Sunday, January 7, 2018

Published 12:03 AM by with 0 comment

बहन को बनाया बीवी

हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप सभी लोग | मैं उम्मीद करता हूँ आप सभी लोग ठीक ही होगे | आप लोग चुदाई का मज़ा तो ले ही रहे होगे अगर तुम लोगो को चुदाई का मज़ा नही मिल रहा है तो मुठ मार लिया करो सालो | मेरा नाम अनुराग है | मैं रहने वाला बिहार का हूँ | मेरी उम्र 19 साल है | मैं अभी 12 मैं पढता हूँ | मेरी हाईट 6 फुट 4 इंच है | मेरे लंड का साइज़ 7 इंच लम्बा और मोटा 3 इंच है | मैं दिखने मैं ज्यादा गोरा तो नही हूँ पर ठीक हूँ | मेरे घर में 4 लोग रहते है मेरे पापा मम्मी और मेरी बड़ी बहन वो मुझे 3 साल बड़ी है | मेरे पापा की एक कपड़े की शॉप है और मेरी मम्मी घर का काम करती है | मुझे सेक्सी कहनी पढना के बहुत पंसद है और मैं अक्सर सेक्सी कहानी पढ़ कर मुठ मार लिया करता हूँ | मैं आज एक कहानी लेकर आया हूँ ये मेरी पहली कहानी है तो इसमें आप लोगो को गलती भी नज़र आएँगी | अगर आप लोगो को इसमें गलती नज़र आती है तो मुझे माफ़ करना | मैं आशा करता हूँ की आप लोगो को मेरी कहानी पसंद आयेगी और इसे पढने में मज़ा भी आएगा | अब मैं आप लोगो का ज्यादा समय न लेते हुए सीधे अपनी कहानी पर आता हूँ |

ये कहानी कुछ दिन पहले की है जब मैं अपने घर मैं रहेता था | मेरी बहन है जिसका नाम विनीता है | वो दिखने में दूध की तरह गोरी है | मैं आप लोगो को उसके फिगर के बारे में बता देता हूँ | उसका मस्त सेक्सी फिगर है | उसके बड़े बड़े बूब्स और उसकी बड़ी चौड़ी गांड है जिसको देख कर किसी भी आदमी का लंड खड़ा हो जाये जो मेरा भी खड़ा हो जाता था | मैं अपनी बहन की चूत चोदना चाहता था | मैं अक्सर नहाने तब जाता था जब मेरी बहन नहा कर बाहर आती थी | तो मैं जब नहाने जाता था तो वहां अपनी बहन की ब्रा को हाथ में पकड़ता और उसकी पेंटी को उठा कर देखा था | मैं इसी तरह से बहुत बार मुठ भी मार चूका था | फिर मैं नहाने के बाद कॉलेज चला जाता था | मैं कुछ दिन तक ऐसे ही अपनी बहन से मजाक किया करता था | वो भी मुझसे मजाक कर लिया करती थी | एक दिन की बात है जब मेरी बहन ने मुझे मुठ मारते हुए देख लिया | तब वो मुझसे बोली ये क्या कर रहा है | तो मैं डर गया और बोला कुछ नही और फिर वो मुझसे बोली अरे तेरा लंड को बहुत बड़ा है | तब मैं उनसे बोला है तो क्या करूँ कभी चूत तो मिलती नही है चोदने को तो वो मुझसे बोली मेरी चोदेगा तब मैंने कहा हां चोदूँगा | तब वो बोली थी ठीक है जब घर पर मम्मी और पापा नही होंगे तब मैं तुम्हारे लंड को अपनी चूत में लुंगी | उस दिन से मैं और वो कभी कभी किस भी कर लेते थे | मैं किस करने के साथ मैं उनके बूब्स को भी दबा देता था | अब मैं उनसे इसी तरह से रोज किस कर लिया करता था |

एक दिन की बात है जब मम्मी और मेरे पापा कहीं गये थे | उस रात घर पर कोई नही था मैं और मेरी बहन थी | तब मैंने बहन से सेक्स करने को कहा तो वो तैयार हो गयी | फिर मैं उसको लेकर अपने रूम में चला गया | फिर मैं उसकी होठो पर अपने होठ रख कर उसकी होठो को चूसने लगा | वो मेरा साथ देती हुई मेरी होठो को चूसने लगी | मैं उसकी होठो को चूसने के साथ में उसके बड़े बूब्स को मसल रहा था | मैं उसकी होतो को कुछ देर तक ऐसे ही चूसता रहा और फिर उसके कपड़े निकाल दिए | वो कुछ ही देर में ब्रा और पेटी में आ गयी | मं उसके एक दूध को मुंह से ब्रा के ऊपर से चूसने लगा और दुसरे वाले को दबाने लगा | मैं उसके बूब्स को दबाते हुए उसकी ब्रा भी खोल दी और फिर उसके एक दूध को मुंह में रख कर चुसाने लगा और दुसरे को हाथ से दबाने लगा | तो उनके मुंह से सिसिकियाँ निकल गयी | मैं उनके दोनों दूध को कुछ देर तक एक एक करके चूसता रहा | फिर मैंने उनकी पेंटी को निकाल दिया और फिर उनकी टांगो को थोडा सा फेला कर उनकी चूत में अपने मुंह को घुसा कर चटाने लगा | तो उनके मुंह से उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह फफफफ ऊह्ह्ह्ह उफ्फ्फ की सिसिकियाँ निकल गयी | मैं उनकी चूत में अपनी जीभ को घुसा कर उनकी चूत में जोर जोर से अंदर बाहर करने लगा |

तो वो उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह करती हुई अपने दोनों उबूब्स को मसलने लगी | मैं उनकी चूत में अपनी जीभ को अन्दर बाहर करते हुए उनकी चूत को अपन जीभ से चोदने लगा | मैं उनकी चूत में कुछ देर तक अपनी जीभ को अन्दर बाहर करने के साथ में अपनी ऊँगली को भी घुसा कर ऊँगली को अन्दर बाहर करने लगा | तो उनके मुंह से जोर जोर से उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह की सिसिकियाँ लेती हुई कहने लगी भईया और जोर से करो | तब मैं उनकी चूत में अपनी ऊँगली को और जोर से अन्दर बाहर करने लगा | वो मस्त होकर उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह कर रही थी | मैं उनकी चूत में कुछ देर तक ऐसे ही अपनी ऊँगली को अन्दर बाहर करता रहा | फिर मैंने अपने कपडे निकाल कर उनके हाथ में पकड़ा कर चूसने को कहा तो वो मेरे लंड को मुंह में डाल कर चूसने लगी | तो मेरे मुंह से हलकी हलकी आवाज में सिसिकियाँ निकल गयी | वो मेरे लंड को मुंह में धीरे धीरे अन्दर बाहर करती हुई चूसने लगी और मेरे लंड के उपर अपनी जीभ भी रगडती तो मेरे मुंह से सिसिकियाँ निकल जाती | वो मेरे लंड को अपने मुंह में रख कर अन्दर बाहर करती हुई चूस रही थी | मैं उनके सर को पकड कर उनके मुंह में लंड को धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा | मैं उनके मुंह में कुछ देर तक ऐसे ही लंड को अन्दर बाहर करता रहा | फिर मैंने अपने लंड को मुंह से निकाल कर उनकी टांगो को थोडा सा फेला कर उनकी चूत के मुंह पर लंड को रख कर घुसा दिया | तो उनके मुंह से उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह की सिसिकियाँ निकल गयी | मैं उनकी चूत में अपने लंड को अन्दर बाहर करते हुए उनको चुदने लगा | तो वो मस्ती में बोली भाई और जोर से चोदो साथ में उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह करने लगी | तब मैं उनकी चूत में धक्को की स्पीड तेज करके अन्दर बाहर करते हुए उनको चोदने लगा | तो वो उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह करती हुई अपनी चूत को हिला हिला कर चोदने लगी और साथ में बोली भईया और जोर से चोदो मेरी चूत को फाड़ दो आज मैं चुदाई को पूरा मज़ा लेना चाहती हूँ | तब मैं उनकी कमर को पकड कर उनकी चूत में जोर जोर के धक्को के साथ अन्दर बाहर करने लगा तो कमरे में धक्को की आवाज जोर जोर से घुजने लगी | तो उनके मुंह से भी उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह फफफफ अह्ह्ह की सिसिकियाँ निकल गयी | फिर मैंने उनको घोड़ी बना कर उनके पीछे से उनकी चूत में लंड को डाल कर चोदने लगा | तो वो उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह ह्ह्ह्ह करने लगी | मैं उनकी चूत में पीछे से जोरदार धक्को के साथ में उनको चोदने लगा | तो वो उह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफ्फ्फ फफफफ ह्ह्ह्ह उह्ह्ह उफफ्फ्फ्फ़ उह्ह्ह्ह उह्ह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह उफ्फ्फ उह्ह्ह उह्ह्ह फफफफ उह्ह्हह्ह उह्ह्ह्ह उफ्फ्फ अह्ह्ह अह्ह्ह्ह करती हुई अपनी चूत को आगे पीछे करती हुई चुदने लगी | मैं उनकी चूत में कुछ देर तक ऐसे ही जोरदार धको के साथ चोदता रहा और 40 मिनट की मस्त चुदाई के बाद मेरे लंड ने सारा माल उनकी गांड पर निकाल दिया | अब हम अक्सर टाइम मिलने पर चुदाई करता रहता हूँ |
      edit

0 comments:

Post a Comment