Saturday, February 10, 2018

Published 9:00 PM by with 0 comment

रात को गर्लफ्रेंड के हॉस्टल में चुदाई

हैल्लो मैं हूँ सार्थक और मैं एक छोटे से गाँव का रहने वाला हूँ जो की कानपूर के पास है लेकिन अभी मैं चेन्नई में रहता हूँ वहां पर पढाई कर रहा हूँ | यहाँ पर मैंने एक बहुत सुन्दर और गज़ब का माल फसाया है किसका नाम है जसलीन | वो वहां पर एयर होस्टेस की ट्रेनिंग करने के लिए आई थी और एक दिन मेरी नज़र उसपर पड़ गई और मैंने उस चिड़िया को अपने जाल में फसा लिया | चलिए अब मैं आपको अपनी कहानी थोडा विस्तार से बताता हूँ |

जैसा की मैंने आप लोगों को बताया कि जसलीन वहां पर एयर होस्टेस की ट्रेनिंग करने के लिए वहां पर आई थी | मेरा एक दोस्त है जिसका नाम है लकी और वहां पर काम करता है | मैं और लकी बहुत अच्छे दोस्त और एक रूम में रहते हैं | एक दिन मुझे लकी से कुछ पैसे चाहिए थे तो मैंने उससे बात की और जहाँ को काम करता है वहां पहुँच गया | मैं जब वहां पहुंचा और अन्दर गया तो अन्दर ट्रेनिंग चल रही थी | तभी मेरी नज़र जसलीन पर पड़ी और मेरे मुंह से निकला क्या माल है बहनचोद |

फिर मैंने अपने दोस्त को बुलाया और कहा ये कौन है ? तो उसने मुझे पूरी जानकारी दी | अब मैं दो तीन दिन से रोज़ वहां पर आ रहा था और उसको देखता रहता था | एक दिन उसको एक टास्क मिला अगर बैग में लॉक लगा है और उसकी चाबी नहीं तो कैसे बैग का सामान निकालेंगे | अब मैं तो छोटी जगह से हूँ और चिंदी चोरों के साथ दोस्ती भी इसलिए मुझे ये सब बहुत अच्छे से आता था | तभी मैंने अपने दोस्त को बुलाया और उससे कहा उससे बोल अगर बिना चाबी बैग खोलना सीखना है तो मेरे पास भेज आ जाओ |



मेरे दोस्त ने उससे जाके यही कह दिया और थोड़ी ही देर में वो मेरे पास आई और उसने मुझसे कहा तुम सार्थक हो | मैंने कहा हाँ तो उसने कहा प्लाज़ मुझे ये सिखा दो तो मैंने उसको बिना चाबी के बैग खोलना सिखा दिया और वो मुझसे इम्प्रेस हो गई | लेकिन मैंने एक शर्त रखी थी मैंने उससे पहले ही कह दिया था मैं बता तो दूंगा लेकिन अपना नंबर देना पड़ेगा तो वो राज़ी हो गई थी | फिर मैंने उससे कहा ठीक है अपना दो दो उसने अपना नंबर मुझे दे दिया |

मैंने उसी दिन रात में उसको फ़ोन लगाया और कहा कैसा रहा तुम्हारा दिन बिना चाबी के | तो उसने कहा बहुत अच्छा था तुम्हारी ट्रिक तो लाजवाब थी | फिर हमारी बातें शुरू हो गई और हम बहुत देर देर टक बात करते रहते थे | फिर फ़ोन पे तो कभी मैसेज पर लेकिन बातें बराबर चलती रहती थी और हम दोनों साथ मिलकर घुमने जाने लगे | फिर एक दिन मैंने उसको प्रोपोस मार दिया और उसने कुछ दिन बाद मुझे हाँ भी कर दी | अब हम दोनों प्यार की और सेक्स की बातें किया करते थे और मैं उससे अक्सर पूछता रहता था अगर मैं तुम्हें चोदुंगा तो तुम मन तो नहीं करोगी ? लेकिन वो कुछ भी नहीं कहा करती थी |

वो वर्जिन नहीं थी क्योंकि उसके पहले भी बॉयफ्रेंड थे और ज़ाहिर सी बात है उन्होंने इसको चोदा तो होगा ही लेकिन उसने मुझसे उस बात का ज़िक्र कभी नहीं किया लेकिन मुझे पता था चुदी तो है ये | अब हम दोनों को साथ में बहुत दिन हो चुके थे और हम सिर्फ किस किया करते थे और मुझे उसके आगे बढना था इसलिए मैं उसको चोदने के लिए जगह का इंतजाम कर रहा था | लेकिन बाहर ले जा कर चोदना थोडा रिस्की काम था क्योंकि कैमरा कहीं भी छुपा हो सकता है पुलिस रेड भी मार सकती थी इसलिए मैंने कोई महफूज़ जगह पे चुदाई करने की सोची |

मुझे तो उसको चोदने की बहुत ज्यादा चुल्ल मची थी और मुझे जल्दी से जल्दी उसको चोदना था लेकिन क्या करता एक तो वो नहीं मानती थी और दूसरी तरफ जगह का लफड़ा | एक दिन मैंने उसको फ़ोन लगाया और कहा चलो कहीं घुमने चलते है और हम पार्क में बैठे थे तभी मैंने आसपास देखा कोई नहीं है | मैंने अपने पेंट की ज़िप खोली और अपना लंड बाहर निकाल लिया और कहा जानू इसको पकड़ो प्लाज़ | उसने डरते हुए मेरा लंड पकड़ा और ऊपर निचे करने लगी जब वो मेरा लंड हिला रही थी तो फिर से मैंने यहाँ वहां ध्यान दिया और वहां कोई नहीं था | तो मैंने उससे कहा मुंह में लो ना और वो मना करने लगी तो मैंने कहा प्लाज़ एक बार और उसका सिर पाकड़ कर झुका दिया |

उसने मेरा लंड चुसना शुरू कर दिया और मैं आसपास का ध्यान रख रहा था | फिर मुझे कोई आता दिखा और मैंने उसको रोक दिया और अपना लंड पेंट के अन्दर करके ज़िप लगा ली | फिर वो आदमी वहां से चला गया और मैंने फिर से मौके का फायदा उठाने की सोची और जसलीन का टॉप ऊपर करने लगा | वो मुझे मना कर रही थी और कह रही थी नहीं कोई देख लेगा लेकिन मैंने उससे कहा कोई नहीं है यहाँ पे और बस मैं एक ही बार देखूंगा | फिर मैंने उसकर टॉप ऊपर किया और ब्रा निचे करके उसके दूध दबाने लगा और चूसने लगा |

तभी पीछे से कुछ शोर हुआ और हम रुक गए | पीछे कुछ बच्चे आ गए थे और उन्होंने वहां पर खेलना शुरू कर दिया | फिर हम दोनों वह से निकल गए और वापस आते समय जसलीन ने मुझे बताया था कि उनकी वार्डन बाहर गई हुई है | अब मैंने सोच लिया था उसके हॉस्टल में जाकर उसको चोद के रहूँगा | हॉस्टल में एक दरबान था जो रात को बाहर बैठता था और अन्दर कोई भी नहीं रहता था देख रेख के लिए और वार्डन भी बाहर गई हुई थी इसलिए मेरे पास मौका बहुत अच्छा था | मैंने दरबान को बुलाया और उसको 500 का नोट दिया और कहा मुझे एक लड़की से मिलना है |

उसने मुझे अन्दर जाने दे दिया और मैं जल्दी से उसके रूम तक पहुँच गया और दरवाज़ा खटखटाया | उसने दरवाज़ा खोला और कहा तुम यहाँ कैसे ? तो मैंने उसके मुंह पर ऊँगली रख दी और कहा जो दिन में अधूरा छूट गया था उसको पूरा करने आया | फिर मैंने रूम के अन्दर चला गया और दरवाज़ा लगा दिया और उसको किस करने लगा | उसने एक छोटा सा टॉप पहना हुआ था और मैंने जल्दी से उसका टॉप उतार दिया और उसका ब्रा भी खोल दिया |

मैंने दूध चुसना शुरू किया और पीछे से उसकी गांड पकड़ कर दबाने लगा | वो ऊउम्मम्म ऊउम्मम्म की आवाजें निकालने लगी | उसके दूध बहुत गोरे थे और निप्पल ऑरेंज से थे | फिर मैंने उसका पजामा उतारा और देखा उसे पैंटी नहीं पहनी थी | मैंने उससे कहा क्यों पता था क्या कि मैं आने वाला हूँ ? और उसकी में हाँथ लगा के प्यार से मलने लगा | फिर मैंने उसको बिस्तर पर लिटा दिया और उसकी चूत को बड़े मज़े से चाटने लगा | वो धीरे धीरे आह्ह्ह्हह्ह अह्ह्हह्ह्ह्ह करे जा रही थी और मैं उसकी चूत चाटे जा रहा था | फिर मैंने उससे कहा आओ तुम्हारी बारी है अब और पेंट खोल के लंड उसके हवाले कर दिया |

उसने मेरा लैंड चुसना शुरू किया और मैंने उससे कहा कि मेरी आँखों में देखकर लंड चुसना तो उसना ऐसा ही किया | जब वो मुझे देखकर लंड चूस रही थी मुझे बहुत अच्छा लग रहा था | फिर मुझे लगा मेरा लंड अब पूरी तरह से तन चुका है और चोदने के लिए पूरी तरह तैयार है तो मैंने उसको उठाया और बिस्तर पर लिटा दिया | फिर मैंने अपना लंड उसकी चूत रगडा और चूत के छेड़ में डालने लगा | मुझे लगा था इसकी चूत ढीली होगी लेकिन इसकी चूत तो टाइट थी और जब मेरा लंड अन्दर गया तो मुझे मज़ा ही आ गया | वो आह्ह्हह्ह अह्ह्ह्हह अह्ह्ह्हह ऊउह्ह्ह्ह स्स्स्सस्स्स्स आह्ह्ह्हह्ह ऊउफ़्फ़्फ़्फ़ करे जा रही थी और मैं उसकी चूत में लंड अन्दर बाहर |

फिर मैंने उसको घोड़ी बना दिया और उसकी चूत में लंड डाल कर चोदने लगा वो सिसकियाँ लिए जा रही थी और मैं उसे चोदे जा रहा था | मैंने सोचा कि क्या इसकी गांड मारनी चाहिए तो मुझे लगा फिर कभी और उसको उठा दिया | मैं वहां पर बैठ गया और कहा इसको अपने दूध में फसा के हिलाओ | उसने अपने दूध के बीच में लंड फसाया और हिलाने लगी | फिर मेरा निकलने को हुआ और मैंने अपना सारा माल उसके ऊपर झड़ा दिया | फिर उसने अपना मुंह धोया और हम दोनों  बिस्तर पर लेट गए |

थोड़ी देर बाद मेरा लंड फिर से कड़ा होने लगा और मैंने फिर से उसको चोदा और उसके बाद मैं वहां से चला गया | फिर हमने कई बार चुदाई की और अब मैं उसकी चूत से ज्यादा उसकी गांड मारने लगा हूँ | तो दोस्तों कैसे लगी मेरी कहानी कमेंट कर के जरुर बताइयेगा |
      edit

0 comments:

Post a Comment