Monday, February 12, 2018

Published 11:17 PM by with 0 comment

सविता भाभी कड़ी 21: एक पत्नी की स्वीकारोक्ति

आज सविता भाभी के मदमस्त जीवन की रंगीन कड़ियों में एक ऐसी कड़ी पेश है, जिसमें सविता भाभी ने अपने विवाह के बाद अपनी कुंवारे जीवन में की गई चुदाई की स्वीकार किया.
पति के लंड के सुख से वंचित सविता भाभी अपने पुराने चोदू के सामने अपनी चुत को कैसे खोल बैठीं.

जब आप सविता भाभी.कॉम की इस रंगीन चित्रकथा का पहला सीन देखेंगे तो आप कामुक हो उठेंगे. पहले पेज पर ही सविता भाभी अपनी रंगीन जवानी को इस तरह दिखा रही हैं कि बस ऐसा लगता है कि सविता भाभी सामने मिल जाएं तो पटक कर चोद दिया जाए.

ये किस्सा उस स्थिति का है, जब सविता भाभी अपनी सहेली शोभा से अपने मादक जीवन की एक घटना का जिक्र कर रही थीं.

हुआ यूं कि सविता भाभी एक दिन अपनी सहेली शोभा के साथ कुछ कपड़े खरीदने एक मॉल में गईं, उधर काफी देर तक कपड़े देखने के बाद उन्होंने अपनी खरीददारी पूरी की. फिर दोनों सहेलियों ने थक जाने के बाद कुछ खाने की सोची और एक रेस्तरां में खाने चली गईं.

खाते हुए जब सविता भाभी की सहेली ने उनसे मजाक करते हुए कहा कि मॉल का सेल्समैन आपको कैसी कामुक नजरों से घूर रहा था जैसे वो आपके कपड़े उतार रहा हो.

सविता भाभी ने मुस्कुरा कर बताया कि वो पहले एक बार ब्रा बेचने मेरे घर आया था और उसने ब्रा बेचने के अलावा भी मेरे साथ बहुत कुछ किया था.
‘क्या बहुत कुछ.. मतलब आपको चोदा भी था क्या?’
सविता भाभी- हाँ.. मुझे वो पसंद आ गया था और उसका लंड भी बड़ा मस्त था.
सहेली- वाह भाभी मुझे नहीं पता था कि आप इतनी गरम औरत होंगी.

इन दोनों में जब सेक्स की बातचीत होने लगी तो सविता भाभी ने अपने जीवन की रंगीनियों की परत खोलनी शुरू कर दी. साथ ही उन्होंने ये भी कहा कि शादी से पहले मेरे कई ब्वॉयफ्रेंड थे.. लेकिन मैंने शादी के बाद एकदम साफ़-सुथरी जिन्दगी बिताने की सोची, मैं अपने पति अशोक को धोखा नहीं देना चाहती थी.
‘फिर.. क्या आपने कभी अशोक के साथ धोखा किया?’
सविता भाभी- ये एक लम्बी कहानी है.. मैं एक दिन बहुत उत्तेजित थी तो मैंने अपने पति अशोक से ऑफिस से छुट्टी लेकर पूरे दिन घर ही रहने के लिए कहा ताकि मैं उनके साथ बिस्तर में मजा कर सकूँ.



मैंने सुबह-सुबह की अशोक के सामने अपने शरीर को नंगा करते हुए कहा कि अशोक आज पूरे दिन चुदाई का मजा करेंगे. लेकिन अशोक ने मुझे झिड़क दिया कि क्या बच्चों जैसी बातें कर रही हो? कोई सुबह सुबह भी सेक्स करता है क्या?

अब अशोक को मैं कैसे समझाती कि सेक्स करने का कोई समय नहीं होता है. जब चुत में आग लगती है तो उसको सिर्फ लंड की गर्मी ही बुझा सकती है.

अशोक के दिमाग में सिर्फ ऑफिस ही ही घुसा रहता है. उसने मुझे पिछले दो महीने से नहीं चोदा था. मेरी चुत में बड़ी आग लगी हुई थी.

खैर.. मैं मनमसोस कर रह गई और अशोक के लिए नाश्ता बनाने लगी.

कुछ देर बाद अशोक ने नाश्ता करते हुए कहा कि आज रात को डिनर पर मेरा एक दोस्त आएगा, तुम कुछ अच्छा सा बना कर तैयारी रखना.

ये सब बताते हुए सविता भाभी पुरानी यादों में खोकर बताने लगीं

बाद में शाम को सविता भाभी ने डिनर की सब तैयारी की. साथ ही सविता भाभी ने आज अशोक से चुदाई की ठान ली थी क्योंकि उनकी चुत को दो महीने से लंड नहीं मिला था तो वो बहुत चुदास से गरम हो गई थीं.
सविता भाभी ने एक बहुत छोटी सी थोंग पेंटी पहनी थी, जिसमें सिर्फ चुत ही बड़ी मुश्किल से ढक पाती है और चूतड़ों की छटा बड़ी जबरदस्त बिखरती है.

सविता भाभी ने रात को अशोक के लंड से चुदने की पूरी तैयारी कर ली थी. उन्होंने आज रात को अशोक के लंड में आग लगाने का पूरा प्रोग्राम बना लिया था. उनको चुदाई की इतनी जरूरत हो रही थी कि वे उस पल को याद करते समय अपनी चुत में उंगली करने लगी थीं.

तभी सविता भाभी को याद आया कि शाम होने को है और उन्होंने डिनर की कोई तैयारी ही नहीं की. फिर जल्दी से सब काम निबटा कर सविता भाभी ने शानदार डिनर की तैयारी की.

देर शाम को अशोक अपने दोस्त रोहित के साथ घर आया. रोहित और सविता भाभी ने एक-दूसरे को देखा तो दोनों ही चौंक गए. दरअसल रोहित सविता भाभी के पुराने आशिकों में से एक था. रोहित कॉलेज टाइम से ही सविता भाभी पर फ़िदा था और उसी वक्त से वो सविता भाभी को चोदना चाहता था. पर उसकी कभी हिम्मत ही न हो सकी कि वो सविता भाभी की जवानी की रसधार में डुबकी लगा सके.

सविता भाभी और रोहित में पुरानी जान-पहचान देख कर अशोक भी हैरान था.

खाना शुरू हुआ और सविता भाभी को ये लग रहा था कि किसी तरह रोहित जल्दी चला जाए और वो अशोक के लंड से अपनी गरम चुत को ठंडा करवा सकें. क्योंकि उन्हें मालूम था कि कहीं देर हो गई तो अशोक सो जाएगा.

उधर रोहित खाने की टेबल पर बैठा हुआ सविता भाभी के बड़े-बड़े मम्मों को घूरते हुए सोच रहा था कि सविता की जवानी तो और भी अधिक कामुक हो गई है, इसके चूचियां तो शादी के बाद और फूल गई हैं, काश इनको चूसने का मौका मिल जाए.
रोहित ने तो अब बाकायदा सविता भाभी को आखों से चोदना शुरू कर दिया है. इस कल्पना में चुदाई के दृश्य इतने कामुक तरह से चित्रित किए गए हैं कि आपका मन चुदाई के लिए एकदम से भड़क उठेगा.

रोहित अभी ये सब सोच ही रहा था कि तभी अशोक का मोबाइल बज उठा और उसको तुरंत ऑफिस पहुँच कर कोई प्रेजेंटेशन बनाने के लिए कहा गया. यह कोई जरूरी मीटिंग का हिस्सा था.

सविता भाभी ने फोन पर अशोक को जाने की कहते हुए सुना तो उन्होंने पूछा कि क्या बात है?

अशोक ने ऑफिस जाने की बात कह दी और साथ ही ये भी कहा कि रोहित और तुम एक-दूसरे को जानते हो, तो प्लीज़ तुम दोनों डिनर एन्जॉय करो. मुझे किसी जरूरी काम से जाना है.

सविता भाभी को ये जानकर बड़ी निराशा हुई कि अशोक को उसकी कोई परवाह ही नहीं है, आज उसके मन में चुदाई को लेकर कितने अरमान थे. लेकिन अशोक मेरी जरूरत को नहीं समझता है.

रोहित ने जब सविता भाभी को गुमसुम देखा तो उसने पूछा- क्या हुआ सवी.. तुम ठीक तो हो?
बस सविता भाभी भड़क गईं- ये अशोक भी न जाने कैसे पति हैं, इनको मुझसे ज्यादा ऑफिस पसंद है.
रोहित ने कहा- सवी, अशोक अपने काम के प्रति पूरी तरह समर्पित है, लेकिन तुम्हारे जैसी प्यारी बीवी मेरी होती तो मैं उसे ऐसे छोड़ कर कभी न जाता.

बस रोहित का इतना कहना था कि सविता भाभी फट पड़ीं. पहले तो वे रोहित के सामने कुछ भी नहीं कहना चाहती थीं लेकिन जब रोहित ने उन्हें अपनी दोस्ती का वास्ता दिया तो सविता भाभी ने रोहित के सामने अपनी भड़ास निकालने शुरू कर दी कि आज मैंने अशोक को किस तरह से रिझाने का सोचा था. मैंने ख़ास अशोक को दिखाने के लिए कुछ अंडरगारमेंट्स खरीदे थे.

रोहित भी उनको उकसाने लगा.
रोहित- तो क्या हुआ तुम मुझे भी पहन कर दिखा सकती हो.
सविता भाभी ने इठला कर कहा- हम्म रोहित, तुम अभी तक नहीं बदले. तुम पहले की तरह अब भी मुझे देखने की बात मन में रखे हुए हो.
रोहित ने भी कह दिया- हाँ सवी, मैं बस एक बार तुम्हें सेक्सी कपड़ों में देखना चाहता हूँ.

अब सविता भाभी की चुत में तो आग लगी ही थी. उन्होंने सोचा कि रोहित के सामने सिर्फ कपड़े पहन कर दिखाऊंगी और इसको जला कर मजा लूँगी.
मगर रोहित ने क्या किया, जब सविता भाभी ने ब्रा और थोंग पेंटी पहन कर रोहित के सामने अपने शरीर की नुमाइश की.

क्या सविता भाभी खुद को चुदने से बचा पाईं. रोहित के मोटे लंड के अहसास ने सविता भाभी की चुत को किस तरह पानी पानी कर दिया. साथ ही उसी दौरान जब सविता भाभी नंगी ही रोहित के सामने थीं, तब अशोक वापस घर आ गया और उस वक्त क्या हुआ?

इस सबको कितना भी लिख दिया जाए, लेकिन सामने ब्लू-फिल्म की तरह चलने वाली सविता भाभी.कॉम की सचित्र कॉमिक्स का मजा पढ़कर नहीं देख कर ही लिया जा सकता है.

रोहित के लम्बे और मोटे लंड से सविता भाभी की चुदाई की इस चित्रकथा को देखने के लिए अभी देखें और साथ ही सविता भाभी ने अपनी सहेली को अपनी सील टूटने की कहानी के बारे में क्या बताया, इस सबका मजा लेने के लिए

https://www.kirtu.com/hindi/hi-savita-bhabhi/hi-a-wifes-confession/?affID=AV
      edit

0 comments:

Post a Comment