Monday, February 12, 2018

Published 10:44 PM by with 0 comment

भाभी की चुदाई की देसी क्सनक्सक्स स्टोरी

फ्रेंड्स… मैं 23 साल का करन कोटा (राजस्थान) से हूँ. यह मेरी पहली सच्ची देसी क्सनक्सक्स स्टोरी है. मुझे उम्मीद है कि मेरी इस कहानी को लड़कियां और भाभियाँ जरूर पसंद करेंगे… और दोस्तों का क्या है वो तो चुत के नाम पर वैसे ही चोदने के लिए लंड खड़ा कर लेते हैं.

मेरी भाभी का नाम रश्मि है. उनकी उम्र 27 साल है. वो गोरी और मोटी गांड वाली माल किस्म की भाभी हैं. उनकी हाइट करीब 5.4 है.

मेरे भैया हमेशा काम में बिज़ी रहते हैं. वो भाभी पर कम ही ध्यान देते हैं. मैं मेरी भाभी का अच्छा दोस्त हूँ. हम साथ में मूवी भी देखने थियेटर्स में जाते हैं.

एक दिन मैं इन्स्टिट्यूट से घर आया तो देखा भाभी कंप्यूटर पर क्सनक्सक्स मूवी देख रही हैं. मुझे अजीब सा लगा… मैंने कभी भाभी के बारे में ऐसा नहीं सोचा था. इसके बाद मैं भाभी की हरकतों को देखने लगा. मुझे समझ आया कि भाभी प्यासी हैं और वे चुदाना चाहती हैं. अब उनको देखने का मेरा नजरिया बदल गया था और अब मैं किसी तरह भाभी को चोदना चाहता था.

कुछ दिन बाद भैया काम से दस दिनों के लिए दिल्ली से मुंबई गए. इस वक्त मौक़ा दिखा तो मेरे मन में भाभी को चोदने के ख्याल आने लगे.

दूसरे दिन भाभी काली साड़ी पहने बहुत सेक्सी लग रही थीं. उनका लो कट ब्लाउज बहुत इन्वाइटिंग था.
मैं नाश्ते के समय भाभी का क्लीवेज देखे जा रहा था. भाभी ने ये बात नोटिस की और पूछने लगीं- क्या देख रहे हो करन?
मैं शर्मा गया और बोला- कुछ नहीं.
भाभी इठला कर खुल कर बोलीं- शरमाओ मत… बोल दो, अगर तुम मेरे बूब्स देखने की कोशिश कर रहे थे तो साफ़ बता दो न?



यह सुन कर मैं शॉक्ड रह गया. मैंने हाँ बोला और भाभी से माफी माँगी.
यह सुन कर भाभी हंसी और बोलीं- ये तो मालूम है कि अब तू जवान हो रहा है… पर अपनी भाभी के बारे में गंदा सोचता है ये पहली बार मालूम हुआ.
मैंने कहा- आप बहुत सेक्सी हो भाभी. मेरा मन आपके साथ शादी करने का करता है.
भाभी बोलीं- पागल है तू… फिर तेरे भैया क्या करेंगे?
मैंने बोला- भाभी, मैं आपको किस करना चाहता हूँ.
वो बोलीं- कर ले ना, मैं तुझे मना थोड़ी करूँगी.
मैंने कहा- किस होंठों पर करना है.
वो बोलीं- हाय राम… क्या बोल रहा है.

मैं अचानक भाभी के होंठ चूमने लगा… पहले तो भाभी विरोध कर रही थीं, पर मैंने उनके हाथ पकड़ लिए और किस करने लगा तो भाभी ने भी खुद को ढीला छोड़ दिया.

किस खत्म होने के बाद वो एकदम से बदले हुए स्वर में बोलने लगीं- अरे नालायक, अपनी भाभी के साथ क्या करता है… तू तो हरामी है रे. मैं तेरे बारे क्या क्या सोचती थी… तुझे भोला-भाला अच्छा लड़का समझती थी… हराम की औलाद…
मैंने निडर होकर बोला- साली कुतिया, कंप्यूटर पे क्सनक्सक्स मूवी देखती है और अभी नाटक करती है. साली आज तुझे नंगी करके चोदूँगा.
भाभी ने मुझे एक थप्पड़ ज़ोर से गाल पे मारा. मैंने उन्हें उठा कर बिस्तर पर पटक दिया और बोलने लगा- बोल खुद से चुदेगी या जबरन मसल दूँ तुझे?

अगले ही पल उन्होंने मुझे एक आँख भी मारी और मेरा लंड दबा दिया.

वो बोलीं- बेटा, चोद ले मुझे… आज मैं तेरी हूँ… बस आज के लिए ही हूँ… वैसे भी कई दिनों से लंड की प्यासी हूँ. तभी तो क्सनक्सक्स देख कर फिंगरिंग करती थी. तेरा भाई साला छोटे लंड वाला बिज़ी आदमी है… तुझमें कितना दम है, देखती हूँ.

मैं भाभी के मुँह से इस तरह की बातें सुन कर शॉक्ड रह गया. फिर मैंने भी सोचा कि पहले चोद लें फिर देखेंगे क्या होता है.

मैंने भाभी को फिर से किस किया और उनके रसीले होंठ चाटने लगा. अगले कुछ ही मिनट में हम दोनों गरम हो गए. मैंने अपने कपड़े निकाल दिए और भाभी को अपना 7 इंच लंबा लंड दिखा दिया.

मैं बोला- बोल मेरी रंडी भाभी… चुत के इतना बड़ा लंड काफ़ी है या फिर गधे के नाप का लेना है?
वो बोलीं- आह क्या मस्त लंड है तुम्हारा… मुझे पहले लंड चाटने दो.

मैंने लंड भाभी के मुँह से लगा दिया और भाभी आइस्क्रीम के जैसे लंड को चाटने लगीं.

पांच मिनट तक लंड चाटने के बाद मैंने उनसे कहा- छोड़ दे रंडी भाभी… मेरा लंड का पानी निकल जाएगा.
मैंने लंड खींचा और बाथरूम में माल गिराने को भागा. भाभी चिल्लाईं- सुअर की औलाद… भोसड़ी के मेरे मुँह में गिरा ना…

मैं माल गिरा कर वापस आया और उनकी साड़ी उतार कर उनको पूरा नंगी कर दिया. मैं नंगी भाभी के मम्मों को पूरी दम से दबाने लगा.

वो बोलीं- आह… उखाड़ना है क्या… धीरे दबाओ राजा… मैं कहीं भागी नहीं जा रही.
मैंने उनसे बोला- साली कुतिया, मैं सुअर की औलाद हूँ ना… इसलिए ज़ोर से ही दबाऊंगा.
वो बोलीं- मेरी गालियों का बुरा मत मानो राजा… मुझे चुदाई के समय गालियाँ देना अच्छा लगता है.
मैंने बोला- माँ चोद दूँगा आज तेरी… साली कुतिया… चल अपनी चुत दिखा.

भाभी ने इठलाते हुए अपनी जाँघों के फंसी चुत को खोला… आह्ह… उनकी क्या मस्त पिंक चुत थी… मैं देख कर मस्त हो गया. भाभी की चुत बिल्कुल चिकनी चुत थी.

मैं झुक कर पहले भाभी की चुत को सूंघने लगा क्योंकि मुझे चुत की महक बहुत पसंद है.

आप सब जानते ही हो कि चुत की महक मदहोश कर देने वाली होती है.

भाभी बोलीं- अहह… क्या कर रहे हो जानू.
मैंने कहा- गुलाब की ख़ूशबू सूंघ रहा हूँ.
वो बोलीं- ये तो अब तुम्हारी ही है राजा.
मैंने कहा- हाँ रानी…
मैं उनकी चुत को चूम लिया, वो सिसक उठीं- इसस्स… क्या कर रहे हो राजा… मेरी चुत में बहुत खुजली होती है.
मैं बोला- चिंता मत कर रानी… आज चुत की खुजली को शांत कर दूँगा.

वो मेरा सर पकड़ कर अपने चुत पर दबाने लगीं. उसके बाद मैंने भाभी की चुत को धीरे-धीरे चाटना शुरू किया. बहुत अच्छा स्वाद था भाभी की चुत का. उनकी चुत से लिसलिसा सा पानी निकलने लगा. मैं उस नमकीन अमृत रस को चाटने लगा. इसके बाद मैंने भाभी की गांड के छेद को भी चाटा और सूँघा.

वो मस्त हो कर तड़पने लगीं और कहने लगीं- अह… अब रहा नहीं जाता… अपना लंड डाल भी दो करन… नहीं तो मैं मर जाऊंगी.
मैं बोला- अभी डालता हूँ मेरी रानी.

मैंने अपना लंड उनकी चुत के मुँह पर रखा और एक जोरदार धक्का दे मारा… मेरा 4 इंच लंड एक ही बार में घुस गया. भाभी ज़ोर से चिल्ला पड़ीं- आआह… अह… नहींइ… बहुत दर्द हो रहा है… निकालो.

मैं थोड़ा रुक गया और भाभी के चूचे को चूसने लगा. थोड़ी देर बाद वो शांत हुईं तो मैंने फिर एक जोरदार धक्का मारा. अब मेरा लंड उनकी चुत में पूरा चला गया.

भाभी कस के चिल्लाईं- आआह… मर गई माँआ…

मैं झुक कर भाभी के होंठ चूसने लगा और उनके चूचों को मसलने लगा.

धीरे-धीरे भाभी शांत हुईं तो मैं धक्का लगाने लगा. वो बोलने लगीं- धीरे करो दर्द करता है.
मैंने कहा- बस मेरी जान… थोड़ी देर में बहुत मज़ा आएगा.
मैं उन्हें धकापेल चोदने लगा. कुछ ही धक्कों बाद भाभी भी कहने लगीं- आह मजा आ रहा है…
भाभी को अच्छा लगने लगा और वो सिसकने लगीं- आअहह एमेम नहीं… बस ऐसे ही राजा और चोदो मुझे… ओफफ्फ़ प्लीज़ फास्ट हाय… क्या मजा आ रहा है.

मैं उन्हें दम से चोदने लगा. पूरे कमरे में ‘फॅक फॅक’ की आवाज़ गूंजने लगी. वो मुझसे लिपट गईं और मुझे चूमने लगीं

भाभी की साँसों की ख़ूशबू ने मुझे पागल कर दिया… और मैं पूरी तन्मयता से भाभी को चोदने लगा.

वो झड़ने वाली हो गईं और बोलने लगीं- अब मैं झड़ने वाली हूँ.

मैं और तेज चोदने लगा और मैं भी झड़ने के कगार पर आ गया. बस हम कुछ ही धक्कों बाद एक साथ झड़ गए. मैंने भाभी की चुत को अपने लंड रस से भर दिया. भाभी मुझसे लिपट कर एक घंटे तक निढाल पड़ी रहीं.
      edit

0 comments:

Post a Comment