Monday, February 12, 2018

Published 10:36 PM by with 0 comment

गर्लफ्रेंड ने पड़ोसन भाभी की चूत दिलवाई

आप सब को मेरा नमस्कार!
मेरा नाम रवि है और मेरी उम्र 25 साल है. मैं गुड़गाँव हरियाणा का रहने वाला हूँ.
मुझे देसी चुदाई कहानी  पर चुदाई की कहानियाँ पढ़ने का बड़ा शौक है, शायद ही मैंने इस साईट की कोई कहानी छोड़ी हो. इसी के चलते आज मैंने सोचा कि एक अपनी आपबीती घटना भी आप सभी से साझा की जाए.

मुझे शादीशुदा भाभी और आंटी बहुत पसंद हैं. मैं जब भी उनकी मोटी चूचियों को देखता हूँ तो मेरा मन करता है कि बस पकड़ के रगड़ दूं. आंटियों और भाभियों का गदराया हुआ बदन मेरे लंड को खडा कर देता है.

यह बात तब की है, जब मैं कॉलेज जाया करता था. मेरे घर के सामने एक परिवार रहता था, जिसमें भाई भाभी और उनके 2 बच्चे रहते थे. भाभी का नाम मीनू था. भाभी दिखने में खूब मस्त माल थीं. उनके पति दारू पीकर आते थे और रात को शोर-शराबा करके सो जाते थे. भाभी अपने पति से परेशान रहती थी.

दिन में जब भी मैं भाभी को देखता, तो मेरा मन उनको चोदने का करता, पर समझ नहीं आता था कि कैसे कहूँ. वैसे मैंने कई बार नोटिस भी किया था कि भाभी भी मुझे लाइक करती थीं क्योंकि वे जब भी मेरी तरफ देखती तो उनके चेहरे पर बहुत हल्की सी मुस्कान आ जाती थी. मुझे लगता था कि भैया उनकी शारीरिक जरूरतों का ख्याल नहीं रखते थे या रख पाते थे.

उनकी एक ठरकी सहेली पायल थी, वो उनसे उम्र में छोटी थी और उसकी शादी नहीं हुई थी, उससे मेरा चक्कर था. मैं पायल को मौक़ा मिलते ही चोद लिया करता था.
पायल ने ही मुझे बताया था कि वो कई बार भाभी के साथ लेस्बियन वाला सेक्स भी कर चुकी है.
उधर मीनू भाभी को भी पता था कि हम दोनों का चक्कर चल रहा है और हम दोनों चुदाई भी करते हैं.



कई बार भैया की नाइट ड्यूटी होती थी और उस रात वो पायल को अपने पास सुला लेती थी. उस दोनों मिल कर नंगी हो जाती और लेस्बियन सेक्स करती थी. पायल जब भी मुझे मिलती तो मुझे सब बताती थी कि उसने भाभी क साथ क्या क्या किया.

अब मैंने एक तरकीब निकाली और पायल से कहा- अबकी बार तू भाभी के घर पर सोये तो मुझे रात में भाभी के घर बुला लेना.

अब वो दिन आया जब भैया की नाइट ड्यूटी थी, तो पायल ने मुझे रात को फोन किया और आने को कहा. जब मैं उनके घर पहुँचा तो पायल ने चुपके से दरवाजा खोला और मुझे अन्दर आने को कहा.
आपको मैं बता दूं कि भाभी के घर में 2 कमरे थे. एक कमरे में भाभी बच्चों के साथ सो रही थीं और दूसरे रूम में जाकर मैं और पायल एक दूसरे को चूमने लगे. ध्हिरे धीरे हम दोनों नंगे हो गए और चुदाई का खेल शुरू हो गया.

लेकिन मुझे तो पायल को नहीं, भाभी को चोदना था, इसलिए मैंने पायल को नंगी करके चोदना चालू किया. चूंकि भाभी को ये तो पता था कि मैं वहीं पर दूसरे कमरे में पायल के साथ हूँ. जब पायल की ‘उम्म्ह… अहह… हय… याह…’ दूसरे कमरे में लेटी भाभी के कानों में पहुँची, तो शायद उनसे देखे बिना नहीं रहा गया और वो हमारे कमरे में आ गईं.

पायल का उनके सामने नंगी होना नॉर्मल था.. लेकिन मैं थोड़ा डरने का दिखावा करने लगा. पायल भाभी के पास गई और उसने भाभी को किस करके उनके मम्मों को दबाने लगी. इस बात पर भाभी ने कोई ऐतराज नहीं किया, जिसे देखकर मेरी भी हिम्मत बढ़ गई.

अब मैं भी भाभी के पास आ गया और उनको और पायल को किस करने लगा. जब मैंने भाभी की चूचियों पर हाथ डाल दिया, उनको खूब मसला, फिर भाभी का ब्लाउज और ब्रा निकाली, तो मेरे सामने उनकी मोटी- मोटी चूचियाँ एकदम से बाहर उछल आईं. जिन्हें देख कर मैं तो पागल सा हो गया और एक चूचे को चूसने लगा.

अब थोड़ी देर में ही मैं, पायल और भाभी तीनो नंगे होकर एक-दूसरे को चूस रहे थे. मैं भाभी की चुत चाट रहा था और पायल मेरा लंड चचोर रही थी. फिर पायल ने मेरे लंड को अपनी चुत में लेकर चूचे हिलाते हुए उछलने लगी.

थोड़ी देर में मैं बोला कि मेरा रस निकलने वाला है.
भाभी ने अपने ऊपर वीर्य गिराने को कहा. मैंने अपना सारा वीर्य भाभी की और पायल की चूचियों पर गिरा दिया, जिसे दोनों ने चाट लिया.

फिर थोड़ी देर बाद मैंने भाभी की चुत में अपना लंड पेला और उनको चोदना चालू कर दिया.
वाहह, भाभी की चुत का क्या मज़ा आ रहा था. ऐसा लग रहा था कि उनकी चुत मेरे लंड को अपने अन्दर खींच रही है.

थोड़ी देर बाद हम दोनों एक साथ झड़ गए और मैंने अपना माल उनकी चुत में भर दिया.. जिसे बाद में पायल ने चाट लिया.

ये सिलसिला 2 साल तक चलता रहा, मुझे जब भी मौक़ा मिलता, मैं भाभी को या पायल को और कई बार तो दोनों को एक साथ चोदता था.

फिर पायल की शादी हो गई, वो दूसरे शहर में चली गई.
और भाभी और भईया ने भी कहीं और शिफ्ट कर लिया. अब मैं किसी ऐसी ही भाभी की तलाश में हूँ जो मेरे प्यासे लंड की देखभाल कर सके.
      edit

0 comments:

Post a Comment