तब मैं बता पाउँगागी क्या कमी है | मैं 5 दिनों के बाद उसी डॉक्टर से मिली तब उसने बताया की तुम्हरे पति के शरीर में कुछ हार्मोन्स की कमी हैं जिनकी वजह से वो बाप नही बन सकते | तब मैंने डॉक्टर से बताया की ये बात आप मेरे पति को न बताये और डॉक्टर ने कहा की ठीक है नहीं बताऊंगा | मैं घर आ गई फिर सोचने लागी अब मैं कभी माँ नहीं बन सकती | तब मुझे उस लेडिज डॉक्टर की बात याद आई और मैं किसी से चुदवाने के लिए सोचने लगी पर मेरे पति के घर में होते तो नहीं चुदवा सकती थी | तब मैंने उसके भतीजे से चुदवाने के बारे में सोचा और प्लान बनने लगी किस किस तरह से मैं उससे चुदू |

उसके बाद धीरे धीरे कुछ दिन बीत गए और मेरे पती मेरे घर गये जहाँ मैं रहती थी मेरे मायके | उस दिन मैं और दीपक घर मैं अकेले ही थे | मुझे ये मौका भी सही लगा उससे चुदने का पर मैं ये सोच रही थी की इससे कैसे कहूँ | फिर मैं दीपक के पास जाकर बैठ गयी और अपने सीने से दुप्पटा निचे गिरा दिया | उसने देख कर अपनी नजरे निचे कर ली और दूसरी तरफ देखने लगा फिर मैंने उससे कहा की दीपक मेरे सर मैं बहुत जोर से दर्द हो रही है तुम जाकर मेडिकल से ये दवाई ले आओ और मैं एक गोली मैनफोर्स की भी लिखी थी पर उसने शायद देखा नही और ले आया | फिर मैंने उसके लिए और अपने लिए चाय बना कर लाई और उसकी चाय मैं गोली डाल दी | कुछ ही देर मैं उसका असर सुरु हो गया था वो भाग कर अपने कमरे मैं चला गया और वहां पर उसने सरे कपडे उतर कर अपने लंड को हाथ में पकड कर मुठ मारने लगा था | ये सब मैं दरवाजे से देख रही थी और दीपक का लंड कभी बड़ा और मोटा था जिसे देख कर मेरे होश उड़ गए | मैंने दीपक की विडियो बना ली और जब वो बाहर आया तो मैंने उसे ये कहा की आओ तुम्हे एक विडियो देखती हूँ और वो बोला दिखोओ तब मैंने वो विडियो उसे दिखाई तो उसके होश उड़ गए |

और मुझसे हाथ जोड़ कर बोला की चाची चाचा को मत दिखाना तुम जो बोलोगी मैं करने के लिए तेयार हूँ तब मैंने उससे कहा की तुम मुझे चोदोगे तो उसने मना कर दिया |
तब मैंने कहा की मैं तुमसे चुदना चाहती हूँ तुम मेरी प्यास बुझा दो तो मैं इस विडियो को डिलीट कर दूंगी तब वो मान गया और मैं अपने बेडरूम मैं ले गई | तब मैंने उसकी होंठो पर अपने होंठ रख दिए और किस करने लगी पर वो मेरा साथ नहीं दे रहा था | तब मैं बोली की तुम दरो मत मेरा साथ दो उसके बाद वो मेरा साथ देने लगा | फिर मेरी होंठो पर किस करते हुवे मेरे बूब्स को कपडे के ऊपर से दबाने लगा | मेरे मुंह से हलकी हलकी आवाज में आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह निकलने लगी | इस तरह 10 मिनट तक किस करने के बाद मैंने उसके कपडे उतार दिए और मैंने अपने भी कपडे उतार दिए अब मैं उसके सामने सिर्फ़ ब्रा और पेंटी में हो गई | तब दीपक ने मेरा ब्रा और पेंटी भी निकल दी फिर मेरे बूब्स को दबते हुवे मेरी चूत मैं ऊँगली डाल दी | और मेरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा सिसिकियाँ निकल गयी | धीरे धीरे मेरी चूत को चाटते हुवे मेरी चूत में जोर जोर से ऊँगली अन्दर बाहर कर रहा था जिससे मेरे मुंह से हलकी हलकी आवाज में आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह की आवाजे निकल रही थी | उसके बाद उसने मुझे अपने लंड को मुंह में लेकर चूसने को कहा और मैं उसके लंड को मुंह में लेकर चूसने लगी |

वो भी मेरे मुंह में धीरे धीरे धक्के मरने लगा और मैंने भी अपना मुंह पूरा खोल दिया वो मेरे मुंह को चोदने लगा तो मेरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा सिसिकियाँ निकल गयी | और 10 मिनट तक मेरे मुंह को चोदने के बाद मैंने उसे अपनी चूत को चोदने को कहा तो उसने मेरी दोनों टैंगो को फेला कर मेरी चूत के मुंह पर अपना लंड रख कर धीरे धीरे से रगड़ने लगा जिससे मरे मुंह से आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा की आवाज रही थी | अब मुझसे रहा नहीं गया और मैंने उसे मेरी चूत में लंड को डालने को कहा और उसने एक ही झटके में अपना लंड पूरा अन्दर घुसा दिया जिससे उसके मुंह से चीख निकल पड़ी | उसने धक्के मारने धीरे कर दिया और मेरी मुंह से धीमी धीमी आवाज आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहा आअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अह हहाआ आअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआ आहा में किये जा रही थी और उसने फिर धक्के मरने जोर कर दिये जिससे कमरे में आवाज गूंजने लगी | वो मुझे जोर जोर के धक्के मार कर चोद रहा था | मैं मस्त हो कर चुद रही थी उसके बाद उसने मुझे अपने लंड पर बैठ कर चुदने को कहा तब मैं उसके लंड पर बैठ कर चुदने लगी और आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहा आअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा आआहाआ ऊऊन्न्ह ऊऊम्म्ह ऊउम्म ऊउन्न्ह अहहाआअहाअ अहहहा हहहाआअ अहहहाआ ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह ऊनंह ऊउम्म्म्ह अहहहाआआअ आहाआआउन्ह ऊउन्न्ह ऊउम्म्ह आहा आआआहा करते हुए ऊपर निचे हो रही थी | पर वो भी निचे से धक्के मर रहा था और मैं उसके लंड से चुद रही थी उसके बाद फिर मैं बेड पर लेट गयी तो उसने मुझे जोर दर धको से चोदने लगा और 30 मिनट की चुदाई के बाद उसने कहा की मैं झडने वाला हूँ तो मैं बोली की मेरी चूत मैं ही झड जाओ और वोमेरी चूत में ही झड गया | उसके बाद जब भी मेरे पति घर नहीं होते थे तो मैं उससे चुदती थी और वो अपना माल मेरी चूत में ही निकाल दिया करता था | इसके बाद मैंने बताया की मैं प्रेगनेन्ट हो गयी हो और 9 महीने के बाद मैंने एक प्यारे से लड़के को जन्म दिया | फिर मैंने ने बताया की दीपक ये तुम्हारा लड़का है | और मेरे पति बहुत खुश थे क्यूंकि वो पापा बन गए थे पर उन्हें ये नहीं पता था की ये लड़का उनका नहीं है और मैंने बताया भी नहीं |
इस तरह से मैंने बच्चे के लिए मैंने अपने पति के भतीजे से चुदवाया था मैं आशा करती हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आई होगी | दोस्तों मेरी कहानी पढने के लिए धन्यवाद् |
      edit

0 comments:

Post a Comment