Thursday, February 8, 2018

Published 2:00 AM by with 0 comment

गांडू पठान की गांड मारी मैंने और मेरे दोस्तों ने

हैल्लो दोस्तों कैसे हैं आप सभी ? आशा करता हूँ कि आप सब मजे में होंगे और खूब चुदाई का आनंद ले रहे होगे सब | दोस्तों मेरा नाम अराध्य है और सतना का रहने वाला हूँ | वैसे तो मेरी पढाई हो चुकी है पर मेरे बाप का बहुत बड़ा करोबर है इस वजह से मैं कुछ नहीं करता हूँ बस अपने बाप के पैसों पे ऐश करता हूँ | आज जो मैं आप लोगों को कहानी बताने जा रहा हूँ ये कहानी थोड़ी विचित्र है | मेरे कहने का मतलब ये है की आज मैंने चूत नहीं गांड मारी है कहानी और वो भी एक पठान की | चलो मेरे प्यारे लौड़ों और चूतों अब मैं आप लोगों को उसकी गांड मारे की कहानी सुनाने जा रहा हूँ | अपना अपना लंड थाम के बैठना क्यूंकि इस कहानी में उस पठान की माँ भी चोद दिए थे आइये बताता हूँ कैसे |

ये बात आज से 2 साल पहले की है जब मैं और मेरे दोस्तों ने प्लान बनाया था जम्मू घूमने का और ठंड भी आने वाली थी और हम लोग सब गुलाबी सुबह देखना चाहते थे और स्नो फॉल देखना चाहते थे | वैसे तो सतना कोई बड़ी सिटी है नहीं और वहाँ सब जगह घूम चुके थे तो इस बार हमारा प्लान जम्मू का बना | हम लोगो ने रिजर्वेशन कराया और 10 दिन के बाद हमारी ट्रेन थी | बाप रईस है मेरा तो रिजर्वेशन में कोई दिक्कत नहीं आई, मैं और मेरे 6 दोस्त कुल मिला कर हम 7 लोग जम्मू की यात्रा पर निकल रहे थे | फिर वो दिन भी आ गया जब हमारा निकलना हुआ हम लोगों ने स्टेशन के पास वाली बार से दारू ली थी | मतलब कुल मिला कर हम लोगो ने पूरा स्टॉक रखा हुआ था क्यूंकि टेंडर चेंज हुआ था यहाँ माल सस्ता था और हम वहाँ कोई भी दारू के बगैर नहीं रह सकते थे वो भी ठंड में | ट्रेन चालू हो चुकी थी और हम सब अपना अपना सामान ट्रेन में रख कर आराम से बाते कर रहे थे मुहचोदी कर रहे थे | फिर उसी समय एक पठान आ गया और उसने कहा की मैं यहाँ अपना सामान रख सकता हूँ क्या ? तो हम लोगों ने कहा हाँ हाँ भाई रख लो अपना सामान और खूब हँसे, उसे ये बात नहीं समझ में आई क्यूंकि हमलोगों ने डबल मीनिंग बात पर हंस रहे थे | हमारी जगह पर कोई लड़की नहीं थी ना ही कोई बड़ा सज्जन था | अब रात के करीब 9 बजे हम लोगों ने सोचा की चलो खाना खाते हैं फिर हम सब अपने अपने पैक किये हुए खाने को खोला और दो बोतल दारू की निकाली और मस्त खा रहे थे और पी रहे थे | पठान बड़े गुस्से देखा रहा था हम लोगों को कि हम लोग दारू पी रहे हैं | उतने में मेरा एक दोस्त निशांत ने कहा ले भाई तू पिएगा शराब तो उसने कहा की नहीं मैं शराब नहीं पीता हूँ फिर हम लोगो ने उसे नहीं पूछा |



हम लोग अपने में ही मुहचोदी कर रहे थे और शराब के नशे में पत्ते खेल रहे थे | रात को 12 बजे हम लोगो ने सोचा की चलो यार अब सोया जाए बहुत टाइम हो गया है | फिर हमलोग सोने लगे थे रात में मेरा एक दोस्त सौरभ टॉयलेट करने के लिए उठा तो उसने देखा की साकेत सोया हुआ है और वो पठान उसका लंड पकड़ के सहला रहा है | वो थोड़ी देर चुप रहा फिर उसने एक दम से लाइट जला दी और उसे पकड़ लिया | उसके बाद हमलोग सबको उठाया और साकेत कुछ ज्यादा टल्ली था तो उसकी नींद नहीं खुली हमलोग सब बहुत हंस रहे थे और साकेत का और उसका वीडियो बना कर खूब हंस रहे थे |

loading...
फिर पठान से पूछा क्यूँ बे मादरचोद छक्के ये तेरी कैसी गांडमस्ती है ?

तो उसने कहा की मुझे माफ़ कर दो गलती हो गयी मुझसे |

फिर हमने कहा अबे बहन के लौडे हमे क्या चोदू समझा है तूने ?

सॉरी सोरी मुझे म्म्माफ माफ़ कर दो |

अबे तेरी माँ की चूत अबे सौरभ उठा जरा साकेत को |

(साकेत उठने के बाद सखते में आ जाता है )

साकेत ने उसको खींच के दो थप्पड़ मारता है और वो रोने लगता है और ये देख कर हमलोग बहुत हँसे की साला पठान मीठा तेरा लंड हिला रहा था | फिर क्या था हमलोग ने उसका नंगा किया और मोबाइल से वीडियो बनाने लगे | हम सब ने पहले उसको अपना अपना लंड चुस्वाया और वो हम लोगों के लंड बारी बारी से बड़े मजे चूसे जा रहा था | हमलोग को भी मजा आ रही थी क्यूंकि ठंड का टाइम था और हम सब टल्ली भी थे | उसके बाद हम सब ने एक एक करके उसकी गांड मारी और मादरचोद को खूब मार मार के अपना लंड चुस्वाया और मार मार के उसकी गांड चोदी | पठान की गांड फट गई थी हमलोग सबसे चुदवाने में | पठान ने बोला की मुझे अब जाने दो मैं पठानकोट उतरूंगा तो हमने कहा की अबे तेरी माँ का भोसड़ा तू अब कहीं नहीं जायगा अब तू चल सीधा हमारे साथ जम्मू वो डर गया | वो जाने की मन्नते करने लगा, हमलोग को गुस्सा आ गया | एक तो मादरचोद गलत हरकत करते हुए पकड़ा गया और ऊपर से बहनचोद नाटक कर रहा था | फिर मेरा एक और दोस्त जिसका नाम अनंत है उसने उसकी कॉलर पकड़ा और बोला मादरचोद अगर तू उतरा तो चलती ट्रेन से फेंक दूंगा |

ये सुन के उसकी गांड फट गई जो बाकि बची हुई थी क्यूंकि बाकी तो हमने गांड मार मार के फाड़ दी थी | फिर जैसे तैसे हमलोग जम्मू पहुंचे तब उसने फिर कहा कि अब मुझे जाने दो अब तो तुमलोग सब यहाँ आ तो गए न और फिर रोने लगा अनंत ने फिर उसको थप्पड़ मारा और बोला की मादरचोद चुपचाप रह तू | जब हम बोलने को बोलेंगे तब ही तू बोलेगा नयी तो कुछ नहीं बोलेगा | फिर वो शांत रहा कुछ टाइम तक, एक घंटे बाद हम सब ने अपने रूम में सामान रखा और उसको बोला की अब तो नशा उतर गया है चल बे गांडू चालु हो जा | अब वो भी क्या करता सब के लंड बारी बारी से फिर चूसने लगा और चाटने लगा हम लोग सब उसके बहुत मजे ले रहे थे | जैसे ही किसी एक का लंड चूसने के लिए झुकता कोई दूसरा उसकी गांड में लंड डाल देता और वो उचक जाता |

अब वो एक का लंड चूसता तो दूसरा उसकी गांड मरता | उसको चोदने के बाद फिर हम सब ने खाना खाया होटल में ही उसे भी खिलाया | फिर हमने उससे पूछा कि चल बता अब मादरचोद यहाँ रंडियां कहाँ मिलेगी | फिर वो हम लोगों को बहुत दूर एक कस्बे में ले गया वहां पर जगह जगह पर बहुत सारी रंडियां थी | फिर उसके बाद उसने हमारी बात करवाई उनसे फिर हमने उससे बोला कि चल बेटा अब निकल लो तुम यहाँ से वरना जब तक हम यहाँ रहेंगे तुम्हे रगड़ते रहेंगे | फिर वो जल्दी से दौड़ लगा के भाग गया वहाँ से फिर हम सब एक एक रंडी के पास पहुंचे वो सब को अलग अलग कमरे में ले गई | जिस लड़की के साथ मैंने चुदाई किया था वो 20 साल की थी उसकी नथ उतर चुकी थी और वो दुसरे बार मुझसे चुदवा रही थी |

वो मुझे अपने रूम में ले गई और फिर उसने आपने कपडे उतारे और मेरे भी कपडे उतारे वो मेरा लंड देख कर डर रही थी मैंने उसे बोला की डरो मत कुछ नहीं होगा बल्कि तुम्हे ही उलटा मजा आयगा | वैसे दोस्तों उस लड़की की गांड ही बस बड़ी थी दूध भी ज्यादा बड़े नहीं थे और वो खुद पतली सी थी पर गांड बहुत मस्त थी उसकी | उसकी चुदाई करने के बाद उसने मुझसे कहा कि यार तुम्हारा लंड मुझे बहुत पसंद आया मैंने भी कहा कि मुझे तुम्हारी गांड बहुत पसंद आई है | तो वो जोश में आ के बोली कि अगर मेरी गांड इतनी ही पसंद आई है तो मेरी गांड बिना चोदे कैसे जा सकते हो | तो मैंने कहा की अगर मैं तुम्हारी गांड चोदुंगा तो कहीं फट न जाए दर्द तुम्हे ही होगा | उसने कहा जब जिन्दगी में दर्द ही लिखा ही तो ये भी सही | फिर मैंने उसकी दो बार गांड चोदा था उसकी गांड का तो मैं सच में कायल हो गया था | फिर उसके बाद हम सब दोस्त बाहर मिले और होटल आ कर आराम किया अगले दिन फिर हम सब जम्मू घूमने निकल पड़े |

दोस्तों ये एक दम सच्ची घटना है जो मैंने आप लोगो को बताया | उम्मीद करता हूँ की आप लोगों को मेरी ये कहानी जरुर पसंद आई होगी | एक कहानी और है दोस्तों जो मैं आप लोगो को बाद में बताऊंगा क्यूंकि अभी तक मैं उस लड़की चोद नहीं पाया हूँ |
      edit

0 comments:

Post a Comment