Friday, February 9, 2018

Published 7:39 AM by with 0 comment

मेरी सैक्सी साली बड़े दूध वाली

कहानी पढ़ने वाले सभी हवस भरे लोगों को मेरा नमन | मैं हूँ राहुल और आज मैं आपको अपने ज़िन्दगी का एक प्यारा सा सच बताने जा रहा हूँ | मेरी शादी को 3 साल हो चुके है और मुझे अपनी पत्नी को चोदने से ज्यादा मज़ा अपनी साली को चोदने में आता है | मेरी साली का नाम है शिल्पा और वो कसम से एक दम किसी परी से कम नहीं लगती | मैं उसे बहुत चाहता हूँ लेकिन सिर्फ उसकी चूत के लिए और कुछ किसी भी चीज़ के लिए नहीं | आईये अब मैं आपको बताता हूँ कि हमारे बीच ये सम्बन्ध कैसे बना |

ये बात है करीब 6 माह पहले की जब हमारे नए घर का उद्घाटन था और सभी हमारे घर पर आये हुए थे | शिल्पा भी हमारे घर में आकर रुकी थी और कुछ दिनों तक यहीं रहने वाली थी | मैं मेरी पत्नी और शिल्पा अक्सर बैठ कर यूँही बात किया करते थे इसलिए हम तीनो में काफी अच्छी अंडरस्टैंडिंग थी और हम तीनो बिना किसी हिचक के एक दुसरे से बात कर लिया करते थे | मुझे पता था का शिल्पा का कोई बॉयफ्रेंड नहीं है और वो अच्छी लड़की है इसलिए मैं उसके बारे में कभी गलत विचार नहीं लता था |

एक दिन की बात है शिल्पा नाहा कर बाथरूम से निकली और हमारे किचन से बाथरूम का दरवाज़ा दिखता है और मैं उस तरफ सिर करके सब्जी काट रहा था | तभी वो बाथरूम से बाहर निकली क्यूँकि उसने कपड बाहर रखे थे और उस समय उसने सिर्फ अपने ऊपर टॉवल लपेटा हुआ था | उसके कपडे कुर्सी पे रखे थे और वो जैसे ही कपडे उठाने के लिए झुकी उसकी टॉवल खुलकर नीचे गिर गई और मैं ये सब देख लिया | उसके दूध बड़े थे और उन पर छोटे से काले निप्पल थे जो बहुत ही प्यारे लग रहे थे | उसका फिगर तो मदहोश करने वाला था और उसकी गांड मस्त एकदम गोल गोल सी थी |



मैं उसको देखता ही रह गया और ये भी भूल गया कि मैं कर क्या रहा हूँ ? फिर उसने जल्दी से अपने टॉवल उठाई और खुदको ढंका और अपने कपडे उठा कर बाथरूम के अन्दर भाग गई | वहां पर उसे किसी और ने नहीं देखा था सिवाए मेरे | अब मेरी आँखों के सामने उसका नंगा बदन घूमने लगा और मैं उसे चोदने के बारे में सोचने लगा | जैसा की मैंने बताया था हम दोनों एक दुसरे से खुलकर बात कर लिया करते थे तो मैं और शिल्पा साथ बैठे थे तो मैंने कहा क्यों शिल्पा कल क्या हुआ था ? तो उसने कहा कब जीजू ? तो मैंने कहा बाथरूम के बाहर | तो उसने अपनी आँखें बड़ी करते हुए कहा आपने देख लिया ?

तो मैंने कहा हाँ लेकिन किसी से नहीं बताऊंगा तो उसने कहा हाँ जीजू आप पर भरोसा है | तो मैंने कहा वैसे अन्दर से और ज्यादा सुन्दर लगती हो तुम | तो वो शर्मा गई और अपने बाल को कान के पीछे करते हुए बोली थैंक यू जीजू | तो मैंने मस्ती में ऐसे ही कह दिया फिर कब दर्शन होंगे तो उसने कहा जीजू मजाक मत करो | तो मैंने कहा अरे इसमें गलत क्या है जीजू हूँ तुम्हारा और साली तो आधी घरवाली होती है तुम अपने जीजू के लिए इतना नहीं करोगी ? तो उसने कहा चलो तो |

अब शिल्पा मुझसे और ज्यादा खुल गई थी और मैं इसका फायदा उठना चाहता था और उसको चुदने के लिए मजबूर करना चाहता था | मैंने बहुत से प्लान सोचे लेकिन कोई भी मुझे सही नहीं लगा | एक दिन मैं रात को छत पर टहल रहा था तभी मुझे किसी और के आने की आवाज़ सुनाई दी तो मैंने झांक कर देखा तो शिल्पा ऊपर चली आ रही थी | तो मेरे दिमाग में एक आईडिया आया और मैं अपने मोबाइल में चुदाई का वीडियो चालू करके एक कोने में बैठ गया | मुझे पता था अगर शिल्पा मेरे पास आएगी और मैं एकदम से मोबाइल छुपा लूँगा तो वो ज़रूर जानने की कोशिश करेगी कि मैं क्या देख रहा था ?

और हुआ भी ऐसा ही पहले मैंने उसे अपने पास आने दिया और जैसे ही वो मेरे करीब आ गई मैं झटके से अपना मोबाइल बंद कर दिया और छुपाने लगा | तो शिल्पा ने मुझसे पूछा क्या देख रहे हो जीजू ? मुझे भी दिखाओ | तो मैंने कहा ये मैं तुम्हें कैसे दिखा सकता हूँ तो उसने कहा नहीं मुझे दिखाओ मैं देखना चाहती हूँ | तो मैंने कहा ठीक है लेकिन देखने के बाद अपनी दीदी को मत बता देना कि जीजू ये सब देखते है ? तो उसने कहा ठीक है और मैंने अपना मोबाइल चालू किया और वीडियो चालू कर दिया | उसने कहा जीजू आप ये देखते हो ? तो मैंने कहा इसमें गलत क्या है ?

तो वो बोली मतलब इसको देखने से कुछ गलत नहीं होता | तो मैंने कहा नहीं तो वो बोली तो मैं भी ये देख सकती हूँ तो मैंने कहा हाँ क्यों नहीं और हम दोनों वहीँ पर बैठ गए | जब हम वीडियो देख रहे थे तभी शिल्पा ने कहा जीजू एक बात बताऊँ किसी से बताना मत | तो मैंने कहा हाँ बोलो उसने कहा मेरे तीन बॉयफ्रेंड रह चुके हैं और मैं ये सब उनके साथ कर चुकी हूँ | तो मैंने क्या मैंने तो सोचा था बिलकुल गाय जैसी हो | तो उसने कहा प्लाज़ जीजू मत बताना किसी को | तो मैंने कहा ठीक है नहीं बताऊंगा लेकिन तुम्हें ये सब मेरे साथ भी करना होगा |

तो उसने कहा नहीं जीजू आप मेरी दीदी के पति हो और मैं आपके साथ कैसे कर सकती हूँ | तो मैंने कहा कोई बात नहीं किसी को पता नहीं चलेगा | तो उसने कहा नहीं जीजू ये गलत है तो मैंने उसको पकड़ कर अपने पास खींच लिया और कहा कुछ गलत नहीं है और उसके होंठों को जल्दी से किस कर दिया | वो शर्माने लगी तो मैने उसका मुंह ऊपर किया और फिर से उसको किस करना शुरू कर दिया | छत पर बिलकुल अंधेरा था और नीचे काम चल रहा था इसलिए अभी मुझे किसी का भी डर नहीं था और मैं उसके होंठ चूसने में लगा हुआ था | वो भी किस करने में साथ दे रही थी और मेरे मन में तो लड्डू फूट रहे थे |

फिर मैंने उसका टॉप ऊपर किया और उसके दूध दबाते हुए कहा इतने बड़े कैसे किये तुमने ? अपनी दीदी के भी इतने बड़े कर दो | तो उसने कहा जीजू इसमें मेहनत लगती है अपनी भी और दूसरों की भी | मैं समझ गया लड़की चालू है और फिर मैंने उसके दूध चुसना शुरू कर दिया | उसके दूध गज़ब के थे और निप्पल चूसने में जो मज़ा आ रहा था आहा | वो ऊउम्मम्म ऊउम्मम्म करने लगी तो मैंने कहा चुप किसी ने सुन लिया तो लेने के देने पड़ जायेंगे और फिर से उसके दूध चूसने लगा | फिर मैंने अपनी पैन्ट खोली और अपना लंड निकाल कर कहा ये लो मेरा लंड, अब ये तुम्हारा हुआ |

फिर उसने मेरा लंड पकड़ा और मुंह में लेकर चूसने लगी | मुझे बहुत अच्छी वाली फीलिंग आ रही थी और मैं उससे कह रहा था और अन्दर तक चुसो तो वो मेरे लंड को और ज्यादा चूसने की कोशिश कर रही थी | अब हम छत पर थे इसलिए पुरे कपडे उतार नहीं सकते थे इसलिए मैंने उसकी लैगी थोड़ी सी उतारी और पैंटी नीचे करके उसकी चूत को मलने लगा | वहां पर अँधेरा था इसलिए मुझे कुछ दिख नहीं रहा था इसलिए मैं उसकी चूत को इमेजिन करने की कोशिश कर रहा था और ऊँगली भी करे जा रहा था | वो फिर से सिसकियाँ लेने लगी तो मैंने उसको शांत करा दिया |

अब वो लेटी हुई थी और मैंने उसकी चूत पे अपना लंड रखा और एक ज़ोर के झटके से अन्दर कर दिया लेकिन उसके पहले मैंने उसके मुंह पर हाँथ रख दिया था | फिर मैं उसको चोदने लगा और वो भी चुदने के मज़े लेने लगी | मैं बार बार उसको ज़ोर के झटके मरे जा रहा था और वो आवाज़ भी नहीं कर पा रही थी | फिर मैंने उससे कहा ऐसे में चोदने में दिक्कत हो रही है तुम घूम जाओ और घुटनों पर बैठ जाओ | तो वो घोड़ी बनकर बैठ गई और मैं पीछे से उसकी चूत मैं लंड डाल के उसे चोदने लगा | मैं उसको ऐसे 10 मिनिट तक चोदता रहा और फिर मैंने लंड बाहर निकाल लिया क्योंकि मुट्ठ अगर निकला तो कहीं अन्दर ही ना गिर जाये |

पीर मैं वहीँ बैठ गया और उसको वो मेरे बाजू में बैठ गई और मैं कहा हिलाओ इसे और वो मेरा लंड हिलाने लगी | थोड़ी देर में मेरा मुट्ठ निकला और मैं वहीँ बाजू में गिरा दिया क्योंकि मैं उसके ऊपर नहीं गिरा सकता था ना कपडे गंदे हो जाते | फिर हम दोनों वहीँ पर बैठे रहे थोड़ी देर और बातें करते रहे | उसे बाद तो जब भी मुझे चुदाई का मन होता है मन उसको कहीं भी लेकर चला जाता हूँ हम दोनों खून चुदाई करते हैं और घर आ जाते हैं |

दोस्तों आप लोगों को मेरी ये कहानी कैसी लगी कमेंट में जरुर बताइयेगा | जल्द ही मिलता हूँ दूसरी कहानी के साथ |
      edit

0 comments:

Post a Comment