Monday, April 2, 2018

Published 10:22 PM by with 0 comment

सेक्सी मामी की चुदाई की कहानी

सेक्सी मामी की चुदाई की कहानी

(Sexy Mami Ki Chudai Ki Kahani)

मैं अपनी एक सच्ची कहानी बताने जा रहा हूं कि मैंने अपनी मामी को चोदा और उनको चोद कर अपनी सेक्स की प्यास बुझाई. मेरा नाम भावेश है, मैं 30 साल का हूँ.
मेरी मामी मेरी गली में ही रहती हैं, वो मेरी माँ के एक धर्म के भाई की बीवी हैं. मामी का नाम सुमन है, मामी 32 साल की हैं. सुमन मामी बहुत सेक्सी लगती हैं. उनके मम्मे 38 के साइज़ के हैं. मैंने जब से मामी को देखा है, तब से लेकर मामी को चोदने तक रोज उसके नाम की मुठ मारी है.

बात उन दिनों की है, जब मैं मुम्बई से गांव आया था. इधर घर में सबको मिला, फिर मैं शाम को मामी को मिलने उनके घर गया.

दरवाजे पर डोर बेल बजाई तो मामी ने दरवाजा खोला. सामने मामी को देखा तो बस देखते ही रह गया. मामी बहुत सेक्सी लग रही थीं. मैंने मामी को नमस्कार किया और अन्दर गया.
मामी ने पूछा- कब आए हो?
मैंने कहा- आज सुबह ही आया हूं… और अब आपको मिलने आ गया.
मामी मुस्कुराने लगीं.

मैंने कहा- सब कहां गए हैं?
तो बोलीं- तुम्हारे मामा तो दुकान पे है और सास ससुर उनके दूसरे लड़के के घर गए हैं, घर पे मैं और मामा ही हैं.
फिर मामी ने मुझे चाय का बोला और वो किचन में चाय बनाने गईं.
हम दोनों ने चाय पी और आपस में बात करने लगे.
मामी ने पूछा- मुम्बई में कैसे रहे?
मैंने कहा- ठीक ही रहे.

फिर इधर उधर की बातें होने लगीं. मेरे मन में तो कुछ और ही चल रहा था. मामी ने पूछा- कोई गर्लफ्रेंड है या नहीं?
मैंने कहा- नहीं मामी, नहीं है.
मामी ने कहा- झूठ बोल रहे हो.
मैंने कहा- कसम से कोई गर्लफ्रेंड नहीं है.
मामी मुस्कुराने लगीं.

फिर मैंने मामी को बोला- एक बात बोलूँ?
उन्होंने कहा- हां बोलो.
मैंने कहा- आप मुझे बहुत सेक्सी लगती हो और मुझे बहुत अच्छी लगती हो.
मामी ने कहा- ऐसी क्या बात है मुझमें कि मैं तेरे को अच्छी लगती हूं?
मैंने कहा- आप हो ही इतनी सेक्सी फिगर वाली… हर कोई आपको पसंद करेगा. मेरे मामा की तो किस्मत बहुत अच्छी है जो आप जैसी मामी उन्हें मिली हैं.

फिर मैंने देखा मामी मेरे और पास में आकर साड़ी का पल्लू थोड़ा नीचे गिराकर पास में हो गईं. मुझे उनके चूचे दिखाई दिए.
मैं थोड़ा साइड में हट गया तो मामी बोलीं- क्या हुआ? साइड में क्यों हट गए… मैं तो तेरे को बहुत सेक्सी लगती हूं ना… तो फिर क्यों दूर हट रहा है?
मैं मामी से बोला- मामी मैं आपसे बहुत प्यार करता हूं, मुझे आपकी रोज याद आती है. पर क्या करूँ?
तो मामी ने मुझे कहा- मुझे प्यार करता है तो आज भर के कर ले प्यार… ले तेरी मामी आज तेरी है.

कामवासना के वशीभूत मामी ने अपनी बाँहें मेरी ओर फैला दीं.

मैंने मामी को किस किया तो मामी ने भी मुझे किस किया. फिर मैंने मामी को होंठों पर बहुत किस किया और उन्होंने भी मुझे बहुत किस किया. मैंने मामी के मम्मों को बहुत दबाया और मेरा हाथ सीधा उनकी नीचे चूत पे आ गया.
मामी ने बोला- यार, आज इतना ही बाकी कल… मैं घर का काम करके तेरे को फोन करूंगी, तब सब कुछ कर लेना.

फिर कुछ देर यूं ही रुक कर मैं अपने घर वापस आ गया. रात को मामी के नाम की मुठ मारी और आधी रात तक मामी को चोदने के बारे में सोचता रहा और बाद में सो गया.

फिर सुबह से ही मेरे मन में मामी को चोदने का विचार था. सुबह 11 बजे मुझे कॉल आया कि घर पे आ जाओ. मैं तो खुशी से झूम उठा. मैं उनके घर गया और बेल बजाई तो मामी ने दरवाजा खोला. मैंने देखा कि मेरी मामी सामने रेड साड़ी में बहुत ही सेक्सी लग रही थीं.

फिर हम दोनों अन्दर गए तो मैं तो सीधा ही उनको पीछे से किस करने लगा.
वो बोलीं- थोड़ा रुक जाओ यार.
मैंने कहा- मैं अब और नहीं रुक सकता मामी… रात बड़ी मुश्किल से निकली है.

हम दोनों बेडरूम में आ गए. मैं पागलों को तरह मामी को किस पे किस करने लगा था, वो भी मुझे किस कर रही थीं. बहुत देर तक किस करने के बाद मैंने कहा- मामी आप अपनी साड़ी उतार कर रख दो.
उन्होंने कहा- मुझे मामी मत कहो मुझे सुमन कहो.
मैंने कहा- यस मेरी प्यारी सुमन… अब साड़ी उतार दे… मुझे तो मेरी चूत के दर्शन करने हैं.

फिर क्या था हम दोनों वापस किस करने लगे और सारे कपड़े उतार दिए. अब सुमन मामी सिर्फ ब्लैक कलर की ब्रा और पेंटी में ही थीं. क्या चुचे थे यार मैं तो मस्त हो गया. मैंने ब्रा के ऊपर से ही मम्मों को किस किया और हाथ नीचे करके चूत पे उंगली लगाना शुरू किया… तो देखा चूत गीली हो चुकी थी. मैंने ब्रा को उतार दिया.

अब मेरे सामने 38 के खुले मम्मे थे. मैं मम्मों को इतना अधिक दबा रहा थी कि उनके मुँह से मादक सिसकारियां निकल रही थीं.

मैं एक हाथ से जोर जोर से मम्मों को दबा रहा था और किस कर रहा था. एक दूसरे के मुँह में जीभ में जीभ डाल के किस कर रहे थे. उनका हाथ मेरे लंड के ऊपर पहुँच गया और वो लंड को ऊपर से सहला रही थीं.

फिर मैंने उनकी पैन्टी को उतार दिया और उन्होंने मेरी अंडरवियर को उतार के फेंक दिया. अब हम दोनों नंगे ही कमरे में एक दूसरे को चूम रहे थे.
सुमन मामी के मुँह से मादक सिसकारियां निकल रही थीं- ओह यस्स ओह्ह…

मेरे लंड का साइज फूल कर तन चुका था. पूरे 6 इंच का लंड देख कर सुमन मामी ने मुझसे कहा- बहुत बड़ा लंड है यार… अब देर न करो… इसे मेरी चूत में डाल कर मुझे मजा दे दो मेरे राजा.
मैंने कहा- पहले इसे मुँह में डालो ना.

सुमन मामी ने बड़े ही मस्त अंदाज में लंड को पकड़ कर मुँह में अन्दर बाहर करना शुरू कर दिया. वो ऐसे मस्ती से लंड चुसाई कर रही थीं, बिल्कुल लॉलीपॉप की तरह से जोर जोर से चूस रही थीं. मैं भी पूरे जोर के साथ लंड को उनके मुँह में पूरा डाल रहा था.

मैंने मेरा पूरा लंड मामी के मुँह में डाल कर गले तक कर दिया और ऐसे ही रखा तो वो मुँह से बाहर निकालने की कोशिश करने लगी थीं क्योंकि लंड उनके गले में अड़ गया था.

फिर मैं जोर जोर से लंड को सुमन मामी के मुँह में डाल कर मुँह चोद रहा था, वो सिसकारियां ले रही थीं.
मैंने लंड को बाहर निकाला.
अब वो बोलीं- मेरी चूत को चाटो फिर चोदना.

मैंने उनकी चूत पे मुँह लगाया और जोर जोर से जीभ डाल कर चूत चाटने लगा था. क्या नमकीन टेस्ट लग रहा था चूत का…

वो जोर से अपने हाथ से मेरा मुँह को चूत पे दबा रही थीं और बीच बीच में गाली दे रही थीं- चूत को चाट ले साले… और मुँह से सिसकारियां ले रही थीं- ओह उम्म्ह… अहह… हय… याह… याह ओह यस ओह…

तभी वो अकड़ गईं और मेरे मुँह में उनका पानी आ गया, शायद वो झड़ चुकी थी.
मैंने उनका पानी चाट कर पी लिया… टेस्टी नमकीन जूस जैसा लग रहा था. फिर दो मिनट बाद मैंने उनकी चूत पर अपना लंड को लगाया और जोर से झटका दे दिया. मेरा लंड आधा अन्दर घुस गया… और फिर जोर से झटका दिया तो लंड पूरा अन्दर घुस गया.

अब मैं जोर जोर से उनको चोद रहा था उनके मुँह से गाली निकाल रही थी.
मामी बोल रही थीं- चोद दे साले हरामी मादरचोद, फाड़ दे मेरी चूत… फाड़ दे ओह ओह ओह यस फाड़ डाल आज चोद के मुझे अपनी रण्डी बना ले… अह… अपने लंड की गुलाम बना ले साले…

मैं जोर जोर से उन्हें चोदे जा रहा था और वो सिसकारियां ले रही थीं. पूरा कमरा उनकी मादक सिसकारियों से गूंज रहा था.

फिर मैंने उन्हें घोड़ी बनने को कहा तो उन्होंने मना किया कि मैंने आज दिन तक गांड नहीं मराई है.
मैंने कहा- सुमन डार्लिंग आज ट्राई कर लो… अगर अच्छी लगे तो बाद में भी मजा ले सकोगी.

फिर मामी मान गईं. मैंने अपना लंड उनकी गांड पे लगाया और जोर से झटका दे दिया तो लंड थोड़ा अन्दर गया और वो दर्द से चिल्ला उठीं और मना करने लगीं, पर मैं कहां मानने वाला था. मैंने जोर से एक झटका मारा तो लंड आधा अन्दर चला गया… और फिर एक और झटका मारा तो सुमन मामी की रसीली गांड में पूरा लंड चला गया.
मामी को काफी दर्द हो रहा था लेकिन मामी दर्द सहती रही और अपनी गांड मरवाती रही. उसकी आहें निकल रही थी पर वे अपने होंठ दबा कर अपनी सिसकियाँ दबा रही थी.

अब मैं धीरे धीरे से अन्दर बाहर करने लगा. उन्हें भी दर्द कम हो गया और वो भी मेरा साथ देने लगीं. अब मामी भी बोल रही थीं- आह… फाड़ दे आज मेरी गांड…
मैं भी जोर जोर से गांड चोद रहा था. फिर थोड़े टाइम के बाद मेरा पानी निकलने वाला था, तो मैंने कहा- सुमन, मेरा वीर्य आने वाला है.
उन्होंने कहा- गांड में ही डाल दो.

मैंने झटके और तेज किए और मेरा पानी उनकी गांड में ही निकल गया. हम दोनों थक गए थे इसलिए वहीं पे थोड़ा टाइम लेट गए.

सुमन ने कहा- यार… आज तो मजा आ गया… आज मुझे पहली बार ऐसी चुदाई मिली है.

फिर थोड़े टाइम के बाद मेरा लंड वापस अपने जोश में आ गया और मैंने सुमन मामी को चोदना शुरू किया. वो भी मेरा साथ देने लगीं, मैंने उनके मम्मों को दबा दबा कर निचोड़ दिया और वो तो मुझे इतनी गाली दे रही थीं कि आप पूछो ही मत… साथ में मैं भी उनको चोदते हुए उनको गाली दे रहा था.

फिर 20 मिनट की चुदाई के बाद मेरा वीर्य निकलने वाला था. सुमन मामी का तो दो बार पानी निकल चुका था.

मैंने मेरा वीर्य उनके मुँह में निकाल दिया और उन्होंने बड़े प्यार से पी लिया और कहा- मुझे तेरे लंड से अभी और चुदवाना है.

मैंने कहा- मामी अभी कुछ देर तो रुको! दम तो लेने दो!

आधे घंटे तक हम दोनों नंगे ही लेटे रहे प्यार भरी बातें करते रहे.
तभी मामी ने मेरे लंड से खेलना शुरू कर दिया. मेरी कामवासना पुनः जागृत होने लगी, मेरे लंड में भी उत्थान आने लगा और मामी की चूत में अपना लंड डाल के फिर से चोदा.

उन्होंने कहा- भावेश राजा, अब जब तक यहां हो, रोज अपनी मामी की चुदाई के लिए आ जाना.

मैंने हर रोज सुमन मामी को चोदा और अब जब भी गाँव आता हूं तो सुमन मामी को जरूर चोदता हूं

ये मेरी दूसरी चुदाई की कहानी है, जो मैंने आपको बताई. इससे पहले मैंने अपनी सगी मामी की चूत चुदाई की कहानी
सेक्सी और हॉट मामी की चुदाई
आपको बताई थी.
      edit

0 comments:

Post a Comment