Tuesday, February 27, 2018

Published 1:13 AM by with 0 comment

बस के सफर से बिस्तर तक-3

बस के सफर से बिस्तर तक-3

(Bus Ke Safar Se Bistar Tak- Part 3)

मैंने धीरे से अपना हाथ उनकी ब्रा के ऊपर रख दिए… पहले तो मैंने दोनों कबूतरों को एक बार प्यार से सहलाया और फिर झटके से उनकी ब्रा को ऊपर की तरफ खिसका दिया जिससे ममता जी की दोनों चूचियां ब्रा के कपों‌ में से बाहर आ गयी और अब मेरे सामने दो आज़ाद कबूतर उछल रहे थे.
“अआआ..ह्हह… ओय… ये क्या कर है?” ममता जी ने अचानक से अपना मुँह मेरे मुँह से छुड़वा कर कहा और अपनी ब्रा को फिर से नीचे करने की कोशिश करने लगी.

मगर मैंने तुरन्त अपना हाथ उनकी नंगी चूची पर रख कर उसे अपने हथेली में पूरा भर लिया. मेरे हाथ का अपनी नंगी चुची पर स्पर्श होते ही ममता जी के मुँह से “इईई… श्श्शशश… ओय… इइईई…” की आवाज निकल‌ गयी और वो सिहर गयी… उन्होंने मेरे हाथ को पकड़ लिया और “नहीं… अब बहुत हो गया… बस अब…” कहते हुए मुझे हटाने लगी.
मगर मुझमें अब और सब्र नहीं बचा था, मैंने उनके हाथों को पकड़ लिया और थोड़ा जबरदस्ती से उनके हाथों को हटा कर उनकी नंगी चूचियों पर टूट पड़ा… जो एक बड़े से आम की जितनी तो रही होगी.

ममता जी के हाथों को ‌हटा कर उसी वक़्त मैंने अपना मुँह उनकी नंगी चूची के निप्पल पर रख दिया और किशमिश के दाने जैसे निप्पल को मुँह में भर लिया, मुँह में डालते ही ममता जी जोर की सिसकारी सी भरते हुए कराह पड़ी- इईईई… श्श्श्शश… अआआ… ह्ह्हह हहहह… महेश्श्श…
मैं भी अब पूरे जोश में आ कर उनकी चूचियों को चूसने लगा.

ममता जी के मुँह से अब कराहों के साथ हल्की हल्की सिसकारियाँ निकलने लगी थी और वो अब अपने हाथों को छुड़ाने का या फिर मुझे हटाने का भी प्रयास नहीं कर रही थी। मैंने भी अब उनके हाथों को छोड़ दिया और यह सही मौका जान कर ममता जी की चूची को चूसते हुए ही अपना हाथ नीचे उनके पेट पर से होते हुए चुत की तरफ बढ़ा दिया.

और जैसे ही मैंने उनकी चुत को‌ छुआ “इईईई… श्श्श्शशश… अ.अ.ओय…” की आवाज के साथ ममता जी ने दोनों जांघों को भींच लिया मगर मेरा हाथ जो उनकी चुत पर था वो भी अब दोनों जांघों के बीच ही बन्द हो गया।
मेरे हाथ की उंगलियाँ अब दोनों जांघों के बीच उनकी चुत पर थी जो की हल्की हल्की हरकत कर रही थी। इतने देर से चूमने चाटने और चूसने का खेल खेलते खेलते ममता जी की मुनिया रानी अपना काम रस छोड़ चुकी थी और बहुत ही गीली हो गई थी‌ जिसकी वजह से सलवार का कपड़ा भी चुत से चिपका हुआ था।

ममता जी ने एक तो पेंटी नहीं पहन रखी थी और दूसरा प्रेमरस से भीग कर सलवार का कपड़ा भी चुत से चिपक गया था इसलिये मुझे सलवार के ऊपर से उनकी चुत की बनावट महसूस हो रही थी जो काफी फूली हुई थी।
ऐसा महसूस हो रहा था जैसे ममता जी ने अपनी दोनों जांघों के बीच पाव (डबल रोटी) दबा रखा हो। चुत पर छोटे छोटे और हल्के से ही बाल थे शायद हफ्ते दस दिन पहले ही ममता जी ने उन्हें साफ किया होगा।

मैंने भी उनकी चूत को अपने हाथों की मुट्ठी में कैद कर लिया और उसे स्पंज की तरह मसलने लगा लेकिन प्यार से। उस छुवन ने ममता जी को सिहरा सा दिया, उन्होंने अपनी जांघों को और भी जोरो से भींच लिया और “इईई…श्श्शशश…” कहते हुए मेरे कंधों को‌ जोरो से भींच लिया।
मुझसे अब रहा नहीं जा रहा था इसलिये ममता जी चुत को सहलाते हुए पहले तो एक बार मैंने उनकी सलवार का जायजा ले कर देखा, सलवार में नाड़ा नहीं था बल्कि इलास्टिक लगा हुआ था जो निकालने में काफी आसान थी, मैंने धीरे से सलवार के ऊपरी‌ किनारों‌ को पकड़ लिया और फिर धीरे धीरे उसे नीचे खिसकाने लगा.

सलवार थोड़ा सा ही नीचे हुई थी की ममता जी ने तुरन्त मेरे हाथ को पकड़ लिया और… “नहीं… ये सब नहीं… अब बस्स…” कहते हुए मुझे अपने ऊपर से धकेल कर अलग कर दिया.
मगर मैंने भी अब देर ना करते हुए दोनों हाथों से सलवार के ऊपरी‌ किनारों को पकड़ कर जोर से नीचे खींच दिया. ममता जी के कूल्हों के नीचे दबी होने के कारण सलवार एक बार तो उनके कूल्हों में फँसी भी मगर फिर वो घुटनों तक उतरती चली गयी.

ममता जी “अ..अ..र. ऐ..ऐऐऐ.. ओय… ओय… ओयय… क्या कर रहा है….” कहते हुए तुरन्त उठ कर बैठ गयी और दोनों हाथों से अपनी चुत को ढक लिया। ममता जी के दोनों हाथ अब अपनी चुत को ढकने में व्यस्त हो गये थे इसलिये मैंने उनके घुटनों में फँसी बाकी सलवार को भी निकाल कर अलग कर दिया.
और ममता जी बस “अ..अ..र.ऐ.. रेरेरे… ओय… ओय… ओय… क्या कर रहा है… रूक… रूक… रुक…” कहती रह गयी।

ममता जी का कमीज पहले ही उनकी चूचियों तक चढ़ा हुआ था और सलवार को भी मैंने अब उतार दिया था जिससे ममता जी लगभग अब नंगी ही हो गयी थी।
शर्म के मारे उन्होंने जल्दी से रजाई को ओढ कर अपने नंगे बदन को छुपा लिया और “ओय… ये सब नहीं… वापस कर मेरी सलवार… बहुत हो गया… अब और नहीं…” ममता जी ने अपनी सलवार को मुझसे छुड़ाने की कोशिश करते हुए कहा मगर मैंने उनकी‌ सलवार वापिस नहीं की बल्कि मैं अब जल्दी जल्दी अपने कपड़े उतारने लगा.

ममता जी के चेहरे पर अब घबराहट व शर्म के भाव उभर आये- ये.ये.ये… तू क्या कर रहा है… अ.अ. ओय… तू कपड़े क्यों उतार रहा है?
ममता जी घबराते हुए कहने लगी।
मैंने बस टी-शर्ट व नीचे एक निक्कर ही पहना हुआ था जिन्हें मैं जल्दी से उतार कर उतार कर बिल्कुल नंग हो गया और ममता जी की रजाई में घुसने लगा.

“न्.न्.नन नही ई.ई. ईईई…”ममता जी बुदबाते हुए मुझे पकड़ने की कोशिश करने लगी मगर मैं थोड़ी सी जबरदस्ती करके उनकी रजाई में घुस गया और उनके मखमली नंगे बदन से चिपक गया…
मेरे नंगे बदन का अपने नंगे बदन से स्पर्श होते ही ममता जी सिहर सी गयी… “न.न. नही.इ. इईईई… श्श्श्शशश… ओय…”
उत्तेजना व घबराहट के कारण ममता जी का पूरा बदन कम्पकपाने लगा था, वो सिसकारते हुए मुझे हटाने की कोशिश करने लगी… मगर मैं उनके बदन से किसी जोंक की तरह चिपकता चला गया।

खड़े होने पर ममता जी का कमीज थोड़ा सा नीचे उनकी‌ चूचियों पर आ गया था मगर उनकी चूचियाँ अब भी‌ ब्रा के बाहर ही थी‌, मैंने कमीज ‌को चूचियों के ऊपर तक खिसका कर फिर से उनकी चूचियों को नंगा कर लिया.
ममता जी अब बिल्कुल नंगी मेरे नीचे लेटी हुई थी और मैं उनके मखमली बदन के स्पर्श का मजा ले रहा था. मेरी नंगी छाती उनकी चूचियों की पिसाई कर रही थी तो मेरा उत्तेजित लंड ममता जी की दोनों जांघों के बीच अपनी असली जगह ढूंढ रहा था।

ममता ने अपनी दोनों जांघों को‌ जोरो से भींच रखा था और मेरे लण्ड के स्पर्श से बचने के‌ लिये वो कसमसाते हुए मुझे हटाने की भी कोशिश कर रही थी.
मगर मैंने उन्हें ऐसे‌ ही दबाये रखा… मैंने हल्के से बस एक बार ममता जी के कम्पकपाते होंठों को चूमा‌ और फिर सीधा उनके चिकने बदन को ऊपर से चूमते हुए धीरे धीरे नीचे की तरफ खिसकने लगा.
उनकी चूचियों व पेट पर से चुमते हुए मैं धीरे धीरे उनकी‌ चुत की तरफ ‌बढ़ रहा था जिससे ममता जी “न.न. नही.इ. इईईई… श्श्श्शश… महेश्श… अआआ… ह्हह…” कहते हुए बल से खाने लगी…
ममता जी मदहोश सी होकर मुँह से हल्की हल्की सिसकारियाँ सी भर रही थी.

जैसे ही मैं नीचे उनकी चुत के पास पहुंचा… “अ.ओ.य… न.न.नही.इ. इईईई…श्श्श्शश….” कहते हुए ममता जी ने दोनों हाथों से मेरे सिर को‌ पकड़ लिया और तुरन्त उठ कर बैठ गयी. मगर मैं रुका नहीं, मैं उनके दोनों पैरों के बीच बैठ गया और थोड़ा सा ऊपर हो कर उनकी नंगी चूचियों को चूमने चाटने लगा, ममता जी की चूचियों को चूमते हुए मैं अपने शरीर का भार डाल कर धीरे धीरे उन्हें बिस्तर पर भी धकेल रहा था.
और मेरे हल्का सा धकेलते ही ममता जी फिर से बिस्तर पर लुढक गयी। ममता जी के बिस्तर पर गीरते ही मैं उनकी चूचियों को छोड़ कर फिर से उनकी चुत पर आ गया. इस बार ममता जी ने उठने की कोशिश तो नहीं की मगर उन्होंने अपनी चुत को दोनों हाथों से छुपा लिया था.

मैंने हल्की सी जबरदस्ती की तो ममता जी ने अपने हाथों को भी चुत पर से हटा लिया और अब ममता‌ जी की‌ नंगी चुत मेरे सामने थी. अपने आप ही अब मेरा सिर उनकी जांघों के बीच झुकता चला गया जहाँ से उनकी नंगी चुत की हल्की हल्की मादक सी गँध आ रही थी.
जैसे ही मैंने अपना सिर उनकी जांघों के बीच झुकाया, ममता जी ने फिर से मेरे सिर को दोनों हाथों से पकड़ लिया, उन्होंने अपनी दोनों जांघों को भी सिकोड़ने की कोशिश की मगर एक तो मैं उनके पैरो के बीच बैठा हुआ था और दूसरा मेरा सिर उनकी जांघों के बीच में था इसलिये वो अपनी जाँघें बन्द नहीं कर सकी।

मैंने सीधा ही उनकी चुत को नहीं चूमा बल्कि मैं उनकी नर्म मुलायम जांघों को अन्दर की तरफ से चूमते हुए धीरे धीरे उनकी चुत की‌ तरफ बढ़ रहा था जिससे ममता जी फिर से सिसकारने लगी. जैसे जैसे मैं उनकी चूत की तरफ बढ़ रहा था, ममता जी की जाँघें अब फैलती जा रही थी, साथ ही मुझे गीलापन और गर्मी भी महसूस हो रही थी।
यह इतनी देर से चल रही इस चुदाई क्रीड़ा का असर था कि उनकी चूत ने अपना रस बाहर निकाल दिया था।

मैंने सहसा अपने होंठ सीधे उनकी चूत पर रख दिये और उनकी छोटी सी नर्म मुलायम चिकनी नंगी चूत को प्यार से चूम लिया.
” महेश्श्श्श… इईईई… श्श्श्शशश…” कहते हुए ममता जी ने मेरे बालों को जोर से पकड़ लिया, ममता जी को एक झटका सा लगा था जिससे उनका पूरा बदन थरथरा गया और एक मीठी सी सुबकी के साथ उनकी दोनों जाँघे मेरे सिर पर कस गयी।

उफ्फ्फ्फ़… क्या गर्म चूत थी, मानो किसी आग की भट्टी पर ही मैंने अपने होंठ रख दिये हों.
मैं उनकी चूत को चारों तरफ होंठों से धीरे धीरे ऐसे ही चूमता रहा जिससे उनकी जाँघें फिर से अलग होने लगी। उनकी चूत कामरस से भीग कर पूरी तरह से गीली हो चुकी थी जो मेरे होंठों व मुँह को भी रस से भरती जा रही थी, मेरे होंठ व मुँह का स्वाद बिल्कुल नमकीन हो गया था। कामरस की चिकनाई ने चूत को चिकना भी कर दिया था जिससे मेरे होंठ अपने आप ही उनकी चूत पर फिसलने लगे और फिसलते हुए नीचे चुत के प्रवेश द्वार तक आ गये।

ममता जी को जैसे ही मेरे होंठों की गर्मी का एहसास अपने कामद्वार पर हुआ, उनके बदन ने झुरझुरी सी ली “इईईई… श्श्शशश… अआआ… ह्ह्ह हहहह… महेश्शश… श्श्श्श…” ममता जी ने जोर से सिसकारते हुए कहा और स्वतः ही उनकी टाँगें और भी फैल गयी।
मैंने भी उनकी चूत को अपनी पूरी जीभ निकाल कर चाट लिया जिससे ममता जी सुबक उठी और मेरे सिर के बालो को दोनों हाथों की मुट्ठी में भर लिया।

मैं अब रुका नहीं और धीरे धीरे उनकी चुत को अपनी पूरी जीभ निकाल कर चाटना शुरू कर दिया‌ जिससे ममता जी की कमर अपने आप ही हरकत में आ गयी और वो अपनी कमर को ऊपर नीचे करने लगी।

मैं ममता जी की नंगी चुत को ऊपर से नीचे तक चूस व चाट रहा था, साथ ही अपनी जीभ को उनकी गुफा की गहराई तक अन्दर बाहर भी कर रहा था और ममता जी मेरी जीभ के साथ साथ ही अपनी कमर को हिलाते हुए “इईईई… श्श्श्शशश… अआआ… ह्ह्हह… इईईई… श्श्श्शश… अआआ… ह्ह्हहह… महेश्श…” की आवाजें निकाल रही थी।

ममता जी की‌ उत्तेजना देख कर मैंने भी अब थोड़ा तेज़ी से उनकी चूत को अन्दर तक चाटना और चूसना शुरू कर दिया जिससे ममता जी की सिसकारियाँ तेज हो गयी और उनकी कमर की हरकत भी तेज होने लगी। ममता जी ने दोनों हाथों से मेरे सिर को पकड़ा हुआ था जिससे वो खुद ही जोर से मेरे सिर को अपनी चूत पर दबा दबा कर घिसने लगी.

मैंने भी अब एक लम्बी सी सांस अन्दर खींची और तेज़ी से अपनी पूरी जीभ उनकी चूत में डाल कर अन्दर बाहर करने लगा। ममता जी की चूत मचल कर ढेर सारा पानी छोड़ रही थी और उसमें अपनी पूरी चपलता से जीभ चलाते हुए मैं चपर चपर की अवाज के साथ उनकी चूत से निकलने वाले काम रस को गटक रहा था।
मेरी जीभ और चूत के मिलन का स्वर कमरे में ममता जी की सिसकारियों के साथ गूंज सा रहा था।

“उफ्फ्फ… महेश्शश… इईईई… श्श्श्शशश… अआआ… ह्ह्ह्हह… इईईई… श्श्श्शश… अआआ… ह्ह्ह्हहह…” कहते हुए वो जोरो से अपनी चुत को मेरे मुँह पर घिस रही थी।
शायद ममता जी स्खलित होने की कगार पर पहुँच गयी थी… मजा तो मुझे भी बहुत‌ आ रहा था मगर मैं सोचने लगा की कहीं… ‘ममता जी एक बार स्खलित होने के बाद मुझे दोबारा से अपने आप को‌ हाथ लगाने से मना‌ तो नहीं करने लगेगी? अगर मना नहीं करेंगी तो वो नखरे तो जरूर ही दिखायेंगी और मुझे उन्हें मनाने के लिये फिर से मेहनत करनी पड़ेगी.”

यह बात मेरे दिमाग में आते ही मैं उनकी चुत को‌ छोड़ कर अलग हो गया और सीधा उनके ऊपर चढ़ कर लेट गया।
      edit

0 comments:

Post a Comment