Saturday, February 17, 2018

Published 7:55 AM by with 0 comment

चुदाई फूल सी लड़की की चूत की

दोस्तो, मेरा नाम राज है और मैं पटना से हूँ, मेरी हाईट पांच फीट सात इंच, रंग सामान्य पर मैं हैंडसम हूँ इसलिए लड़कियाँ मुझे पसंद करती हैं।
तो मैं अपनी हिंदी पोर्न स्टोरी पर आता हूँ बिना टाइम गंवाए।

यह बात तब की है जब मैं क्लास 12 में था, तब मैं बहुत शर्मीला किस्म का लड़का था, ज़्यादा किसी से बात नहीं करता अपने ही पढ़ाई में मगन रहता। तो क्लास की एक लड़की जिसका नाम भूमिका था, वो थी फूल सी नाजुक, बहुत सुन्दर, गोरा रंग, बार्बी डॉल जैसा चेहरा, हाइट पांच फीट दो इंच, संगमरमर जैसा बदन, 32-26-34 फिगर… अब आप खुद ही समझ सकते हैं कि वो कैसी होगी।

मैं क्लास का मॉनीटर था तो एक दिन वो किसी लड़के की शिकायत लेकर आई मेरे पास क्योंकि हमारे स्कूल का नियम है कि टीचर से पहले मॉनीटर प्रॉब्लम को सोल्व करने की कोशिश करेगा.
वो मेरे पास आई और बोली- हाय राज!
मैं- हेल्लो, क्या है?
भूमिका- दरअसल एक लड़का मुझे परेशान कर रहा है!
मैं- कौन है वो, नाम बताओ?
भूमिका- चलो मेरे साथ… मैं दिखाती हूँ!
मैं- ठीक है, चलो!

Read Also: सेक्सी माया की अन्तर्वासना-Full Story Including Part 3
                   मेरे जिस्म की अनबुझी प्यास
                   भौजी से खेली चूत लंड की होली खेत में

मैं उसके साथ उसके पीछे पीछे चल दिया. वो एक रूम में गयी जो बंद रहता था. उस रूम में पहुँचते ही उसने दरवाजा बंद कर दिया।
मैं डर गया कि यह क्या हुआ क्योंकि तब तक मैं लड़कियों से दूर भागता था।

वो मेरे पास आई और मेरे कान में बोली- प्यार से देखो… यही है वो लड़का जो मुझे परेशान करता है।
मैं- कौन है वो? कहाँ है?
उसने कहा- मेरी आँखों में देखो, खुद पता चल जाएगा.



मैं समझ गया कि मैं ही था वो!
लेकिन मैं परेशान सा हो गया था और खड़ा खड़ा सोचने लगा था कि यह मेरे साथ क्या हो रहा है.
तभी उसने तुरंत मुझे एक लाल गुलाब दिया और ‘आई लव यू…’ बोला।
मैं फिर स्तब्ध सा रह गया कि इतनी खूबसूरत फूल सी लड़की ने मुझे खुद प्रोपोज किया!

वो मुझे चुप देख कर दो मिनट बाद फिर बोली- हेलो राज, कहाँ खो गए, चुप क्यों हो? मेरी बात का जवाब क्यों नहीं ड़े रह?
मैंने धीरे से कहा- भूमिका… मैं तुम्हें सोच के बताऊंगा!
क्योंकि मैं इस सब झमेले में नहीं पड़ना चाहता था… कैरियर बनाना था मुझे!
उसने कहा- ओ के, ठीक है, बाद में बाद देना!
और उसने मेरा फोन नंबर मांग लिया, मैंने दे दिया।

मैं घर आया और इसी बारे में सोचता रहा, रात को मुझे नींद नहीं आ रही थी. तभी मुझे भूमिका का कॉल आया।
मैं- हेल्लो कौन?
भूमिका- हैलो इतनी जल्दी भूल गए आप?
मैं- ओह भूमिका, बोलो क्या बात है?
भूमिका- मेरे सुबह वाले सवाल का जवाब बताओ।
मैंने बोल दिया- लव यू टू!
मैंने बहुत सोचा इस बारे में कि यह लड़की मेरे से प्यार करती है और कहीं न कहीं मुझे भी प्यार हो गया था उससे… भूमिका बहुत ब्यूटीफुल और क्यूट जो थी!

भूमिका- ओह माय गॉड… रियली! मुझे तो विश्वास ही नहीं हो रहा अपने कानों पर!
मैं मजाकिये लहजे में- तो मत करो विश्वास… पर मैं तो तुमसे प्यार करता हूँ.
भूमिका- आई एम् सो हैप्पी!

वो बोली- और बताओ क्या कर रहे हो आप?
मैं- बस तुमने मेरी नींद उड़ा दी है, तुम्हारे बारे में ही सोच रहा था सुबह से!
भूमिका- अच्छा जी, तो चलो अब सो जाओ मेला बाबू, रात बहुत हो गयी सुबह मिलते हैं क्लास में!
मैं- अच्छा ठीक है, मैडम और हस्बैंड वाली फीलिंग आ रही है।

चलो, मैंने आपको बहुत बोर कर दिया यह सेक्स साईट है यहां सेक्सी स्टोरी होंनी चाहिए मैं अपनी लव स्टोरी सुनाने लगा. सॉरी!

तो हमारे प्यार की शुरुआत हुई धीरे धीरे किसिंग शुरू हुई और चूची दबाना शुरू हुआ।

एक दिन मेरे घर कोई नहीं था, सब पार्टी में गए थे तो मैंने अपनी क्लासमेट, अपनी गर्लफ्रेंड भूमिका को फ़ोन किया और कहा- यार आज मेरे घर कोई नहीं है, मैं अकेला बोर हो रहा हूँ, तुम मेरे घर आ जाओ!
थोड़ी ना नुकुर के बाद वो मान गयी और मेरे घर आई, बेल बजाई।

मैंने दरवाजे को खोला देखा उसे देखता ही रह गया… क्या क़यामत लग रही थी… पोनी टेल बाल का स्टाइल, स्किन टाइट ब्लैक जीन्स, एंड वाइट टॉप स्लीवलेस!
मैं तो उसी में खो गया.

उसने मुस्कुरा कर कहा- हेल्लो जी, क्या देख रहे हो?
मैंने कहा- कुछ नहीं.
वो हंसती रही।
मैंने उसे अंदर आने को कहा और उसे सोफे पे बैठाया और मैं कॉफी बनाने गया.

मैं दो कप कॉफी लेकर आया और हम पीने लगे। उसे देख कर मेरा लंड खड़ा हो गया था जो मेरे लोअर में से साफ़ झलक रहा था। उसने यह नोटिस किया.
उसने कहा- जानू आपका बैडरूम तो दिखाओ जिसमें मैं रहूंगी शादी के बाद आपके साथ!
शरमाते हुए वो बोली.
मैंने कहा- चलो!

मैंने उसे बैडरूम दिखाया.
उसने कहा- वाओ अच्छा है!
वो बेड पर बैठ गयी, मैं भी उसके बगल में बैठ गया और उसकी चूची को निहारने लगा, आज उसकी चूची कुछ ज़्यादा ही बड़ी लग रही थी… शायद मेरे हॉट होने के कारण।

मैंने उसका हाथ पकड़ा और उसे अपने ऊपर गिराया और उसके लिप्स पे किस करने लगा और उसके मम्मे दबाने लगा.
वो भी मेरा साथ देने लगी और सीत्कारने लगी- आह्ह ओह्ह जानू आअह्ह!

अब मैं उसका टॉप उतारने लगा तो उसने मेरा हाथ रोक दिया और कहा- नहीं, ये सब शादी के बाद!
मैंने कहा- बेबी, शादी तो करेंगे ही और शादी के बाद भी प्यार करेंगे ही… तो पहले क्यों नहीं? मेरा बहुत मन है!
थोड़ी ना नुकुर के बाद मान गयी।

मैं उसका टॉप उतार के उसके मम्मे काली ब्रा के ऊपर से दबाने लगा और निप्पलों को मसलने लगा और एक हाथ जीन्स में डाल के चूत को सहलाने लगा। अब मैंने उसकी जीन्स उतारी और वो ब्लैक ब्रा एंड पैंटी में थी बड़ी सेक्सी और हॉट लग रही थी।
मैंने उसकी ब्रा एंड पैंटी निकाल दी, उसके मम्मे गोल गोल गोरे चूचक गुलाबी थे और चूत शेव्ड गुलाबी थी, बिल्कुल कच्ची कली थी वो!

अब मैंने उसके मम्मे को चूसना शुरू कर दिया और साथ में चूत के दाने को सहला देता, मैं उसकी चूत में उंगली भी कर रहा था, पहले एक ही उंगली डालने में परेशानी हुई, बड़ी मुश्किल से अंदर गयी।
वह सिसकार रही थी- आआह्ह उम्म्ह… अहह… हय… याह… आह ओह्ह जानू आअह इह्ह्ह!

मम्मे चूसने के बाद मैं उसकी चूत के तरफ गया और जैसे ही उसकी चूत पर मुख लगाया तो उसने कहा- छी: यह क्या कर रहे हो? यह कोई चाटने वाली जगह नहीं है जानू, गन्दी जगह है!
मैंने कहा- शोना, तुम्हारे सारे अंग मेरे लिए अच्छे हैं और यह तो जन्नत का द्वार है!
वो हँसने लगी।

मैं उसकी चूत को चाटने लगा, उसे अच्छा लगने लगा, मजा आने लगा तो वो सीत्कारने लगी- आअह आह आआअहह… और ज़ोर से चाटो जानू… आह ओह माय गॉड आह।
उसने कहा- जानू, आप मेरी चूत चाट रहे हो तो मैं भी आपका लंड चूसना चाहती हूँ।
मैंने कहा- ठीक है!

उसने मेरे सारे कपड़े उतार दिए और नीचे बैठ गयी और मेरे लंड को सहलाने लगी, चूसने लगी ‘सरप्प्प सलरप्प सरप्पप्प!
मैं- आअह आअह आह… जोर से चूसो आह!
करीब 5 मिनट लंड चुसाने के बाद मुझे लगा कि मेरा निकलेगा तो और ज़ोर से वो चूसने लगी.
आह…
कुछ टाइम में मैं झर गया और उसने पी लिया शायद उसे टेस्ट अच्छा लगा होगा।

हम ऐसे ही नंगे लेट गए बेड पर और कुछ टाइम बाद उसने मेरा लंड सहलाना शुरू कर दिया, मेरा लंड भी खड़ा हो गया, मैंने उसे किस किया और लंड को उसकी प्यारी सी चूत पे रगड़ने लगा. उसने कहा- कुछ लगा लो, वरना नहीं जाएगा अंदर!
मैं वेसलीन लाया और लगा ली लंड पे और उसकी चूत पे भी।

अब मैंने लंड को उसकी चूत पे रख कर थोड़ा ताकत वाला शॉट मारा और लंड का सुपारा चूत में गया और वह चिल्लाने लगी- आह आह आआह… जोर से डाल दिया आपने तो।
मैंने उसके होंठों को अपने होंठों में दबा कर और जोर का शॉट मारा और लंड आधा चूत में चला गया.
वो ज़ोर से चिल्लाई पर उसकी आवाज़ मेरे मुँह में दब गयी। मुझे भी बहुत ज़ोर की जलन हुई लंड पर!

मैंने नीचे की तरफ देखा तो उसकी चूत से खून आ रहा है। मैंने साइंस में पढ़ा था कि फर्स्ट टाइम वेजाइना डिस्ट्रक्शन में ब्लड आता है(पहली बार चूत खुलने में खून आता है.)
मैंने अब शॉट नहीं मारा, मैं रुका रहा, उसका दर्द जब कुछ कम हुआ तो मैंने धक्का मार कर लंड पूरा अंदर डाल दिया. अब वो बहुत ज़ोर से चिल्लाई- ऊई माँ मरर गयी मैं… आअह निकालो जानू… आअह बहुत दर्द हो रहा है प्लीज!

मैंने ऐसे ही रहने दिया क्योंकि दर्द तो मुझे भी हो रहा था। कुछ टाइम बाद वो कमर उठाने लगी तो मैं समझ गया कि अब अच्छा लग रहा है इसे।
मैं शॉट्स मारने लगा और चोदने लगा अपनी जान को ज़ोर से… और वो सिसकारियाँ भरने लगी- आअह आअह आआअह जानू ज़ोर से आअह चोदो मुझे! आज मेरी चूत की प्यास बुझा दो! आह!

15 मिनट ऐसे ही चुदाई करने के बाद वो दो बार झड़ चुकी थी मैं भी झड़ने के करीब ही था तो मैंने लण्ड को चूत से बाहर निकाल लिया क्योंकि मैं रिस्क नहीं लेना चाहता था प्रेग्नेंट करने का! मैं अपना लंड उसके मुँह में डाल दिया और वो चूसने लगी ‘सरप्प सरपप्प…’
मैं उसके मुख में झड़ गया. आअह्ह आआह आह आअह और वो पी गयी।

हम ऐसे ही लेटे रहे कुछ देर! जब वो उठने लगी तो उससे चला ही नहीं जा रहा था। कुछ टाइम बाद मैंने उसे उठाया और कपड़े पहनाये. और हम ड्राइंग रूम में आकर बैठ गए, बातें करने लगे!

कुछ देर बाद मेरा दोबारा चुदाई का मन किया पर उसको ज़्यादा दर्द था तो अपनी जान को दर्द में मैं नहीं देख सकता था तो उसे मैंने बाइक से घर के पास छोड़ दिया।

यह मेरी पहली स्टोरी थी बिना मिर्च मसाले के साथ… जो लिखा है, वही हुआ था, यही सत्य था.
      edit

0 comments:

Post a Comment