Friday, February 2, 2018

Published 6:03 PM by with 0 comment

पहले पहले प्यार का लम्बा इंतजार 1

desi sex stories

हेल्लो दोस्तों कैसे हो आप ? ठीक हो होगे आप सभी लोग | दोस्तों आप सभी लोग अपने लंड को हाथ में पकड़ा कर बैठ जाओ क्यूंकि मैं जो आज कहानी पेश करने जा रहा हूँ इस कहानी को पढने में आप लोगो के लंड का पानी निकलने वाला है | जो चूत की रानी है उनका भी यही हाल होने वाला है | मैं कहानी को शुरू करने से पहले अपने बारे में बता देता हूँ और एक बात का ध्यान रहे मैं बात समय आने पर बताता रहूगा |

मेरा नाम नितिन है | मैं रहने वाला कोलकाता के पास के एक गाँव से हूँ | मेरी उम्र 19 है और मैं दिखने में मस्त गबरू जवान लड़का हूँ | मेरी हाईट और बॉडी एकदम मस्त है जिससे मैं काफी स्मार्ट लगता हूँ | दोस्तों मैं बिना बकचोदी करते हुए कहानी को शुरू करता हूँ |

ये कहानी पिछले साल फ़रवरी की है जब हल्की हल्की सर्दी पड़ रही थी | उस टाइम मेरे कॉलेज में छोट्टी चल रही थी | अब आप लोग सोच रहे होंगे की मैंने बताया नही की मैं पढाई भी करता हूँ तो दोस्तों मैं ऊपर बात चूका हूँ की मैं हर बात टाइम आने पर बता दूंगा | मेरी उस टाइम 11 वीं थी और मेरे एग्जाम हो चुके थे |

मेरे एग्जाम जल्दी इसलिए हो गए थे क्यूंकि उन दिनों बोर्ड के एग्जाम होने वाले थे | दोस्तों मेरे घर में हम 3 लोग ही रहते थे मेरे पापा और मम्मी जोकि मेरे पापा खेतो मैं काम करते थे तो वो अक्सर रात को देर में आते हैं और सो जाते हैं |

उसी टाइम की बात है मेरे घर के जेस्त पास में मेरी आंटी का घर है | वो मेरे सगी आंटी तो नही हैं पर मेरे और उनके घर में बहुत अच्छी बनती है जिससे जब मेरे घर पर कोई नही होता है तो वो मेरे घर का बहुत ख्याल रखती है अगर उनके घर कोई न हो तो मेरी मम्मी उनके घर का ख्याल और खाना भेज दिया करती थी |

उसी टाइम की बात है जब मेरी मम्मी को नाना के घर जाना पड़ा क्यूंकि वो बहुत ज्यादा बीमार थे तो मम्मी नाना जी को देखने गयी हुई | दोस्तों मैं अब कहानी को और ही बढ़ कर रहा हूँ आप लोग अपने दिल को धाम कर बैठ जाओ |

उसी टाइम की बात है जब मैं अपनी छत पर खड़ा था और उस दिन मेरी नज़र आंटी की लड़की पर पड़ी | मैंने इससे पहले भी उसे देखा था पर उस दिन वो कुछ ज्यादा ही सुन्दर लगी मुझे ?

मैं उसको बड़े ध्यान से देखने लगा और उस दिन मेरा मन हुआ की उससे बात करता हूँ | आप सब मेरे कहने का मतलब तो समझ ही गए होंगे | मैं उस दिन उसको देखते ही मुझे उससे पहला प्यार हो गया था क्यूंकि इससे पहले मैंने किसी लड़की से प्यार नही किया था |

मैं उसे देख ही रहा था की वो मुझे देखते हुए देख लिए और शर्म से अपनी आँखों को नीचे कर लिया | दोस्तों उस टाइम क्या लग रही थी | मैं उसके बारे में बता देता हूँ | उसका नाम अनामिका है और वो दिखने में बहुत सुन्दर है | उस दिन उसका चेहरा क्या चमक रहा था मैं तो उसको देखता ही रह गया |

सुबह का टाइम था और ठंठी ठंठी हवा चल रही थी जिसके करण उसके गल लाल हो गए थे | उसकी काली काली आंखे जो झील की तरह थी मुझे ऐसा लग रहा था की वो मुझसे कुछ कहना चाहती है और उसकी मस्त गर्दन जो की बहुत मस्त ठीक सुराही की तरह थी |

दोस्तों मैं उसके हर एक अंग का नाप लेने लगा था | मैं अब उसकी गर्दन के नीचे बढ़ने लगा | उसकी चूचियां क्या मस्त थी जैसे की चूचियां नही छोटे संतरे लगा लिया हो और एकदम गोल थे | उसकी कमर जोकि पतली थी और जब वो चलती तो उसकी कमर नागिन की तरह बलखाती चलती | जिसको मैं देखकर पागल हो जाता था | दोस्तों उसकी गांड भी कुछ कम नही थी पर सब लड़कियों की तरह उसकी गांड ज्यादा बड़ी नही थी |

उस दिन मैं उसको देखकर पूरी तरह से उसका दीवाना हो गया था और अब मेरा मन उससे बात करने का था | दोस्तों देखो मेरी किस्मत भी साथ दे रही थी | वैसे तो रात का खाना देने अनामिका की मम्मी आती थी पर उस दिन वो खुद आई और मुझे देखकर अपनी आँखों को नीचे कर लिया |

वो बहुत ही ज्यादा सर्मिली थी जिससे वो किसी से बात नही करती थी | वो मुझे खाना देकर जाने लगी तब मैंने सोच की आज अच्छा मौका है इससे बात करने का और मैंने उसे रुकने को कहा |

वो रुक गयी और मुझसे बोली क्या है जी |

मैं – अनामिका आप थोड़ी देर रुक जाओ ना ?

वो – ना ना ना मैं जाती हूँ नही मम्मी आवाज देने लगेगी ?

मैं – कुछ नही बोलेंगी मैं आंटी को बता दूंगा की खाना निकालने के लिए रोक लिया है |

वो बैठ गयी और अपनी पलकों को नीचे कर लिया |

मैं उससे कुछ देर तक ऐसे ही बात करता रहा | वो भी मुझसे बात करने लगी | तब मैंने उससे कहा अनामीका जी आपसे एक बात पूछो अगर आप नाराज़ न हो तो ? वो मेरी तरफ देखकर बोली हाँ जी पूछिए ?

मैं – आप पहले वादा करो नज़र नही होगी ?

वो – ऐसी क्या बात है जो वादा करना होगा ?

मैं – पहले करो ?

वो – हाँ बोलो |

मैं डरते डरते उससे बोला की क्या आपका कोई बॉयफ्रेंड है ? वो मेरी ये बात सुनकर एकदम चौंक सी गयी और मेरी आँखों में आंखे डाल कर देखने लगी | मुझे लगा की वो नाराज़ हो गयी है तो मैं तुरंत ही उससे कहा तुमने वादा किया था की नज़र नही होगी ? प्लीज नाराज़मत हो | वो कुछ देर तक ऐसे ही शांत बैठी रही और कुछ नही बोली तो मैंने उससे कहा अनामिका क्या हुआ कुछ तो बोलो मेरी धडकने बंद हो रही है |

वो – आप ये क्यूँ पूछ रहे हो ?

मैं – बस ऐसे ही मेरा मन हो रहा था |

वो – सच बोलो ऐसा तो नही तुम मुझ पर लाइन मार रहे हो ?

मैं – ये लाइन का क्या मतलब है अनामिका ?

वो हल्की सी स्माइल की और बोली कोई मतलब नही है | तब मैंने उससे कहा की तो बता दो है की नही ? वो स्माइल करती हुई बोली की हाँ है पर क्यूँ ?

दोस्तों उसके मुंह से ये बात सुनने के बाद मुझे तो एस लग रहा था की मनो कोई मेरी जान लेकर चला गया हो | मुझे उस टाइम कुछ भी समझ नही आ रहा था और वो मेरे इस चेहरे को देखकर हँसती हुई बोली तुम्झे क्या हुआ ? मैं भी बस ऐसा लगा की कोई मेरी जान लेकर चला गया | वो मेरी ये बात सुनकर समझ गयी थी की मैं उससे प्यार करता हूँ और तब वो बोली की बुधु बना रही थी मेरा कोई बॉयफ्रेंड नही है | ये कहकर चली गयी |

उस रात मुझे बहुत ख़ुशी हुई और जब वो हँसती हुई गयी थी तो मुझे ऐसा लगा की वो भी मुझसे प्यार करती है | उसके दुसरे दिन की बात है जब वो मेरे लिए फिर खाना लेकर आई और उस दिन वो हंश रही थी | तब मैंने उसके हाथ को पकड़ लिया और कहा अनामिका मुझे तुमसे कुछ कहना है | जब मैंने उसका हाथ पकड़ लिया तो वो शर्म से पानी पानी हो गयी और अपने हाथ को छुड़ा लिया | मैंने उससे कहा यही अदा मुझे भा जाती थी |

वो मेरी ये बात सुनकर कोई भी बात नही कहीं और अपनी होठो को अपने दन्त के नीचे दबा रही थी | मैंने फिर से उसके हाथ को पकड लिए और उससे कह ही दिया आई लव यू जान मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ और तुम्हारे बिना जी नही सकता |

दोस्तों आप लोग सोच रहें होंगे की मैंने उसके हाथ क्यूँ पकड लिए थे अगर उसे मेरी बात न अच्छी लगती तो सायद मार भी देती इसलिए मैंने उसके हाथ पकड लिए थे | वो मेरी ये बात सुनकर ऐसे मुझे देखने लगी जैसे की उसे शौक लग गया हो |

वो मुझे और मैं उसे ऐसे ही 5 मिनट तक देखते रहे | मेरा मुंह उसके मुह के पास था और उसका मुंह मेरे मुंह से पास था जिससे मेरी और उसकी सांसे एक में घुलने लगी थी | मुझसे जब रहा नही गया तो मैंने उसकी होठो को पर अपनी होठो को रख किस कर दिया |

मैं उसकी होठो को मुंह में रख कर चूसने लगा था पर वो कुछ सोच सी रही थी जिससे वो मुझे किस नही कर रही थी | फिर उसने मुझे धक्का दिया और जाने लगी | तब मैं उससे कहा अगर तुम मुझसे प्यार करती हो तो आज रात मुझसे मिलने जरुर आउंगी | मैं तुहारा इंतजार करूँगा |

उस रात वो मुझे खाना देने भी नही आई थी आंटी मुझे खाना खिलाने के बाद चली गयी और मैं उसका इंतजार करने लगा | दोस्तों मेरे पहले प्यार का इंतजार मुझे बहुत बड़ा लग रहा था पर मैं उसका इंतजार करता रहा |

मुझे इंतजार करते हुए रात के 11 बज गए पर वो नही आई | दोस्तों मेरे प्यार में इतनी कशिश थी की वो खिची चली आई और 12 बजे के टाइम आई |

क्या लग रही थी उस टाइम मैं तो उसे देखता ही रहा | वो आने के बाद मुझसे सरमती हुई बोली मैं कितनी मुश्किल से आई हूँ मेरे पास मम्मी लेटी हुई थी | आप अभी भी जग रहे हो ? और आपकी आंखे तो देखो कितनी लाल हो चुकी हैं |

वो बोली मैं अब जा रही हूँ और तुम भी सो जाओ नही बीमार हो जाओगे ? मैं उसकी वो बाते सुनकर उससे बोला की यार कुछ नही होगा ये तो तुम्हारे प्यार की कशिश है जो मुझे इतनी रात तक जगाती रही | फिर मैंने उसे अपनी बाँहों में भर लिए और वहीँ पर लेट गया | वो भी मेरे साथ लेट गयी |

मैं उससे आई लव यू जान मैं तुमसे बहुत प्यार करता हूँ | फिर मैंने अपने फ़ोन में एक सेक्सी मूवी चलाई और रोक दिया | मैं इतना करने के बाद कमरे से बाहर चला आया की वो उस मूवी को देख सके | वो बहुत सर्मिली थी अगर मैं उसके सामने रहता तो वो नही देखती | वो उस मूवी को देखने लगी थी |

मैंने सोचा अब मुझे चलाना चाहिए नही तो वो जाने को बोलेगी | मैं जैसे ही कमरे में पंहुचा तो मैंने देखा की वो मूवी देख रही थी और मुझे देखकर शर्म के मारे अपनी आँखों को नीचे कर लिया | दोस्तों वो विडियो देखकर वो गर्म हो गयी थी और उसकी चूत गीली हो चुकी थी | तब मैंने उसको पकड कर लेट गया और उसकी होठो पर अपनी होठो को रख कर चूसने लगा |

उस रात वो भी मेरा साथ देने लगी थी और मेरी होठो को चूसने लगी थी | मैं जब उसकी होठो को चूस रहा था तो मुझे उसकी होठो को स्वाद कुछ मीठा सा लग रहा था | क्या रसीली होठो थी उसकी दोस्तों मेरे मुंह में पानी आ गया |

मैं उसकी होठो को चूसने के साथ अपने हाथ को उसकी कुर्ती के अन्दर डाल दिया और उसके एक संतरे जैसे दूध को पकड कर हल्के हाथ से दबा दिया | उसके मुंह से आह ह… ह… की आवाज निकल गयी |

मैं उसके साथ ये कर रहा था और वो मस्त हो चुकी थी | मुझे उस रात लग रहा था की मैं उसे अपना बना लूँगा और अपने काम में लगा हुआ था |

दोस्तों इसके आगे की कहानी मैं अगले भाग में लेकर आऊंगा | धन्यवाद……………
      edit

0 comments:

Post a Comment