Friday, March 2, 2018

Published 11:40 PM by with 0 comment

अमेरिका में देसी चुत की पहली चुदाई

अमेरिका में देसी चुत की पहली चुदाई

(America Me Desi Chut Ki Pahli Chudai)

मेरा नाम स्वयं है। मैं ऑफिस के काम से डलास शहर जो कि टेक्सास(अमेरिका) में है.. जाता रहता हूँ। मैं एक साफ्टवेयर कंपनी में काम करता हूँ। यह कहानी मेरी जिन्दगी में घटी एक सच्ची घटना है। मैं आज इसे आपके साथ शेयर करना चाहता हूँ।

डलास मेरे लिए नया शहर है.. इसलिए मैं किसी को जानता भी नहीं था। एक दिन सोचा शाम को थोड़ी मस्ती की जाए.. इसलिए सोचा किसी नाइट क्लब में जाकर डांस एन्जॉय करता हूँ। फ्राइडे की शाम मैंने थोड़ा बहुत इंटरनेट पर डांस क्लब्स सर्च किए.. तब पता चला कि यहाँ काफी अच्छे अच्छे नाईट क्लब हैं।

ऑफिस से आकर फ्रेश होकर अपने दोस्तों से पूछा.. पर सब बिजी थे.. तो मैं अकेला अपनी शाम एन्जॉय करने निकल पड़ा।

वैसे भी अमेरिकन नाईट क्लब का माहौल मेरे लिए आश्चर्यजनक नहीं था.. फिर भी मैं कुछ अकेलापन महसूस कर रहा था। मैंने अपनी ड्रिंक ली और लोगों को नाचते हुए देख रहा था। मैंने देखा एक तरफ कुछ जाने-पहचाने लोगों का ग्रुप था। ध्यान से देखने पर मुझे समझ में आया यह लोग मेरे ही ऑफिस के हैं.. पर मेरी टीम में नहीं हैं.. इसलिए इनमें से किसी से मेरी बात नहीं हुई थी। मैंने सोचा क्यों ना मैं खुद जाकर अपना परिचय इन लोगों से कर लूँ।

वैसे मैं अंतर्मुखी स्वभाव का लड़का हूँ.. ज्यादा किसी से बात नहीं करता.. पर उस ग्रुप में 3-4 खूबसूरत लड़कियां भी थीं। बस फिर क्या था.. एक बोतल व्हिस्की की लेकर मैं उन लोगों से मिलने चला गया। बातों ही बातों में पता चला कि वो लोग मेरे ही ऑफिस में इंटर्न बेसिस पर जॉब करते हैं। सबकी उम्र लगभग 22-23 साल होगी। सबसे बात तो मैं कर रहा था.. पर मेरा ध्यान केवल एक ही लड़की पर ज्यादा था। वो कद में 5’3″.. चूचियां मस्त गोल-गोल.. करीब 32 साइज़ की.. कमर 28 की और कूल्हे 36 के थे।

उसको देखते ही मेरा लण्ड खड़ा हो गया उसका नाम रोशनी था। बातों ही बातों में हमारी अच्छी दोस्ती हो गई। वो शाम मेरी अमेरिका में बिताई सबसे अच्छी शाम थी। रात के दो बजे जब नाईट क्लब बंद हुआ.. तो मैंने सबको ‘गुडबाय’ बोला और अपनी कार लेने पार्किंग में चला गया। मैं थोड़ा दुखी था कि मैं रोशनी का फ़ोन नंबर नहीं ले पाया।

शर्मीले स्वभाव के लड़कों के साथ यही समस्या रहती है।

जैसे ही मैं नाइट के बाहर आया कि मैंने देखा रोशनी अपनी दो दोस्तों के साथ गेट पर खड़ी थी। मुझे लगा कि कोई प्रॉब्लम न हो इसलिए मैंने जाकर उनसे पूछा- क्या बात है?
पता चला कि वो लोग टैक्सी का वेट कर रहे हैं।
फिर क्या था मैंने एक दो बार पूछा- मैं उन्हें घर ड्रॉप कर दूँ क्या?
पर पहली मुलाकात में वो लोग भी हिचकिचा रहे थे.. अचानक रोशनी की एक फ्रेंड ने पूछा- आप किस एरिया में जा रहे हो?
जब मैंने उन्हें अपना पता बताया तो उसने कहा- अरे आपका घर तो रोशनी के घर के काफी करीब है। अगर आपको कोई तकलीफ न हो तो आप रोशनी को घर ड्रॉप कर दें।

इतना सुनते ही मेरे चेहरे पर आई ख़ुशी उन सबको पता चल गई।

एक ही ऑफिस मैं काम करते हैं.. तो उनको भी मुझे लेकर कोई टेंशन नहीं थी। रोशनी भी मेरे साथ फ्रंट सीट पर आकर बैठ गई। मुझे लगा उनमें से कोई और गले की हड्डी बनने न आ जाए.. इसलिए मैंने कार जल्दी से बढ़ा दी।

रास्ता भी लगभग 25 माइल्स का था इसलिए हमारे पास काफी टाइम था। बातों ही बातों में रोशनी ने बताया कि वो यहाँ यूनिवर्सिटी ऑफ़ टेक्सास में मास्टर ऑफ़ साइंस का कोर्स करने आई थी और उसकी जॉब भी यहीं लग गई है।
हम बातें करते रहे और उसका घर आ गया.. उसने मुझे ‘बाय’ बोला और कार से उतर गई और अपना नंबर भी दे दिया।

यह शहर मेरे लिए नया है और मुझे रास्ते भी ज्यादा नहीं पता है, मैंने उससे पूछा- रात के इस वक्त कहीं कोई खाने का होटल या रेस्टोरेंट खुला मिल सकता है क्या?
मैं डांस करते-करते इतना थक गया था कि भूख लग आई थी। उसने मुझे 3-4 बार ‘आई होप’ रेस्टोरेंट का रास्ता समझाया.. पर मुझे तो ज्यादा बात करने का बहाना मिल गया था.. इसलिए बार-बार गलत समझ लेता था।

मैंने आखिरी बार कोशिश कि और उससे पूछा- अगर तुमको भी भूख लगी हो और तुम भी साथ में आना चाहो तो साथ ही चलते हैं?

उसने भी ‘हाँ’ कह दिया.. इसलिए क्योंकि उसे लगा कि मुझे रास्ता समझ में नहीं आ रहा था।
मुझे भी अब कुछ कुछ समझ में आ रहा था कि रोशनी को भी मेरे साथ वक्त बिताना अच्छा लग रहा है।
बातों ही बातों में उसने मुझे बताया- मेरे घर वाले मेरे लिए रिश्ता ढूंढ़ रहे हैं और शायद एक साल में शादी हो जाएगी.. इसलिए मैं एक साल में अपनी पूरी लाइफ एन्जॉय करना चाहती हूँ।

रात के 3 बज चुके थे और हमें कोई सा रेस्टोरेंट खुला नहीं मिला.. हम दोनों का घर ज्यादा दूर नहीं था। उसने मुझसे कहा- अगर तुमको कोई प्रॉब्लम नहीं हो.. तो तुम मेरे घर आकर खाना खा सकते हो।
मैं खुश था।

उसने आगे बताया- मेरी रूम मेट इंडिया गई हुई है और मैं एक सप्ताह तक अकेली हूँ।
मुझे क्या प्रॉब्लम हो सकती थी.. मैं भी झट से तैयार हो गया.. मैंने गाड़ी पार्किंग में खड़ी की और हम दोनों उसके अपार्टमेंट में आ गए।

उसने टीवी चला दी और खुद बाथरूम में चली गई। पांच मिनट बाद जब वो वापस आई.. तो घर के कपड़ों में थी। शॉर्ट केप्री और टी-शर्ट में वो बहुत सेक्सी लग रही थी।
उसने कहा- मैं तुम्हारे लिए ऑमलेट बनाने जा रही हूँ.. अगर तुम बोर फील करो.. तो रसोई में आ जाओ।

मुझे भी टीवी थोड़ी न देखना था। मैं भी अपना खड़ा हुआ लण्ड ठीक करने बाथरूम में चला गया। थोड़ी देर बार जब मैंने ड्रावर में देखा.. उसके वही कपड़े पड़े हुए थे.. जो उसने नाईट क्लब में पहने थे।

मुझसे रहा नहीं गया और मैं उसके कपड़े उठा कर चूमने लगा.. उनमें क्या मस्त मादक महक आ रही थी। ख़ासकर उसके अंडरआर्म और मम्मों वाली जगह पर। ज्यादा देर हो गई थी.. तो फिर मैंने अपने आपको संभाला और बाहर आ गया।

उसने ऑमलेट और परांठे बनाए और बेडरूम में लेकर आ गई.. क्योंकि उसके ड्रॉइंगरूम में बैठने की पर्याप्त जगह नहीं थी। हमने खाना खाया फिर मुझे ज्यादा उसके घर रुकना अच्छा नहीं लगा। मेरा मन तो कर रहा था.. पर मैं पहली मुलाक़ात में उसे परेशान नहीं करना चाह रहा था। इसलिए मैं उसे ‘गुड नाईट’ हग करके बाहर आ गया। जब गाड़ी की चाभी देखी.. तो मिली नहीं.. न ही मेरे जैकेट में.. न ही उसके अपार्टमेंट में।

मुझे लगा मैंने चाभी गाड़ी में ही छोड़ दी.. नीचे जाकर देखा तो गाड़ी अन्दर से बंद हो गई थी और चाभी भी अन्दर ही रह गई थी।
मैं भी क्या करता आते वक्त मैं हड़बड़ाहट और ख़ुशी में चाभी निकालना ही भूल गया था।
अब क्या था.. मैं कुछ नहीं कर सकता था। इतनी रात में मैकेनिक को फ़ोन किया.. तो उसने भी कहा कि वो कल सुबह आएगा।

मुझे लगा कि मैं टैक्सी बुला कर घर चला जाऊँ.. पर रोशनी ने कहा- सुबह फिर वापस आना पड़ेगा और अगर तुम चाहो तो आज रात मेरे घर ही रुक सकते हो।
मेरी तो जैसे लाटरी निकल गई.. मैंने भी धन्यवाद बोला और फिर हम वापस उसके अपार्टमेंट में आ गए।

अब कर भी कुछ नहीं सकते थे। एक ही बिस्तर पर हम दोनों दूर दूर बैठ गए और बातें करने लगे। हम दोनों बहुत थके हुए थे.. इसलिए दोनों बातें करते करते उसी बिस्तर पर सो गए।
सुबह के 5 बजे मेरी नींद खुली तो देखा रोशनी ने अपना कम्बल मुझे उड़ा दिया है और खुद ठण्ड में लेटी हुई है।
मुझे बुरा लगा और मैंने आधा कम्बल उसे उड़ा दिया।

इतने में वो भी जाग गई। अब हम दोनों एक ही कम्बल में एक ही बिस्तर पर और एक ही तकिए पर लेटे हुए थे। क्या महक थी उसके बालों में.. उसने अपना सर मेरे कंधे के पास मेरे हाथ पर रख दिया ताकि वो अच्छे से सो जाए। इससे वो मेरे करीब आ गई।

मेरी नींद गायब थी और मैंने उससे पूछा- क्या तुमको नींद आ रही है?
उसने भी मना कर दिया।
मैंने मज़ाक में कहा- मैं तभी सो पाता हूँ… जब कोई मुझे गुड नाईट किस देता है।

यह सुन कर वो मुस्कुरा दी और मेरे माथे पर धीरे से एक किस दे दिया और मैंने रिप्लाई में उसके होंठों पर छोटा सा किस कर दिया।
उसने मुझे प्यार से डाँट दिया और शरमा गई। वह शरमाई तो मैंने देर नहीं की और उसके होंठों पर अपने होंठ रख दिए और अपनी बाँहों में भर लिया। मेरे अचानक इस तरीके से वो थोड़ा घबरा सा गई।

फिर मैंने ‘सारी’ बोल कर कहा- मैं तुम्हें बहुत पसंद करता हूँ.. अपने आपको रोक नहीं पाया।
फिर उसने मेरा हाथ पकड़कर कहा- मुझे भी तुम अच्छे लगते हो.. पर मैं अभी तक कुंवारी हूँ और शादी के बाद ही अपने पति के साथ सेक्स करना चाहती हूँ।
मन ही मन मैं भी उसकी बहुत इज्जत करने लगा था इसलिए मैंने उसको कहा- जब तुम कहोगी.. तब तक मैं रुक जाऊँगा। जितना तुम चाहोगी.. उतना ही प्यार करूँगा।
उसने मुझे पास खींचते हुए कहा- प्रॉमिस करो कि जब मैं कहूँगी.. तब तक के लिए तुम रुक जाओगे?

तो मैंने भी ‘हाँ’ कह दिया और उसने मुझे चूम लिया।
क्या गुलाब की पंखुड़ियों जैसे होंठ थे उसके।

उसके बाद उसने अपनी जीभ मेरे मुँह में डाल दी और मैंने भी ऐसे ही अपनी जीभ उसके मुँह में डाली और वो चूसने लगी। मैंने उसकी कमर में हाथ डाल कर उसे खींचा.. उसने मेरे चूतड़ों को दबा दिया। ऐसे ही हम लोग 5 से 7 मिनट तक चूमते रहे। मेरी उत्तेजना को आप समझ ही सकते हैं। मैं देर न करते हुए उसके मम्मों को दबाने लगा। मैं चूमता गया उसकी आँखों.. माथे और फिर नीचे की और गले में.. सब जगह।
उसने आँखें बंद कर लीं।

फिर मैंने अपने होंठों को उसके पेट पर रख दिया और उनकी नाभि को चाटने लगा। धीरे धीरे मैंने उसका टॉप ऊपर कर दिया और उतार दिया। वो काली ब्रा और पैन्टी में क्या मस्त माल लग रही थी। उसकी ब्रा खोलते ही उसके दोनों स्तन बाहर आ गए। दूध से सफ़ेद गोरे स्तन और बीच में गुलाबी चूचुक देखते ही मेरी जीभ लपलपाने लगी और फिर मैं दोनों हाथों से उसकी चूचियों को मसलने लगा।

वो मदहोश होने लगी, उसकी आँखें बंद हो गईं। मैं उसके मम्मों को मुँह में लेकर चूसने लगा। उसके मुँह से सिसकारियाँ निकल रहीं थीं। मैंने अपना हाथ जब उसकी पैन्टी पर लगाया तो जाना कि उसकी पैन्टी आगे से पूरी गीली थी।

फिर मैंने भी अपने कपड़े उतार दिए, मैंने उसकी पैन्टी उतार दी और उसकी चूत चाटने लगा। उसकी चूत एकदम गुलाबी और बिना बालों की थी। उसकी चूत काफी टाईट थी। मैं अंगुली को धीरे धीरे अन्दर बाहर करने लगा.. इससे उसको मजा आने लगा.. क्योंकि वो कामुक सिसकारियाँ लेने लगी थी।
मैंने अपनी उंगली गोल गोल घुमानी शुरू कर दी और अब तो वो मचलने लगी और जोर जोर से आवाजें निकाल कर कह रही थी- और जोर से करो.. और जोर से..

मैं भी अपने होश खो बैठा और उसकी चूत मसलने लगा। फिर मैंने अपना लण्ड उसको पकड़ा दिया.. वो मेरे लण्ड को धीरे धीरे सहलाने लगी। फिर मैंने उसको मेरा लण्ड को मुँह में लेने को कहा.. तो उसने साफ़ मना कर दिया.. मेरी इच्छा अधूरी रह गई।
पर मैं समझ सकता था कि सबके सेक्स करने का तरीका अलग अलग होता है इसलिए मैंने ज्यादा जोर नहीं दिया। हाँ.. मैंने उसकी चूत का हर हिस्सा अच्छे से चूसा था। कुछ देर में उसका चिकना पानी मेरे मुँह में भर गया और मैं भी उसे पूरा चाट गया।
चूत के दाने पर ही मैं बहुत देर तक डटा रहा था।

मेरा औसत से बड़ा लण्ड देखकर उसने कहा- प्लीज इसे अन्दर मत डालना। मुझे अभी अपना कौमार्य भंग नहीं करवाना है।
मैंने भी उसे प्रॉमिस किया- जब तक तुम खुद नहीं चाहोगी.. तब तक मैं अपना लण्ड अन्दर नहीं डालूंगा। केवल उसकी चूत के ऊपर ही ऊपर से लण्ड फेरूंगा। मैंने उसे समझाया तो वो मान गई।

बस फिर क्या था.. मैंने उसकी चूत पर लौड़ा रखा और अपने लण्ड पर ढेर सारा थूक लगा लिया। एक हाथ से उसके मम्मे दबा रहा था.. साथ ही उसके होंठों पर किस कर रहा था और ऊपर ही ऊपर लण्ड घुमा रहा था।

कुछ ही देर में उसका शरीर अकड़ने लगा और वो चिल्लाने लगी- अब मुझसे रहा नहीं जा रहा है.. प्लीज स्वयं फक मी.. मैं और नहीं रुक सकती.. प्लीज मुझे और मत तड़फाओ और मेरी सील तोड़ दो।
थोड़ी देर बाद वो कमर उठाने लगी.. तो तभी मैंने अपना सुपारा घुसेड़ दिया और अन्दर-बाहर करने लगा और उसे भी मजे आने लगे।
मैंने जैसे ही झटके से अन्दर डाला तो वो छटपटाने लगी और लण्ड निकालने को कहने लगी।

जब वो चुप हुई तो मैं फिर से डालने लगा.. तो मेरा लण्ड अन्दर ही नहीं जा रहा था तो मैंने एक जोर का झटका मारा और लगभग आधा लण्ड अन्दर चला गया तो वो जोर से चिल्लाई मगर तभी मैंने उसके होंठ पर अपने होंठ रख दिए और उसके ऊपर लेट गया और उसके होंठ चूसता रहा। कुछ देर बाद वो भी मेरे होंठ चूसने लगी। फिर मैंने अपना लण्ड और अन्दर डाला जो थोड़ी दिक्क़त के साथ अन्दर चला गया। उसकी चूत से गर्म-गर्म खून आने लगा। शायद उसने नहीं देखा.. मैं कुछ देर रुक गया।

थोड़ी देर में उसने अपने कूल्हे हिलाने शुरू कर दिए तो मैं समझ गया कि अब दर्द कम हो रहा है। बस फिर मैं अपने लण्ड को हिलाने लगा। उसकी चूत में मेरा लण्ड टकराने लगा। वो हिल-हिल कर लण्ड का स्वाद लेने लगी। मैं धक्के मारने लगा और वो भी मेरा साथ देने लगी। करीब 5 मिनट के बाद दोनों एक साथ झड़ गए.. मगर मुझे अभी भी संतुष्टि नहीं मिली थी और मैं धक्के मारता रहा।

कुछ ही पलों के बाद मेरा फिर पूरी तरह से खड़ा हो गया और मैं उसको चोदता रहा। वो एकदम बुरी हालत में थी.. मगर कुछ बोली नहीं। दस मिनट बाद मैं फिर से झड़ गया। उसकी हालत बहुत ख़राब थी और वो हिल भी नहीं पा रही थी। करीब दस मिनट हम ऐसे ही लेटे रहे।

फिर वो बोली- मुझे माफ़ करना, मैं ही अपने आप पर कण्ट्रोल नहीं रख पाई।
उसने मुझे अपना प्रॉमिस निभाने पर ‘थैंक्स’ भी बोला।

उसके बाद मैंने उसे प्यार से समझाया क्योंकि मुझे पता था लड़कियों का दिल बहुत कोमल होता है और रोशनी की पहली चुदाई उसके जीवन में कितना महत्व रखती है।
फिर हमें कब नींद आई.. पता ही नहीं चला। सुबह सुबह मैं उसको सोता हुआ छोड़कर चला गया.. क्योंकि मैं नहीं चाहता था कि वो मुझे देखकर शर्मिंदा हो। बस एक प्यार सा नोट छोड़कर और उसमें लिखा था- तुम्हें खाना बनाना नहीं आता।
      edit

0 comments:

Post a Comment