Saturday, February 10, 2018

Published 4:00 AM by with 0 comment

दो लेस्बियन लड़कियों को पटा कर चोदा

हैल्लो मेरे प्यारे चुद्द्कड़ दोस्तों कैसे हैं आप सभी | आप सभी को समीर फुद्दी के लंड की तरफ से सादर प्रणाम | मैं समीर फुद्दी आप सभी के सामने एक नयी कहानी ले के प्रस्तुत हुआ हूँ | इस कहानी मैं आप लोगों को बताऊंगा कि कैसे मैंने हॉस्टल की दो लेस्बियन लड़कीयों को पटा कर चोदा | आप सभी जानते हैं मेरा लंड 9 इंच लम्बा और 3 इंच मोटा है और मैंने कई चूत चोदी हैं अपने इस बलवान लंड से | अब मैं आप लोगों का ज्यादा टाइम नहीं लेते हुए कहानी पर आता हूँ |

ये बात 2016 की ठंड की बात है मेरे घर के पीछे एक गर्ल्स हॉस्टल है जहाँ पर बहुत सारी चूत रहती हैं | मैंने काफी समय से कोई चूत चोदना चाहता था पर कोई लड़की या भाभी या आंटी पट नहीं रही थी | मैं बस लंड हिला के काम चला रहा था | मैं सोचता रहता था कि काश कोई चूत मुझे मिल जाए और मैं उसे बेहरमी से चोद कर भोसड़ा बना दूँ | एक दिन मैं सुबह खिली धूप में छत में टहल रहा था तो मेरे मन में आया कि चलो गर्ल्स हॉस्टल की तरफ कुछ नज़ारे लिए जाए | सुबह के करीब 10:30 बज रहे होंगे मैंने देखा कि दो लड़कियां एक दुसरे को किस कर रही हैं | ये देख के मेरा लंड खड़ा हो गया था और मैं उसे लोअर के ऊपर से ही मसलने लगा था | मेरे अन्दर का शैतान जाग रहा था फिर अचानक से मम्मी ऊपर आ गई कपडे सुखाने और मैं जल्दी से नीचे आ गया था की मम्मी ये न देख ले की मैं क्या कर रहा हूँ |

अब मैं रोज उन्हें देखने जाने लगा पर नहीं दिख रही थी मैं रोज उनकी खिड़की की तरफ देखता पर साला कोई दिखता ही नहीं था तो मैं उदास सा हो रहा था | फिर कुछ दिन बाद मैंने सोचा कि छोड़ो यार किस्मत में होगी तो खुद ब खुद मिल जायगी | फिर ऐसे ही कुछ दिन बीत गए थे मैंने भी अब छत जाना बंद कर दिया दिया था | फिर सन्डे के दिन मेरे घर में कोई नहीं था तो मैंने सोचा की चलो आज देखते हैं की साली ये लौंडियाँ दिखती है कि नहीं | फिर मैं छत गया और उनका इंतज़ार करने लगा करीब एक घंटे बाद मुझे एक लड़की दिखी मैंने देखा कि वो नहा कर निकली है और बिलकुल नंगी है | मैं ये देखना चाह रहता की क्या दोनों साथ में नहाई होंगी और क्या ये लेस्बियन सैक्स करेंगी ? पर वो अकेली ही लड़की थी और अपना नंगा बदन टॉवल से पोछ रही थी दूर से तो उतना ठीक से नहीं दिख रहा था | पर मैंने अंदाजा लगाया था कि शायद इसके दूध नार्मल साइज़ के होंगे नीचे का हिस्सा तो ठीक से नहीं दिख पा रहा था | फिर उसने ब्रा निकाली और पहनी फिर पेन्टी पहनी फिर जीन्स और टॉप पहनी | मैं ये सब दूर से ही देख रहा था पर वह से कोई मेरी तरफ नहीं देख पा रहा था | मैं उसे देखते हुए मुट्ठ मार रहा था फिर वो अपने काम में लग गई |



कुछ देर बाद मैं नहाने चला गया जब घर वाले आ गये थे | नहाते हुए मैंने उस लड़की को याद करके फिर से एक बार मुट्ठ मारा और मुझे बहुत मजा आया | अब मैं ये सोचने लगा की इसे पटाऊ कैसे क्यूंकि मुझे चुदाई करने की बहुत ज्यादा इच्छा हो रही थी और मैं अपने अन्दर की सारी गर्मी निकालना चाहता था | शाम के समय मैं उनके हॉस्टल के पास गया और वहाँ के चौकीदार से बात करने लगा और कुछ ही दिनों में मैंने उसे अपना दोस्त बना लिया था | अब मैं रोज उससे मिलने जाने लगा था फिर मैंने उन दोनों लड़कियों के बारे में पूछा उससे तो वो कहने लगा कि ये दोनों के नाम चारू और अपर्णा है ये दोनों कॉलेज की पढाई करती है और ये दोनों ही एक कमरे में साथ में रहती हैं | फिर मैंने पूछा की नंबर मिल पायगा क्या ? तो उसने कहा कि मैं कोशिश करता हूँ अगर मिल जायगा तो मैं दे दूंगा | मैंने भी ओके कहा और फिर उसे सिगरेट पिला के घर आ गया था | अगले ही दिन सन्डे था और मुझे मालूम था की अपने रूम पर ही होंगी और मैं फिर से घात लगा के छत पर बैठ के इनका इन्तजार करने लगा | इस बार मोबाइल भी साथ ले लिया था कि अगर इन्होने सैक्स किया तो मैं इनका वीडियो बना लूँगा | ऐसे ही दो घंटे तक मैंने इंतज़ार किया इनका पर दोनों कुछ कर ही नहीं रही थी | मैं फिर भी इंतज़ार कर रहा था |

इतने में ये दोनों उठी और खड़े हो कर एक दूसरे को किस करने लगी और ये देख के मेरा लंड फिर से खड़ा हो गया था और मैं अपना लंड सहला रहा था और वीडियो बना रहा था | मैं बस किस का ही वीडियो बना पाया था कि दोनों ने मुझे देख लिया वीडियो बनाते हुए | फिर दोनों नीचे छुप गयीं और मैं भी तुरंत नीचे आ गया था | फिर मैं रात को हॉस्टल गया और मैंने चौकीदार से बात की कि मुझे इसके रूम जाना है | उसने बोला ठीक है जाओ पर संभल के जाना क्यूंकि अगर तुम्हे किसी ने देख लिया और कंप्लेंट कर दी तो मेरी नौकरी चट जायगी और तुम्हे थाने की हवा खानी पड़ेगी और बेज्जती होगी वो अलग | मैंने कहा ओके और फिर धीरे धीरे छुप छुप के उनके रूम की तरफ बढ़ने लगा | उनका रूम सेकंड फ्लोर पर था मैं जैसे ही पहुंचा उनके रूम की मैंने घंटी बजाई तो उनमे से एक ने दरवाजा खोला और पूछा |

आप कौन हो ? क्या काम है आपको ?

मैंने कहा की काम तो आप दोनों से है |

मैं कुछ समझी नहीं क्या काम है ? बोलो

अन्दर नहीं बुलाओगे क्या ?

मैं आपको जानती नहीं हूँ तो कैसे अन्दर बुलाऊंगी |

मैंने कहा ठीक है और वो वीडियो दिखा दिया ये देख कर तुरंत मेरा हाँथ पकड़ के अन्दर खीच लिया और बोली क्या चाहते हो तुम ? मैंने कहा की देखो मैं ये वीडियो किसी को नहीं दिखाऊंगा न ही किसी को कुछ बताऊंगा पर मुझे तुम्हारे साथ सैक्स करना है | उसने बोला पक्का न किसी को नहीं बताओगे न !!!! मैंने कहा हाँ नहीं बताऊंगा | दूसरी वाली शायद नहा रही थी | फिर मैंने उसे पकड़ा और बाँहों में भर कर उसे किस करने लगा वो भी मना नहीं कर रही थी और साथ देने लगी | मैं उसके होंठ चाट रहा था और वो मेरे चाट रही थी | फिर मैं उसकी जीभ चूसने लगा और वो मेरी जीभ चूसने लगी | हम दोनों किस ही कर रहे थे कि दूसरी वाली भी आ गई और वो चारू पर गुस्सा करने लगी | तो उसने सारी बात बताई तो उसने कहा कि ठीक है तुम ही करो मैं नही करूंगी तो मैंने कहा कि करना तो तुम्हे पड़ेगा ही अगर नहीं करोगी तो बदनामी सहनी पड़ेगी | तो वो डर गई और फिर हम तीनो आपस में बारी बारी किस करने लगे 10 मिनट किस करने के बाद हम तीनो नंगे हो गए और वो मेरा लंड देख के बहुत खुश हो रही थी तो मैं कहा बस खुश ही होते रहोगी या चूसोगी भी | तो उसने कहा हाँ हाँ क्यूँ नहीं (अब वो दोनों घुल मिल गई थी मुझसे) फिर दोनों नीचे बैठ के बारी बारी से मेरा लंड चूस रही तो मैं अहाआअ अआहः आहा आहाहहह्हाहा कर रहा था | मुझे बहुत मजा आ रहा था और मैं दोनों के दूध मसल रहा था इन दोनों ने मेरा लंड करीब 15 मिनट तक चूसा था | फिर मैंने इन दोनों के दूध बारी बारी चूसे और वो दोनों अआहः अहहः अहहः अहः आहा अ अहाहहः मजा आ रहा है पहली बार ऐसा मजा मिला अहहहः अहहहह्हा अहाआआ | फिर मैंने इन दोनों को लेटाया और दोनों की चूत में उँगलियाँ डालने लगा और दोनों सिस्कारियां भर रही थी | फिर मैं चारू की चूत चाट रहा था और अपर्णा की चूत में ऊँगली डाल के चोद रहा था |

फिर 10 मिनट चारू की चूत चाटने के बाद मैं अपर्णा की चूत चाटने लगा | चारू उठ के अपर्णा के दूध पी रही थी और वो दोनों ही हाहाहा आआहा अहहहा अहाहाहा आआआह अहहहः अहाहहः अहहहः अहहः आआआ कर रही थी | अब दोनों ही तैयार थीं चुदाई के लिए मैं पहले अपर्णा को चोदना चाहता था इसलिए मैं अपर्णा की टाँगे चौड़ी की और चारू अपनी चूत अपर्णा के मुह में रख कर बैठ गई थी | अब मैं अपर्णा को चोद रहा था और अपर्णा चारू की चूत चाट रही थी | पूरे कमरे में बस आहा अहहः अहहः की आवाज़े गूँज रही थी | 20 मिनट की चुदाई के बाद मैं उसके ऊपर ही अपना वीर्य छोड़ दिया और लेट गया था फिर अपर्णा ने मेरा दोबारा लंड चूस के खड़ा किया और उसके बाद मैंने चारू को ठोका | दोनों को बहुत मजा आया था मुझसे चुदवाने में | अब हम तीनो मेरे घर में हर सन्डे को चुदाई किया करते थे और आज भी हमे मौका मिलता है तो चुदाई किया करते हैं |

दोस्तों कैसी लगी आप लोगो को मेरी ये कहानी | उम्मीद करता हूँ आप लोगो ने मजे लिए होंगे मेरी इस कहानी को पढ़ कर |
      edit

0 comments:

Post a Comment